MP TET पास अभ्यर्थियों ने मुख्यमंत्री को ज्ञापन के साथ श्री हनुमान चालीसा भेंट की
       
        Loading...    
   

MP TET पास अभ्यर्थियों ने मुख्यमंत्री को ज्ञापन के साथ श्री हनुमान चालीसा भेंट की

भोपाल। धरना प्रदर्शन के आठवें दिन 30 जनवरी को मध्य प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा उत्तीर्ण अभ्यर्थियों द्वारा धरना प्रदर्शन के क्रम में मुख्यमंत्री जी को ज्ञापन देने की भी योजना थी इसी क्रम में पात्र अभ्यर्थियों ने मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ जी को उनके निवास स्थान पर पहुंचकर जारी विज्ञप्ति में संशोधन एवं रिक्त पदों में वृद्धि के संदर्भ में ज्ञापन पत्र सौंपा और ज्ञापन पत्र के साथ साथ हनुमान चालीसा भी अभ्यर्थियों ने मुख्यमंत्री जी को भेंट की, क्योंकि मुख्यमंत्री श्री हनुमान जी के बहुत बड़े भक्त कहलाते हैं। 

ज्ञापन सौंपने वाले प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री जी को बताया  कि सर हम लोगों के पास पढ़ाने के अलावा और कोई तकनीकी कौशल या कोई कला नहीं है जिसके बलबूते पर हम अपना व अपने परिवार का भरण-पोषण कर सकें शिक्षक भर्ती परीक्षा हमारी आखिरी उम्मीद थी और यही  शिक्षा क्षेत्र  है जिसमें हम  अपना 100% दे सकते हैं । शिक्षक बनने के लिए हमने सालों से मेहनत की है आर्थिक , सामाजिक , शारीरिक  व मानसिक सभी प्रकार की मेहनत इसमें शामिल है , जिस पर लोक शिक्षण संचालनालय द्वारा जारी की गई विज्ञप्ति मैं हुई विसंगतियों के द्वारा पानी फेरा जा रहा है ।  तो कृपा करके  आप हमारे जीवन  और  शिक्षा व्यवस्था  को पटरी पर लाने के लिए  योग्य पाए गए  अभ्यर्थियों  के बारे में सोचते हुए  वर्ग 1  वर्ग 2 के पदों में वृद्धि करवाने की कृपा करें। 

ज्ञापन सौंपने वाले प्रतिनिधिमंडल में प्रमुख रुप से रंजीत गौर, मयंक जैन , रॉबिन सिंह, अमजद खान , संतोष परवैया, सुरेंद्र दांगी , आशीष मिश्रा , जय श्री  विश्वकर्मा, विभा शुक्ला, सीमा चौहान , वर्षा दुबे , प्रदीप उटमालिया, दिनेश कुमार , पंकज सोनी , रविशंकर, धर्मेंद्र सोलंकी, दिलीप पटेल , अनूप मिश्रा आदि शामिल रहे। अभ्यर्थियों ने ज्ञापन में प्रमुख रूप से लोक शिक्षण संचालनालय विभाग द्वारा जारी विज्ञप्ति में संशोधन एवं समस्त रिक्त पदों में वृद्धि कर स्थाई शिक्षक भर्ती की मांग की है । आज धरना प्रदर्शन के आठवें दिन अनुसूचित जाति एवं जनजाति युवा संगठन के कुछ पदाधिकारियों ने भी आकर शिक्षक पात्रता परीक्षा में उत्तीर्ण अभ्यर्थी संघ का समर्थन किया