Loading...    
   


शिवराज सर, आपको याद है दिव्यांग सहायक प्रध्यापक आपसे मिले थे, आपने कहा था... / KHULA KHAT

पूर्व चयनित दिव्यांग सहायक प्रध्यापक के पक्ष में दिनांक 29-4-2020 को आया जबलपुर हाईकोर्ट का आदेश था। मध्यप्रदेश शासन को एक माह मे नियुक्ति देने के आदेश दिया था परन्तु एक माह बाद अभी तक दिव्यांगों को नियुक्ति का इंतजार करना पड रहा है। जबकि केन्द्र में मोदी सरकार समय समय पर दिव्यांगो के पदों को भरने के लिए अधिसूचना भी लाती रही है परन्तु इसका सही तरीके से पालन नही हो रहा है। 

अब केन्द्र और मध्यप्रदेश में भाजपा की सरकारे हैं। पूर्व चयनित दिव्यांगो ने इससे पूर्व में चयन से बाहर होने के तुरंत बाद तत्कालीन उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी जी से मुलाकात की थी तब उनका कहना था कि हाईकोर्ट के आदेश पर हम नियुक्ति देने को तैयार हैं ऐसे में अब ये देखना होगा कि शिवराज सरकार दिव्यांगो के  प्रति कितनी संवेदनशील है और कितनी जल्दी नियुक्ति देती है जो एक वर्ष से मानसिक ,सामाजिक और आर्थिक रूप से प्रताड़ित हो रहे हैं।

सीनियर एडवोकेट एस.के.रूगटा ने पूर्व चयनित दिव्यांगो के पक्ष में सुप्रीम कोर्ट में केविएट नं 3006/2020 भी लगा दी है ताकि दिव्यांगो के साथ किसी भी तरह का अन्याय न हो। जबलपुर हाईकोर्ट के आदेश के अनुसार सरकार को एक माह मे कुल केडर इस्टैंन्थ का 6% आरक्षण दिव्यांग अभ्यर्थियों को देने का आदेश दिया है, यानि, हिंदी विषय में 2011 की गजट अधिसूचना में सहायक प्रध्यापक के 586 पद थे और 12-4-2018 के सहायक प्रध्यापक परीक्षा-2017 के विज्ञापन में नवीन सृजित 114 रिक्तियां थीं, जो कुल योग बनता है 700 पद जिसपर 6% आरक्षण 42 पद दिव्यांग अभ्यर्थियों दिये जाने चाहिए।

इसी तरह अन्य सभी विषयों की गणना की जायेगी। ये पूर्व चयनित दिव्यांग पहले भी शिवराज सिंह चौहान जी (मुख्यमंत्री नहीं थे) से मिले थे तब उन्होंने कहा था कि अभी उनकी सरकार नही है नही तो वो उनकी सहायता करते और उनके साथ अन्याय नहीं होने देते। अब दिव्यांगो को शिवराज सरकार से जल्दी नियुक्ति की आस है।                                                          

मुख्यमंत्री जी, कृपया केन्द्र मे मोदी सरकार की तरह दिव्यांगो के प्रति संवेदनशीलता दिखाते हुए जल्दी नियुक्ति देने कृपा करे। बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के साथ मध्यप्रदेश की मुझ जैसी पूर्व चयनित दिव्यांग बेटीयों को रोजगार देने की कृपा करें। धन्यवाद
- डाॅ बबीता राठौर ,याचिकाकर्ता (अस्थिबाधित) भोपाल, मध्यप्रदेश।

30 मई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

बादल नीचे क्यों नहीं गिरते जबकि वह पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण में होते हैं
हीटर से आग पैदा होती है तो उसकी डोरी क्यों नहीं जलती
चुंबकीय क्षेत्र कमजोर हो गया, क्या पृथ्वी पर भी लोग चांद की तरह उड़ने लगेंगे, पढ़िए
दिल्ली अप्रूवल के लिए भेजी गई शिवराज सिंह मंत्री मंडल की प्रस्तावित लिस्ट लीक
भारतीय संविधान से आर्टिकल-30 खत्म करवाना चाहती है भाजपा, बहस आमंत्रित
पापा अपनी पत्नी को कहना रोने का नाटक ना करें, लिखकर 12वीं की छात्रा ने सुसाइड कर लिया
कर्मचारी से घटिया मशीन चलवाना अपराध है, कंपनी मालिक जेल जाएगा, पढ़िए
पैडमेन की एक्ट्रेस प्रेक्षा मेहता ने इंदौर में सुसाइड किया
भोपाल के शराब कारोबारी ने 4 फैमिली मेंबर्स के लिए 180 सीट वाला हवाई जहाज किराए पर लिया
पनीर और चीज़ में सबसे अच्छा क्या है, दोनों में क्या अंतर है
बैंक वाले चेक के पीछे सिग्नेचर क्यों करवाते हैं, जबकि वहां सिग्नेचर मार्क नहीं होता
मध्यप्रदेश में कमलनाथ ने कांग्रेस को बर्बाद कर दिया: बागी हुए वरिष्ठ नेता ने कहा
DATING APP पर मिली गर्लफ्रेंड वीडियो बनाकर ब्लैकमेल करने लगी
रीवा में आंधी-तूफान, होर्डिंग गिरा, बैंक मैनेजर की मौत
मप्र के सरकारी और प्राइवेट कॉलेजों की परीक्षा की तारीख घोषित


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here