इंदौर में 3138 लोग विदेश से लौटे, लगभग 70% लोगों ने छुपाई जानकारी | INDORE NEWS
       
        Loading...    
   

इंदौर में 3138 लोग विदेश से लौटे, लगभग 70% लोगों ने छुपाई जानकारी | INDORE NEWS

इंदौर। संभाग के तीन जिलों में करीब 3368 लोग 1 से 21 मार्च के बीच विदेश यात्राएं करके लौटे हैं। इनमें सर्वाधिक 3138 लोग इंदौर जिले के हैं, जबकि खंडवा के 150 और धार जिले के 80 लोग शामिल हैं। इनमें वे लोग हैं जो विदेश यात्रा करके दिल्ली-मुंबई जैसे बड़े शहरों के एयरपोर्ट पर उतरे और वहां से ट्रेन, बस, टैक्सी से यात्रा करके अपने शहर और घर तक पहुंचे हैं। इन लोगों ने अब तक अपनी यात्रा की जनकारी छिपाकर रखी है। 

कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए भारत सरकार ने इन लोगों की सूची इंदौर सहित संबंधित जिलों के कलेक्टरों को भेजी है। अब एक-एक यात्री के घर जाकर उनकी मेडिकल जांच कर पता लगाया जाएगा कि कहीं उन्हें कोरोना के लक्षण तो नहीं हैं। यह सर्वे 24 घंटे में किया जाना है। स्वास्थ्य विभाग, प्रशासन, पुलिस की संयुक्त टीम घर-घर जाकर इन यात्रियों का स्वास्थ्य परीक्षण करेगी। इंदौर में करीब 175 अधिकारियों व कर्मचारियों की टीम काम करेगी। इनमें नगर निगम के अधिकारी-कर्मचारी भी शामिल होंगे। कलेक्टर लोकेश कुमार जाटव ने बताया कि इन यात्रियों का पता लगाकर न केवल उनकी जांच की जाएगी, बल्कि उनसे फॉर्म भी भरवाए जाएंगे। उनकी वर्तमान स्थिति देखकर उनके घर स्टीकर लगाकर उन्हें निश्चित अवधि के लिए होम क्वारंटाइन किया जाएगा। 

नगर निगम के अधिकारी और कर्मचारी बुधवार से विदेश से इंदौर आने वाले लोगों का सर्वे करेंगे। किसी व्यक्ति को सर्दी-खांसी या बुखार हुआ तो वे इसकी जानकारी स्वास्थ्य विभाग को देंगे, ताकि उन पर निगाह रखकर उन्हें घर पर आइसोलेट करने या क्वारंटाइन करने को लेकर निर्णय लिया जा सके। निगमायुक्त आशीष सिंह ने इस संबंध में मंगलवार को बैठक लेकर अपर आयुक्तों की इसकी जवाबदारी सौंपी। उन्होंने अधिकतम दो दिन में सारी जानकारी स्वास्थ्य विभाग को देने का लक्ष्य दिया है लेकिन कोशिश है कि सभी 3138 लोगों का सर्वे एक ही दिन में पूरा कर लिया जाए। अपर आयुक्त जोन के अधिकारी-कर्मचारियों को भेजकर सर्वे कराएंगे।

इसमें विदेश से आने वाले लोगों के मोबाइल नंबर लेकर स्वास्थ्य विभाग के कंट्रोल रूम को उपलब्ध कराया जाएगा। स्वास्थ्य विभाग इन लोगों से सतत संपर्क रखेगा और तबीयत ज्यादा बिगड़ने पर उनके इलाज की व्यवस्था करेगा। कुछ अपर आयुक्तों ने अपने जोन के अधिकारियों की बैठक लेकर उन्हें जिम्मेदारी भी सौंप दी। हर जोन में औसतन 200 लोगों की सूची है जिनके घर पहुंचकर सर्वे करना है। नईदुनिया से चर्चा में निगमायुक्त ने विदेश से आए लोगों के सर्वे की पुष्टि की।

24 मार्च को सबसे ज्यादा पढ़ी गई खबरें

हवाई जहाज कितना माइलेज देता है, प्रति व्यक्ति ईंधन का खर्चा कितना होता है 
यदि चलती ट्रेन में ड्राइवर बेहोश हो जाए तो क्या होगा, पढ़िए 
पूरे भारत में 21 दिनों के लिए लॉक-डाउन, जो जहां है वही रहे: प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी
विदेश से लोटा युवक घर की बजाय होटल पहुंचा, स्वास्थ्य विभाग ने आइसोलेशन में रखा
जींस में छोटी जेब क्यों होती है, कोई बड़ा कारण है या बस डिजाइन
गृह मंत्रालय भारत सरकार की गाइडलाइन, 15 अप्रैल तक थोड़ी राहत 
थप्पड़ वाली कलेक्टर सहित 4 IAS अधिकारियों को हटाया 
चिंता ना करें, दैनिक उपयोग की चीजें सरकार पहुंचाएगी: शिवराज सिंह चौहान 
MP VIMARSH PORTAL 9th-11th EXAM RESULT DIRECT LINK यहां देखें
मध्यप्रदेश में मुख्य सचिव बदले, श्री एम. गोपाल रेड्डी मात्र 9 दिन के मुख्य सचिव