Loading...

वसूली करने आई बिजली कंपनी की टीम पर हमला, जेई को ट्रैक्टर से कुचलने की कोशिश! | MP NEWS

श्योपुर। खबर बड़ौदा थाना क्षेत्र से आ रही है। बिजली कंपनी के जूनियर इंजीनियर लोकेंद्र जाट का आरोप है कि जब वह एक गांव में बिजली बिल के बकाया ₹200000 की वसूली के लिए गए तो ग्रामीणों ने पथराव कर दिया। सरपंच के बेटे ने ट्रैक्टर से उन्हें कुचलने की कोशिश की। जेई लोकेंद्र जाट का दावा है कि उनके पास इस घटना का वीडियो भी है परंतु पुलिस अधीक्षक को दी गई शिकायत के साथ उन्होंने वीडियो संलग्न नहीं किया और ना ही अब तक मीडिया में जारी किया है। पुलिस ने मामला दर्ज नहीं किया बल्कि घटना की जांच की जा रही है। ग्रामीणों का पक्ष अब तक सामने नहीं आया है।

जूनियर इंजीनियर लोकेंद्र जाट की शिकायत 

मामला बड़ौदा थाना क्षेत्र के बागलदा ग्राम पंचायत के स्माइल के टपरा गांव का है। इस पंचायत के सरपंच से लेकर अन्य ग्रामीणों पर करीब 2 लाख 24 हजार रुपए का बिजली बिल बकाया है। बुधवार की शाम जेई लोकेंद्र जाट के नेतृत्व में एक टीम बकाया बिल वसूलने के लिए गांव में पहुंची। टीम के सदस्यों ने जैसे ही बिजली कनेक्शन काटने और ट्रांसफार्मर उठाने की कार्रवाई शुरू की तो सरपंच का बेटा ग्रामीणों को लेकर मौके पर पहुंच गया। बकाया बिल को लेकर दोनों पक्षों में विवाद के दौरान आरोप है कि सरपंच के बेटे ने जेई के ऊपर ट्रैक्टर चढ़ाने का प्रयास किया। जब जेई और टीम के सदस्यों ने उसे रोका तो वहां मौजूद अन्य ग्रामीणों ने टीम पर पथराव शुरू कर दिया। यह देख टीम किसी तरह वहां से जान बचाकर भाग निकली।

एसपी को ज्ञापन दिया, वीडियो नहीं दिया

स्माइल के टपरा गांव में ग्रामीणों के हमले के बीच जान बचाकर भागे जेई और सभी कर्मी घटना के बाद बड़ौदा थाने में पहुंचे और वहां पुलिस से मामले की शिकायत की। जेई लोकेंद्र जाट का कहना है कि टीआई ने एफआईआर दर्ज नहीं की, जिसके बाद उन लोगों को शिकायत करने के लिए एसपी कार्यालय जाना पड़ा। पीड़ित अधिकारी और कर्मचारियों ने एसपी नागेंद्र सिंह को ज्ञापन सौंप न्याय की गुहार लगाई है। जेई लोकेंद्र जाट का आरोप है कि गांव में विवाद के दौरान उन पर जानलेवा हमला। ट्रैक्टर से कुचलकर मारने की कोशिश की गई, फिर भी पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। उन्होंने बताया कि घटना के सबूत के तौर पर उनके पास वीडियो फुटेज है। इधर, एसपी ने मामले को लेकर बताया कि कंप्यूटर में खराबी की वजह एफआईआर दर्ज नहीं हो पाई। पुलिस मामले की जांच कर रही है, जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार किया जाएगा।