Loading...

ज्योतिरादित्य सिंधिया की दीवानगी में समर्थकों ने PCC ऑफिस का दरवाजा तोड़ दिया | MP NEWS

भोपाल #bhopal। राजनीति में अनुशासनहीनता को आलोचक ' कांग्रेसी कल्चर' कह कर पुकारते हैं जबकि कांग्रेस के नेता इसे अपनी लोकप्रियता का पैमाना मानते हैं। राजधानी भोपाल में आज कुछ ऐसा ही हुआ। ज्योतिरादित्य सिंधिया की दीवानगी में उनके समर्थकों ने प्रदेश कांग्रेस कार्यालय का एक दरवाजा ही तोड़ दिया। सभी समर्थक अपने नेता को माला बनाना चाहते थे। उनके नजदीक जाकर फोटो खिंचवाना चाहते थे। हालात यह बने कि सिंधिया समर्थक आपस में ही धक्का-मुक्की करने लगे।

सिंधिया को चेहरा दिखाने के चक्कर में धक्का-मुक्की करने लगे समर्थक

दिल्ली में सोनिया गांधी से मिलने के बाद पूर्व सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया गुरुवार को भोपाल पहुंचे। रात में उन्होंने राजस्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत के निवास पर डिनर किया। शुक्रवार को सुबह सिंधिया मंत्री सुखदेव पांसे के घर जाकर मिले। यहां से वह सीधे प्रदेश कांग्रेस दफ्तर पहुंचे, जहां उनसे मिलने के लिए उनके समर्थक उमड़े। बढ़ती भीड़ ने सिंधिया से मिलने के लिए हंगामा कर दिया और पीसीसी दफ्तर में दूसरी मंजिल की मीटिंग हॉल का एक गेट भी टूट गया।

हर बार जरूरी नहीं है कि मुख्यमंत्री से मिला जाए: ज्योतिरादित्य सिंधिया

इससे पहले सिंधिया ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि उन्होंने अपने पूरे राजनीतिक कैरियर में किसी भी पद को लेने की चाहत नहीं की है। उन्होंने प्रदेश अध्यक्ष बनाने या राज्यसभा भेजने की अटकलों से भी इनकार कर दिया। मुख्यमंत्री कमलनाथ से न मिलने की बात पर उन्होंने कहा- हर बार जरूरी नहीं है कि मुख्यमंत्री से मिला जाए। छपाक फिल्म को टैक्स फ्री करने और तान्हाजी को टैक्स फ्री करने की मांग पर उन्होंने कहा कि ऐतिहासिक संदेश देने वाली फिल्में अच्छी होती हैं, लेकिन टैक्स फ्री करने का फैसला सरकार को लेना है।

गुटबाजी करने के बाद मंत्री गोविंद सिंह ने कहा: हर चीज में राजनीति नहीं देखना चाहिए

सिंधिया के डिनर में मुख्यमंत्री कमलनाथ नहीं पहुंचे। वहीं आरिफ अकील, सज्जन सिंह वर्मा, जीतू पटवारी, तरुण भनोत, पीसी शर्मा भी नजर नहीं आए। डिनर में पहुंचे मंत्रियों ने कहा कि इसको शक्ति प्रदर्शन से जोड़ कर देखना ठीक नहीं। पहले भी इस तरह के आयोजन होते रहे हैं। गोविंद सिंह ने कहा कि हर चीज में राजनीति नहीं देखना चाहिए। महेंद्र सिसोदिया ने कहा कि उनके कद के आगे सभी पद छोटे हैं। फैसला आलाकमान को करना है।

लंच के दौरान कमलनाथ ने विधायकों को टिप्स दिए

इससे पहले गुरुवार को मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कांग्रेस विधायकों को नगरीय निकाय और पंचायत चुनाव के लिए तैयारी करने के लिए कहा है। सीएम हाउस में विधायकों से चर्चा में उन्होंने यह बात कही। वहां औपचारिक रूप से बैठक तो नहीं हुई, लेकिन सीएम ने लंच के दौरान ही विधायकों से बातचीत की। उन्हें सार्वजनिक बयानबाजी से बच कर रहने को कहा।