Loading...    
   


असिस्टेंट कमिश्नर मीणा: जून में बहाल हुए जुलाई में BJP विधायक से लड़ पड़े, छिंदवाड़ा ट्रांसफर / MP NEWS

भोपाल। आदिम जाति कल्याण विभाग के असिस्टेंट कमिश्नर एलआर मीणा का तबादला श्योपुर से छिंदवाड़ा कर दिया गया है। शायद इसलिए ताकि वह जनप्रतिनिधियों के साथ व्यवहार करने का तरीका सीख जाएं। श्री मीणा पर आरोप है कि वह विधायकों के साथ अपने रिश्ते पर विवादित कर लेते हैं। कांग्रेस विधायक बाबू जंडेल की शिकायत पर सस्पेंड होने के बाद जून माह में बड़ी मुश्किल से बाहर हुए थे और जुलाई खत्म होने से पहले बीजेपी विधायक सीताराम आदिवासी से लड़ पड़े। 

विधायक की मर्जी के खिलाफ ₹300000 खर्च कर दिए

विधायक सीताराम आदिवासी ने बताया कि वह पिछले सप्ताह आदिम जाति कल्याण विभाग के सहायक आयुक्त एलआर मीणा के पास गए और सहरिया अभिकरण के बजट की जानकारी ली तब मीणा ने फंड में 30 लाख का बजट बताया। विधायक ने इस राशि से सहरिया परिवारों के खेतों में सिंचाई, बिजली, खाद, बीज व उद्यानिकी जैसे कामों पर खर्च करने को कहा। विधायक का कहना है कि उनके मना करने के बाद भी यह पैसा पंचायतों में सीसी सड़कें, नाला व रपटा बनाने जैसे कामों पर खर्च करने की फाइलें चल गईं।

कलेक्टर ने शिकायत नहीं सुनी, विधायक को भोपाल आना पड़ा

विधायक के अनुसार वह मंगलवार को फिर मीणा के पास गए तो सहायक आयुक्त ने उन्हें अभद्रता के साथ जबाव दिया। वह कलेक्टर आरके श्रीवास्तव के पास शिकायत लेकर गए लेकिन कोई ठोस जबाव नहीं मिला तो सीधे भोपाल रवाना हो गए और मीणा का तबादला करवा दिया। 

सहायक आयुक्त एलआर मीणा का कांग्रेस विधायक बाबू जण्डेल से भी विवाद हो चुका है

पहले कांग्रेस विधायक व उनके भाई पर लगाए भ्रष्टाचार के आरोप सहायक आयुक्त एलआर मीणा का इससे पूर्व कांग्रेस विधायक बाबू जण्डेल से खुलकर विवाद चला। विधायक जण्डेल ने रिश्वत लेकर शिक्षकों के तबादले करने के आरोप लगाए तो एलआर मीणा ने विधायक जण्डेल व उनके भाई हंसराज पर रिश्वत लेकर ट्रांसफर के लिए दबाव बनाने के आरोप लगाए। यह मामला इतना तूल पकड़ा कि विधायक जण्डेल की शिकायत पर एलआर मीणा दिसंबर 2019 में सस्पेंड हो गए। 6 माह बाद जून 2020 में वह फिर से बहाल होकर श्योपुर में पदस्थ हो गए।

मनमाने खर्चे की फाइल पर कलेक्टर के भी सिग्नेचर है

सहायक आयुक्त की अभद्रता की शिकायत मैंने पहले कलेक्टर से की थी लेकिन, उन्होंने सुनवाई नहीं की। हकीकत तो यह कि सहरिया विकास के फंड से जो पैसा गलत खर्च हुआ है उन फाइलों पर कलेक्टर के भी हस्ताक्षर हैं। सहरियाओं का पैसा श्योपुर किले में तक लगाया गया है। यह पूरी गड़बड़ी अफसरों ने खुद के कमीशन के लिए की है। - सीताराम आदिवासी, भाजपा विधायक


11 जुलाई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

ग्वालियर से विकास दुबे के कनेक्शन पान मसाला व्यापारी पांडे बंधु गिरफ्तार
शिक्षक, कोरोना के बाद स्कूल ड्यूटी पर आ गए, कमिश्नर DPI ट्रांसफर पॉलिसी नहीं बना पाईं 
यदि कहीं कोहनी टकरा जाए तो करंट सा क्यों लगता है
पंखा चलाने से धूल उड़ती है तो फिर पंखुड़ी पर क्यों चिपक जाती है
भोपाल में माँ ने BF से चैटिंग करने मना किया तो इंपीरियल हारमनी की छठवीं मंजिल से कूदी छात्रा, मौत
जबलपुर अपर आयुक्त की बेटी के विवाह में कोरोना फैला, अब तक 10 पॉजिटिव
सरकारी नोटिस का पालन नहीं किया तो FIR भी हो सकती है, पढ़िए कैसे
इंदौर में 17 साल छोटे बॉयफ्रेंड ने 45 साल की ब्यूटी पार्लर संचालिका की हत्या की
BIG NEWS! जबलपुर में पटरी पर सफलतापूर्वक दौड़ी बैटरी वाली बड़ी यात्री ट्रेन
IAS बनना है तो निबंध के साथ एक बात और याद रखें: UPSC टॉपर वैशाली सिंह ने बताया
राज्य शिक्षा केन्द्र: व्यापमं पास कर्मचारियों की फिर से परीक्षा ले रहा है
भोपाल का एक इलाका 12 से 19 जुलाई तक लॉकडाउन, कलेक्टर के आदेश
संदेशवाहक कबूतर प्राप्तकर्ता का पता कैसे खोज लेते थे, पढ़िए मजेदार रहस्य की बात
विकास दुबे: देखिए किस गाड़ी में सवार था कौन सी पलटी, शिवपुरी में तो मुस्कुरा रहा था
पहले कह रहे थे जिंदा क्यों पकड़ लिया, अब पूछ रहे हैं मर कैसे गया: गृह मंत्री मध्यप्रदेश
मध्य प्रदेश कोरोना: एक्टिस केस की संख्या 3500 के पार, 5 जिलों में 100 से ज्यादा


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here