Loading...    
   


COLLEGE EXAM: महाराष्ट्र जनरल प्रमोशन पर अड़ा, दिल्ली चुप, यूपी ने कहा कल बताएंगे / UGC EXAM NEWS

नई दिल्ली। UGC- विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा फाइनल ईयर की परीक्षाओं के संदर्भ में दोबारा बयान जारी करने के बावजूद भारत की राज्य सरकार है जनरल प्रमोशन के फैसले को वापस लेने के मूड में नहीं है। महाराष्ट्र ने अपने फैसले को दोहराया है। दिल्ली UGC की गाइडलाइन को मानने से इंकार कर चुका है, उत्तर प्रदेश के डिप्टी सीएम ने कहा है कि इस मामले में हम कल फैसला करके बताएंगे। 

दूसरे बयान में क्या कहा है UGC- यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन ने 

विश्वविद्यालय की अंतिम वर्ष की परीक्षाओं को विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने एक बार से जरूरी करार देते हुए इसे छात्रों के व्यापक हित में बताया है। ऐसे में राज्य परीक्षाओं को लेकर कोई भी फैसला लेने से पहले छात्रों के हितों और शैक्षणिक गुणवत्ता पर पड़ने वाले प्रभाव का भी आंकलन करें। वहीं परीक्षाओं को लेकर जारी गाइडलाइन पर यूजीसी कहना है कि आयोग के रेगुलेशन के तहत सभी विश्वविद्यालय उसे मानने के लिए बाध्य है। हालांकि यह विवाद का समय नहीं है। सभी विवि को तय गाइडलाइन के तहत परीक्षाएं करानी चाहिए।

यूनिवर्सिटी चाहे तो ओपन बुक एग्जाम कराएं, लेकिन एग्जाम तो होंगे: UGC

आयोग के सचिव रजनीश जैन ने कहा कि उन्होंने सभी राज्यों को परीक्षाओं को लेकर जारी गाइडलाइन और उसे कराने के लिए तय किए गए मानकों का ब्यौरा भेज दिया है। फिर भी यदि विश्वविद्यालयों को किसी भी मुद्दे को लेकर कोई भ्रम है, तो वह संपर्क कर सकते है। उन्होंने कहा कि जहां तक बात परीक्षाओं की है तो कोरोना संकट के चलते वह पहले से इसे लेकर विश्वविद्यालयों को काफी सहूलियतें दे चुके हैं। इसमें वह ऑनलाइन और ऑफलाइन किसी भी तरीके से करा सकते हैं। जिसमें वह ओपन बुक एक्जाम, एमसीक्यू (मल्टीपल च्वायस क्यूश्चन) जैसे परीक्षा के तरीके भी अपना सकते है। 

भारत सरकार का HRD सभी राज्यों से बात करेगा

यूजीसी सूत्रों की मानें तो आयोग ने विवाद के बीच उन कानूनी पहलुओं को भी खंगालना शुरू कर दिया है, जिसके दायरे में सभी विवि आते हैं। हालांकि यूजीसी के जुड़े अधिकारियों का कहना है, कि वह इस विवाद में नहीं पड़ना चाहते हैं। वैसे भी इसे लेकर काफी राजनीति हो रही है। सूत्रों के मुताबिक मानव संसाधन विकास मंत्रालय भी राज्यों के साथ इसे मुद्दे पर जल्द चर्चा कर सकता है।

जनरल प्रमोशन दिया तो डिग्री अमान्य हो जाएगी: UGC

उनका कहना है कि कोरोना के इस संकटकाल में भी दुनिया का कोई विवि या उच्च शैक्षणिक संस्थान बगैर परीक्षा या असेसमेंट के सर्टिफिकेट नहीं दे रहा है। ऐसे में यदि भारतीय विश्वविद्यालय ऐसा करते है, तो इसका असर उनकी वैश्विक साख पर भी पड़ेगी। साथ ही जो भारतीय छात्र अपनी डिग्रियों या सर्टिफिकेट को लेकर नौकरियों के लिए जाएंगे, उन्हें भी इस चुनौती की सामना करना पड़ सकता है। यूजीसी देश में विश्वविद्यालयों की सबसे बड़ी नियामक संस्था है। सभी डिग्री कोर्स इसकी मंजूरी के बाद ही मान्य होते है। इसके साथ ही सभी विश्वविद्यालयों को शैक्षणिक और शोध से जुड़ी गतिविधियों को संचालित करने के लिए यह वित्तीय मदद भी देती है। 

15 जुलाई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

सरकारें समझ नहीं रहीं, ऐसे तो कोरोना और बढ़ता जाएगा: WHO प्रमुख डॉ टेड्रोस 
मात्र ₹1 में भगवान ने महिला की मृत्यु टाल दी 
भोपाल की हाई प्रोफाइल लॉबी में दिन भर चलती रही प्यारे मियां की चर्चा, कई रसूखदारों की नींद उड़ी 
MPPEB ने सभी परीक्षाओं को रीशेड्यूल करने प्रस्ताव भेजा 
राजा-महाराजा मुकुट क्यों पहनते थे, कोई विज्ञान है या सिर्फ शान के लिए, पढ़िए
UGC COLLAGE EXAM: गाइडलाइन के बावजूद जनरल प्रमोशन का एलान
COLLAGE EXAM के बारे में UGC का नया बयान, राज्य सरकारें जनरल प्रमोशन की घोषणा कर सकती हैं या नहीं
MP BOARD 10th-12th अटक गए स्टूडेंट के लिए आगे बढ़ने दूसरा मौका
MP BOARD 12th: चूक गए छात्रों के लिए विशेष परीक्षा कार्यक्रम
RGPV : परीक्षाओं के लिए नई योजना तैयार, माह के अंत में होंगे एग्जाम
MPPEB ने सभी परीक्षाओं को रीशेड्यूल करने प्रस्ताव भेजा
जबलपुर अपर आयुक्त की बेटी के विवाह में 21 कोरोना पॉजिटिव, 100 से ज्यादा संदिग्ध
छींक आने पर मनुष्य की आँखें बंद क्यों हो जातीं हैं
इंदौर लॉकडाउन पर आपदा प्रबंधन समिति का फैसला
मप्र कैबिनेट मीटिंग का आधिकारिक प्रतिवेदन
मध्यप्रदेश में गणेश उत्सव, ईद और ताजिए सार्वजनिक नहीं होंगे: गृहमंत्री
UGC COLLAGE EXAM: भारी विरोध के बाद सरकार का नया फैसला
क्या वोल्टेज अपडाउन से चार्ज पर लगा स्मार्टफोन खराब हो जाता है


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here