सत्याग्रही अतिथि शिक्षक घर घर लिखेंगे सरकार के वादाखिलाफी नारे | ATITHI SHIKSHAK NEWS
       
        Loading...    
   

सत्याग्रही अतिथि शिक्षक घर घर लिखेंगे सरकार के वादाखिलाफी नारे | ATITHI SHIKSHAK NEWS

भोपाल। छियासठ दिनों से अनिश्चितकालीन जन सत्याग्रह पर बैठे सत्याग्रही अतिथि शिक्षकों ने सरकार की वादाखिलाफी के ऊपर नारे घर घर लिखने का प्रस्ताव बुधवार को सत्याग्रह स्थल पर पारित कर किया है। 

सत्याग्रही पी.डी.खैरवार ने इस आशय पर आरोप लगाया है कि सरकार ने अतिथि शिक्षकों के नियमितीकरण के लिए दिए गये वचन पूरा करने की प्रक्रिया आज तक चालू नहीं कर पा रही है‌‌।जिससे प्रदेश के लाखों अतिथि शिक्षकों के बीच आक्रोश दिन प्रतिदिन पनपता जा रहा है। आक्रोशित सत्याग्रही अतिथि शिक्षकों ने सत्याग्रह स्थल पर बुधवार को आवश्यक बैठक कर महत्त्वपूर्ण निर्णय लिए हैं। जिसमें प्रदेश के घर घर नारे लिखने का निर्णय सर्वप्रथम प्रस्तावित किया गया है।नारे में सरकार के द्वारा की जा रही वादा खिलाफी पर आधारित स्लोगन लिखे होंगे। राजधानी के मुख्य चौराहों पर नुक्कड़ नाटक कर सरकार की वादाखिलाफी नीतियों और नीयत को जन जन तक पहुंचाने का काम किया जायेगा। 

पोस्टर और परचा बांटकर अतिथि शिक्षकों के सत्याग्रह का समर्थन कर साथ देने की अपील जन जन और एक एक आदमी से की जायेगी। जिसमें सरकार की कथनी और करनी में जमीन आसमान का अंतर होना बताया जायेगा। कमलनाथ जी ने प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष की हैसियत से  सरकार गठन होने के तीन महीने के भीतर नियमित किये जाने के लिए वचन दिये गये थे। चौदह महीने गुजर जाने के बाद भी अतिथि शिक्षकों को एक पर्सेंट राहत नहीं दी गई है। 

न ही कोई सुध लेने की कोशिश की जा रही है। बल्कि एक के बाद एक प्रहार कर करके कार्यानुभवी अतिथि शिक्षकों को बेरोजगार कर उनको अपमानित करते जाने का सिलसिला बदस्तूर जारी है। घुट घुट कर जीवन यापन करने से बेहतर आत्महत्या का रास्ता चुन  हमेशा के लिए झंझट खत्म किते जाने तक के लिए अतिथि शिक्षक मजबूर होते जा रहे हैं।इस तरह की हीनभावनाओं का शिकार अतिथि शिक्षक लगातार होते जा रहे हैं। जिसको रोकने के प्रयास करते प्रदेश के लाखों अतिथि शिक्षकों की ओर से लगातार सवा दो महीने से भोपाल के शाहजहांनी पार्क में वचन-निभाओ जन सत्याग्रह चलाने के लिए विवश होना पड़ रहा है। 

बावजूद इसके गुमराह करने के अलावा सरकार के द्वारा सकारात्मक कदम नहीं उठाया जा रहा है।इसी तरह बताया गया है,कि प्रदेश में अतिथि शिक्षकों की ओर से अतिथि शिक्षक समन्वय समिति के द्वारा सत्याग्रह जारी रहेगा।अन्य संगठनों के द्वारा आवाहन किये जाने की स्थिति में शिक्षकीय मर्यादा को ध्यान में रखते हुए सत्याग्रह स्थल पर या सड़कों पर आकर अन्य तरह के उग्र प्रदर्शन प्रतिबंधित रहेंगे। नियमितीकरण तक जारी जन सत्याग्रह के चलते लगातार कोशिश जारी रहेगी।

संगठन के प्रदेश अध्यक्ष सुनील परिहार ने सभी संगठनों का समर्थन चाहने सत्याग्रह स्थल  पर पहुंचने की अपील की है। छियासठवे दिन सत्याग्रह का नेतृत्व अनिता हरचंदानी,अनवर अहमद,आयुषी तिवारी,मयूरी चौरसिया,अजय तिवारी,प्रीति चौबे,बी.ए.खान,फहीम सरफरोश,गौरव राठौर,रामस्वरूप गुर्जर, देवेंद्र शाक्य ने किया है।