Loading...    
   


भोपाल नवाब ने 'भारत माता की जय' बोलने वालों को गोलियों से भून दिया था / BHOPAL NEWS

भोपाल। भारत देश  भले ही 15 अगस्त 1947 को आजाद हो गया था, लेकिन भोपाल के नागरिकों को आजादी नहीं मिली। 15 अगस्त 1947 से लगातार 01 जून 1949 तक यानी 659 दिन भोपाल पर नवाब का शासन रहा। यहां भारत का राष्ट्रध्वज तिरंगा फहराना गुनाह माना जाता था। अंतत: एक जबर्दस्त संघर्ष के बाद 01 जून 1949 को भोपाल में तिरंगा लहराया और आजादी का ऐलान किया गया। 

नवाब हमीदुल्ला खाॅं भोपाल को स्वतंत्र राज्य बनाना चाहते थे

भोपाल रियासत के भारत गणराज्य में विलय में लगभग दो साल का समय इसलिए लगा कि, भोपाल नवाब हमीदुल्ला खाॅं इसे स्वतंत्र रियासत के रूप में रखना चाहते थे। साथ ही हैदराबाद निजाम उन्हें पाकिस्तान में विलय के लिए प्रेरित कर रहे थे जो कि भौगोलिक दृष्टि से असंभव था। आजादी के इतने समय बाद भी भोपाल रियासत का विलय न होने से जनता में भारी आक्रोश था जो विलीनीकरण आन्दोलन में परिवर्तित हो गया, जिसने आगे जाकर उग्र रूप ले लिया।


आजादी के लिए विलीनीकरण आन्दोलन चलाया गया

भोपाल रियासत के भारत संघ में विलय के लिए चल रहे विलीनीकरण आन्दोलन की रणनीति और गतिविधियों का मुख्य केन्द्र रायसेन जिला था। रायसेन में ही उद्धवदास मेहता, बालमुकन्द, जमना प्रसाद, लालसिंह ने विलीनिकरण आन्दोलन को चलाने के लिए जनवरी-फरवरी 1948 में प्रजा मंडल की स्थापना की थी। रायसेन के साथ ही सीहोर से भी आन्दोलनकारी गतिविधियाॅं चलाई गईं। नवाबी शासन ने आन्दोलन को दबाने का पूरा प्रयास किया। आन्दोलनकारियों पर लाठिया-गोलियां चलवाईं गईं।

भोपाल की आजादी के लिए बोरास में 4 युवक शहीद हुए

भोपाल की नई पीढ़ी के कुछ ही लोगों को यह जानकारी होगी कि भोपाल रियासत के विलीनीकरण मेें रायसेन जिले के ग्राम बोरास में 4 युवा शहीद हुए। यह चारों शहीद 30 साल से कम उम्र के थे। इनकी उम्र को देखकर उस वक्त युवाओं में देशभक्ति के जज्बे का अनुमान लगाया जा सकता है। शहीद होने वालों में श्री धनसिंह आयु 25 वर्ष, मंगलसिंह 30 वर्ष, विशाल सिंह 25 वर्ष और एक 16 वर्षीय किशोर मा. छोटेलाल शामिल था। इन शहीदों की स्मृृति में उदयपुरा तहसील के ग्राम बोरास में नर्मदा तट पर 14 जनवरी 1984 में शहीद स्मारक स्थापित किया गया है। नर्मदा के साथ-साथ बोरास का यह शहीद स्मारक भी उतना ही पावन और श्रृद्धा का केन्द्र है। प्रतिवर्ष यहां 14 जनवरी को विशाल मेला आयोजित होता आ रहा है।

भोपाल में भारत माता की जय का नाला लगाने वालों को गोलियों से भून दिया गया था

14 जनवरी 1949 को उदयपुरा तहसील के ग्राम बोरास के नर्मदा तट पर विलीनीकरण आन्दोलन को लेकर विशाल सभा चल रही थी। सभा को चारों ओर से भारी पुलिस बल ने घेर रखा था। सभा में आने वालों के पास जो लाठियां और डण्डे थे उन्हें पुलिस ने रखवा लिया था। विलीनीकरण आन्दोलन के सभी बड़े नेताओं को पहले ही बन्दी बना लिया गया था। बोरास में 14 जनवरी को तिरंगा झण्डा फहराया जाना था। आन्दोलन के सभी बड़े नेतओं की गैर मौजूदगी को देखते हुएं बैजनाथ गुप्ता आगे आए और उन्होंने तिरंगा झण्डा फहराया। तिरंगा फहराते ही बोरास का नर्मदा तट भारत माता की जय और विलीनीकरण होकर रहेगा नारों से गूंज उठा। पुलिस के मुखिया ने कहा जो विलीनीकरण के नारे लगाएगा, उसे गोलियों से भून दिया जाएगा। उस दरोगा की यह धमकी सुनते ही एक 16 साल का किशोर छोटेलाल हाथ में तिरंगा लेकर आगे आया और उसने भारत माता की जय और विलीनीकरण होकर रहेगा नारा लगाया। पुलिस ने छोटेलाल पर गोलियां चलाई और वह गिरता इससे पहले धनसिंह नामक युवक ने तिरंगा थाम लिया, धनसिंह पर भी गोलिया चलाई गई, फिर मगलसिंह पर और विशाल सिंह पर गोलियां चलाई गईं लेकिन किसी ने भी तिरंगा नीचे नहीं गिरने दिया। ये चारो युवा शहीद हो गए लेकिन तिरंगा नीचे नहीं गिरने दिया। इस गोली काण्ड में कई लोग गम्भीर रूप से घायल हुए। बोरास में आयोजित विलीनीकरण आन्दोलन की सभा में होशंगाबाद, सीहोर से बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए थे।

बोरास गोली कांड से भड़के आंदोलनकारी, नवाब डर गया

बोरास में 16 जनवरी को शहीदों की विशाल शव यात्रा निकाली गई जिसमें हजारों लोगों ने अश्रुपूरित श्रृृद्धांजली के साथ विलीनीकरण आन्दोलन के इन शहिदों को विदा किया। अंतिम विदाई के समय बोरास का नर्मदा तट शहीद अमरे रहे और भारत माता की जय के नारो से आसमान गुंजायमान हो उठा। बोरास के गोली काण्ड की सूचना सरदार वल्लभ भाई पटेल को मिलते ही उन्होंने श्री बीपी मेनन को भोपाल भेजा था। भोपाल रियासत का 01 जून 1949 को भारत गणराज्य में विलय हो गया और भारत की आजादी के 659 दिन बाद भोपाल में तिरंगा झण्डा फहाराया गया।

01 जून को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

पालतू कुत्तों की पूंछ क्यों काट दी जाती है, क्या कोई साइंस है या बस देखा-देखी
इंदौर में व्यापारी के गोदाम से नोटों से भरे बोरे,1 ट्रक 4 गाड़ियां भरकर गुटखा बरामद
MP BOARD 10th-12th EXAM RESULT कब आएगा, यहां पढ़िए
जीतू पटवारी ने मध्यप्रदेश विधानसभा उपचुनाव में हार स्वीकारी ?
बैंक वाले चेक के पीछे सिग्नेचर क्यों करवाते हैं, जबकि वहां सिग्नेचर मार्क नहीं होता
जब खून लाल है तो नसों का रंग नीला क्यों होता है
DATING APP पर मिली गर्लफ्रेंड वीडियो बनाकर ब्लैकमेल करने लगी
यदि समुद्र के पानी को मीठा कर दिया जाए तो क्या होगा
कोरोना तक प्राइमरी स्कूल बंद रहेंगे, मिडिल-HSS स्कूल सितंबर से: बाल आयोग
1 जून से 12 ट्रेनें ग्वालियर में रुकेंगी, टाइम और नंबर बदल गया है
लॉकडाउन 5.0: मुख्यमंत्री ने बताया, क्या खुलेगा - क्या बंद रहेगा
मध्यप्रदेश में कोरोना 8000 के पार, 23 जिलों में 198 पॉजिटिव
आपका मोबाइल नंबर बदलने वाला है, TRAI की तरफ से तैयारी हो गई है
इंदौर में पत्नी को लेने गए युवक को ससुरालवालों ने जिंदा जला दिया
निर्माणाधीन बिल्डिंग का गिर जाना हादसा होता है या अपराध, यहां पढ़िए
भूख से बिलखते नवजात शिशु को बस स्टॉप पर छोड़ दिया क्योंकि माँ भी भूखी थी, दूध तक नहीं निकल रहा था
ड्रग इंस्पेक्टर के खिलाफ जबलपुर की मेडिकल स्टोर्स बंद, सस्पेंड करने के बाद भी नहीं खुली


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here