Loading...    
   


दिग्विजय सिंह का दलित एजेंडा रिवर्स मारा गया, राज्यसभा सीट खतरे में | MP NEWS

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजनीति में चतुर चाणक्य के रूप में प्राण प्रतिष्ठित दिग्विजय सिंह का दलित एजेंडा दूसरी बार भी रिवर्स मार गया। पिछली बार उनकी मुख्यमंत्री वाली कुर्सी हाथ से निकल गई थी। इस बार राज्यसभा की सीट खतरे में है। कांग्रेस में मांग तेज हो गई है कि मध्य प्रदेश से दलित नेता फूल सिंह बरैया को राज्यसभा भेजा जाए। यदि ऐसा किया गया तो मध्य प्रदेश में 6 महीने बाद फिर से कांग्रेस की सरकार होगी।

मध्य प्रदेश में 6 महीने बाद फिर से कांग्रेस की सरकार के लिए सिर्फ एक फार्मूला 

कांग्रेस नेताओं का कहना है कि मध्य प्रदेश की 24 सीटों पर उपचुनाव होना है। यह उपचुनाव कोई सामान्य चुनाव नहीं होगा बल्कि इस चुनाव से फाइनल होगा कि मध्यप्रदेश में शेष 3 साल किसकी सरकार रहेगी। यदि कांग्रेस पार्टी 24 में से 17 सीटें जीत जाती है तो मध्यप्रदेश में फिर से कांग्रेस की सरकार होगी। यहां याद रखना जरूरी है कि जिन 22 विधायकों ने इस्तीफा दिया है वह सभी कांग्रेस के थे यानी यह सभी सीटें कांग्रेस की है। फार्मूला यह है कि यदि फूल सिंह बरैया को राज्यसभा भेजा जाए तो दलित वोट कांग्रेस की ओर प्रभावित होगा और एक बार फिर मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बन जाएगी। 

क्या दिग्विजय सिंह कांग्रेस पार्टी के लिए सांसद पद का बलिदान देंगे 

यह तो सुनिश्चित है कि मध्यप्रदेश में कांग्रेस पार्टी के विधायक उसी को वोट देंगे जिसे दिग्विजय सिंह चाहेंगे। कांग्रेस हाईकमान इस मामले में दखल नहीं देगा यह बीते है क्योंकि कांग्रेस हाईकमान मध्य प्रदेश की किसी भी मामले में दखल नहीं देता। मध्य प्रदेश के सभी मामलों का फैसला दिग्विजय सिंह करते हैं। उनकी बात सोनिया गांधी तक पहुंचाने के लिए कभी कमलनाथ तो कभी कोई और नेता माध्यम बनता है। फूल सिंह बरैया को राज्यसभा का कैंडिडेट दिग्विजय सिंह ने अपने दलित एजेंडे के तहत ही बनाया था। अब देखना यह है कि क्या दिग्विजय सिंह अपने दलित एजेंडे के लिए, पर्सनल एजेंडे का बलिदान करेंगे।

आज 23 मार्च को सबसे ज्यादा पढ़ी गई खबरें 

खबर पर मुहर: केंद्रीय नेतृत्व शिवराज के नाम पर सहमत, विधायक दल की मीटिंग बुलाई
Jio ने कर्मचारियों के लिए लांच किया Work from Home Data Plan, 2GB डेली डाटा मिलेगा
कमलनाथ का एक और फेलियर: बागी विधायकों ने नंबर बदल लिए थे, सीएम को पता नहीं चला
MPPEB NEWS: अप्रैल से जून तक की एंट्रेंस एग्जाम का कैलेंडर जारी
Missing Mobile की Location सिंगल क्लिक पर यह देखें
यदि चलती ट्रेन में ड्राइवर बेहोश हो जाए तो क्या होगा, पढ़िए | GK IN HINDI
चीन से ग्वालियर आया युवक, डॉक्टरों ने जांच नहीं की, इलाके में दहशत 
भोपाल में आधा दर्जन से ज्यादा कोरोना संदिग्ध, पड़ोसियों ने बताया लेकिन टीम नहीं आई 
नेशनल पेंशन स्कीम में हर कर्मचारी को 25 हजार का घाटा हो गया

22 मार्च की सबसे ज्यादा पढ़ी गई खबरें

क्या ट्रक की तरह ट्रेन को धक्का देकर चालू किया जा सकता है, पढ़िए 
कोरोना वायरस: ग्वालियर कलेक्टर गाइडलाइन जारी 
सिर्फ मादा मच्छर इंसानों का खून क्यों पीती है, जबकि महिलाएं हिंसा पसंद नहीं करती
9वीं और 11वीं के विद्यार्थी परीक्षा परिणाम घर से देख सकेंगे
जबलपुर अस्पताल में कोरोना के नाम पर लोगों को कैद कर दिया गया (वीडियो देखें)
लॉक-डाउन क्या होता है: क्या कर सकते हैं क्या नहीं कर सकते 
मध्य प्रदेश के 9 जिले लॉकडाउन, बाजार बंद, सीमाएं सील 
यदि चलती ट्रेन में ड्राइवर बेहोश हो जाए तो क्या होगा, पढ़िए
MPPEB NEWS: अप्रैल से जून तक की एंट्रेंस एग्जाम का कैलेंडर जारी
मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव-2 के लिए सचिवालय से अधिसूचना जारी


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here