Loading...    
   


GWALIOR में लापता पुलिस आरक्षक का शव झाड़ियों में पड़ा मिला - MP NEWS

ग्वालियर
। मध्य प्रदेश पुलिस की जिला विशेष शाखा में पदस्थ आरक्षक जगदीश भदौरिया का शव कटारे फार्म हाउस की झाड़ियों में पड़ा मिला है। श्री भदौरिया 2 दिन से लापता थे। चौंकाने वाली बात यह है कि भदोरिया की लास्ट लोकेशन गदाईपुरा थी लेकिन जब कटारे फार्म हाउस की झाड़ियों में मिला। शरीर पर चोट के निशान नहीं है लेकिन लाश को पलटते ही मुंह से खून निकला। पुलिस समझ नहीं पा रही है कि मामला हत्या का है, आत्महत्या है या फिर किसी बीमारी के कारण नेचुरल डेथ हुई है। फॉरेंसिक टीम जांच पड़ताल कर रही है। इधर पुलिस डिटेल पोस्टमार्टम रिपोर्ट का भी इंतजार कर रही है।

चरवाहे ने झाड़ियों में शव के पड़े होने की सूचना दी

कटारे फार्म हाउस पर क्षेत्र के लोग जानवर चराने के लिए ले जाते हैं। शनिवार की शाम को एक चरवाहे को झाड़ियों में किसी व्यक्ति का शव पड़े होने की सूचना गोला का मंदिर थाना पुलिस को दी। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शव को निगरानी में ले लिया। शव की पहचान दो दिन से लापता सिपाही जगदीश भदौरिया निवासी नारायाण बिहार कालोनी के रूप में हुई। स्वजन भी मौके पर पहुंच गए। लापता सिपाही का शव संदिग्ध परिस्थितियों में मिलने की सूचना मिलते ही वरिष्ठ पुलिस अधिकारी भी आ गए। फोरेंसिक एक्सपर्ट अखिलेश भार्गव की निगरानी में पुलिस ने मृतक सिपाही की मौत से जुड़े साक्ष्य तलाश किए।

सिपाही शव को पलटते ही मुंह से खून निकला, लेकिन शरीर पर चोट के निशान नहीं

मृतक के शरीर पर चोटों के निशान देखने के लिए पुलिस ने शव को पलटा। शव को पलटते ही मुंह से खून निकला, लेकिन मृतक के शरीर पर कोई चोट का निशान नजर नहीं आया। पुलिस ने मृतक की जेबे टटोलकर देखी तो पर्स व मोबाइल गायब थे। पुलिस ने बताया कि मृतक जिन कपड़ों में गुरुवार को घर से निकला था, शरीर पर वो ही कपड़े थे। पुलिस आत्महत्या व हत्या से लेकर सामान्य मौत के एंगल पर जांच कर रही है। शुरूआती जांच के बाद पुलिस ने शव को डॉक्टरी परीक्षण के लिए डेड हाउस पहुंचा दिया है।

मोबाइल की अंतिम लोकेशन गदाईपुरा मिली थी

नारायण विहार कालोनी निवासी जगदीश पुत्र विहंगम सिंह भदोरिया गुरुवार को घर से ड्यूटी पर जाने के लिए निकला था। शाम को घर नहीं लौटने पर स्वजनों को चिंता हुई। परिवार के लोगों ने ऑफिस में संपर्क करने पर पता चला कि जगदीश भदौरिया आज ड्यूटी पर नहीं आया हैं। आरक्षक का मोबाइल भी बंद मिल रहा था। स्वजनों ने आरक्षक के संदिग्ध परिस्थतियों में गायब होने की सूचना गोला का मंदिर थाना पुलिस को दी थी। पुलिस ने सबसे पहले गुमशुदा आरक्षक के मोबाइल की अंतिम लोकेशन पता की। पुलिस को पता चला कि जगदीश भदौरिया का मोबाइल गदाईपुरा से बंद हुआ है। पुलिस जांच में यह भी पता लगा रही है कि सिपाही ड्यूटी पर जाने की बजाए वह गदाईपुरा कैसे पहुंच गया था।

बेटा लव मैरिज करना चाहता था, जगदीश भदौरिया तैयार नहीं था

शुरूआती जांच में पुलिस को पता चला है कि जगदीश भदौरिया बेटे की शादी को लेकर तनाव में था। बेटा अपनी पसंद की शादी करना चाहता था। मृतक इसके लिए तैयार नहीं था।

7 नवम्बर को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार



भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here