Loading...    
   


भोपाल में कोरोना संदिग्धों को चिरायु से मैनिट में शिफ्ट करने पर 7 घंटे हुआ हंगामा / BHOPAL NEWS

भोपाल। चिरायु कोविड सेंटर से शुक्रवार दोपहर 140 संदिग्धों को मैनिट के क्वारेंटाइन सेंटर में शिफ्ट करने के दौरान काफी हंगामा हुआ। ये लोग कॉन्टैक्ट हिस्ट्री के आधार पर चिरायु में क्वारेंटाइन किए गए थे। इनकी कोरोना टेस्ट रिपोर्ट पहले ही निगेटिव आ चुकी है। जब उन्हें मैनिट में फिर से क्वारेंटाइन करने के बारे में बताया गया तो वे हंगामा करने लगे। लोग उन्हें शिफ्ट करने के लिए बुलाई गई बसों के आगे बैठ गए।

करीब सात घंटे तक उहापोह की स्थिति बनी रही। बारिश के बीच गर्भवती महिला और बुजुर्ग परेशान होते रहे। बाद में इन्हें समझा-बुझाकर बस से मैनिट भेज दिया गया। रात में उन्हें मैनिट के हॉस्टल नंबर 11 में शिफ्ट किया गया। इन लोगों का आरोप है कि इन्हें पहले घर भेजने काे कहा गया था। फिर मैनिट में कोरोना मुक्त होने का सर्टिफिकेट देकर छुटटी देने की बात कही गई। जब मैनिट भेजने की बात आई तो लोग भड़क गए। इन लोगों ने जब एक डॉक्टर पर दबाव डालकर पूछा तो उन्होंने बताया कि उनका क्वारेंटाइन पूरा नहीं हुआ है। हफ्तेेभर मैनिट में रहने के बाद छुट्‌टी देंगे।

हालांकि चिरायु में अभी भी 300 से ज्यादा संदिग्ध क्वारेंटाइन हैं। लगभग रोज ही तीन से पांच दिन की निगरानी के बाद निगेटिव रिपोर्ट वालों को अन्य सेंटर भेजा जा रहा है। क्वारेंटाइन से शिफ्ट किए गए सभी लोग कोरोना पॉजिटिव के फर्स्ट कॉन्टैक्ट हैं। शहर के अलग-अलग हिस्सों से यहां लाए गए थे। इनमें बैरागढ़ कैम्प नंबर 12 के 19 लोग भी शामिल थे। उन्हें 30 मई से यहां रखा गया था। लाेगाें का कहना था कि वे पूरी तरह से स्वस्थ हैं, उनमें किसी तरह के लक्षण नहीं है, उनकी जांच रिपोर्ट भी निगेटिव आ चुकी है। प्रशासन उन्हें घर भेज दे, वे घर में क्वारेंटाइन हाे जाएंगे। लेकिन, जिम्मेदार इसके लिए तैयार नहीं थे। शाम करीब सात बजे तक हंगामा चलता रहा।

आरिफ खान, बैरागढ़ के मुताबिक, मेरी पत्नी काे आठ महीने का गर्भ है। हमें झूठ बाेलकर क्वारेंटाइन सेंटर से बाहर लाए। बारिश में भीगे और घंटाें खड़े रहने से पत्नी काे असहनीय पीड़ा हुई। अब मैनिट में रखा है, हम चाहते थे कि घर पर ही क्वारेंटाइन किया जाए।

सिर्फ 1 बाेतल पानी दिया 

शाबिर खान, बैरागढ़ के मुताबिक, पहले घर भेजने और फिर सर्टिफिकेट देने के बहाने मैनिट ले जाने की काेशिश की गई। पता चला ताे जबरन मैनिट में लाकर रख दिया है। यहां एक बाेतल पानी दिया है और साढे दस बजे तक खाना भी नहीं दिया गया है।

कलेक्टर ने कहा  

कलेक्टर तरुण पिथोड़े ने बताया कि चिरायु के आईसोलेशन सेंटर से संदिग्धों को क्वारेंटाइन सेंटर शिफ्ट करने के लिए डिस्चार्ज किया गया है। सभी की जांच रिपोर्ट कोरोना निगेटिव आई है। हालांकि पहली रिपोर्ट के आधार पर उन्हें क्लीनचिट नहीं दी जा सकती। कोई बाद में पॉजिटिव हो सकता है। इसलिए उन्हें क्वारेंटाइन सेंटर में ही रखा गया है।

लक्षण नहीं आने पर कर देते हैं शिफ्ट

-डाॅ. अजय गाेयनका,  डायरेक्टर, चिरायु अस्पताल के मुताबिक, पाॅजिटिव मरीज के फर्स्ट कांटैक्ट वाले लाेगाें काे क्वारेंटाइन में रखकर सैंपल लिए जाते हैं। इनकी सतत निगरानी की जाती है ताकि किसी मरीज की तबीयत बिगड़े ताे उसका तुरंत इलाज शुरू किया जा सके। तीन दिन में काेई लक्षण नहीं आने और रिपाेर्ट निगेटिव आने पर प्रशासन की ओर से बनाए गए 15 में से किसी भी क्वारेंटाइन सेंटर में शिफ्ट किया जाता है। शुक्रवार को भी यही किया जा रहा था।


06 जून को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

मैं कांग्रेस में लौट आया हूं 'महाराज' आने वाले हैं: सत्येंद्र यादव
दिवालिया बैंक में पैसा डूब जाता है तो क्या लिया गया LOAN भी नहीं चुकाना पड़ता
सिंधिया के सवाल पर तोमर ने कहा: भाजपा किसी को पचाने में सक्षम है
चिन्ह और चिह्न में से क्या सही है और क्या गलत, प्रमाण सहित उत्तर यहां पढ़िए
इंदौर में जिस व्यापारी के यहां नोटों से भरे बोरे मिले, वो पाकिस्तानी निकला
जबलपुर में युवक ने खंडहर में नाबालिग को हवस का शिकार बनाया
भोपाल में कंटेनमेंट क्षेत्रों की नई लिस्ट, 10 इलाके अनलॉक, 33 नए लॉकडाउन
भोपाल में देह व्यापार अनलॉक, 5 लड़कियों के साथ सीहोर का किसान गिरफ्तार
MP BOARD EXAM के लिए प्रवेश-पत्र जारी, यहां से डाउनलोड करें
ग्वालियर नगर निगम ने नामांतरण शुल्क 50 से 5000 कर दिया, चेंबर ऑफ कॉमर्स नाराज
छतरपुर में युवा कर्मचारी ने CMO की पत्नी को गोलियां मारीं, घटना के समय दोनों घर में अकेले थे
धूम्रपान करने वालों के खिलाफ IPC की किस धारा के तहत FIR दर्ज होगी
सॉफ्ट ड्रिंक बॉटल का बेस 5 पॉइंट वाला क्यों होता है जबकि मिनरल का फ्लैट
ज्योतिरादित्य सिंधिया: राज्यसभा चुनाव के बाद भी चैन से नहीं बैठ पाएंगे
आईएएस अधिकारियों की नवीन पदस्थापनाएं
सीएम शिवराज सिंह गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा के घर क्यों गए, जवाब की तलाश
कामवाली बाई से एन्क्लेव के 20 लोग पॉजिटिव, 750 क्वॉरेंटाइन
कोरोना के लक्षण दिखाई देते ही क्या करें: 1000 मरीजों का ठीक करने वाले डॉ. गोयनका के सुनिए


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here