Loading...

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने किस हैसियत से कलेक्ट्रेट में बैठक को संबोधित किया: भाजपा का सवाल | MP NEWS

ग्वालियर। पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं पूर्व सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कलेक्टर कार्यालय में जिला प्रशासन की एक बैठक ली। भाजपा ने इस पर बवाल खड़ा कर दिया है। सवाल किया है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया ने किस हैसियत से इस बैठक को संबोधित किया और क्यों कलेक्टर ने सिंधिया के लिए बैठक का आयोजन किया। 

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने खुद बैठक की जानकारी दी

बता देंगे बुधवार 20 नवंबर 2019 को ज्योतिरादित्य सिंधिया ग्वालियर पहुंचे। यहां उन्होंने कलेक्टर कार्यालय में जिला प्रशासन की एक बैठक को संबोधित किया। सिंधिया ने खुद ट्विटर पर बताया कि "आज ग्वालियर के विकास कार्यो को लेकर जिला प्रशासन द्वारा आयोजित बैठक में सम्मलित होकर शहर के विकास व स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट पर विस्तृत चर्चा की।" बैठक में सिंधिया के साथ ही कैबिनेट मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, विधायक और जिला प्रशासन के अधिकारी भी मौजूद थे। सिंधिया ने जिला प्रशासन के अधिकारियों और कैबिनेट मंत्री से शहर विकास की योजनाओं के बारे में जानकारी ली।

ग्वालियर कलेक्टर सवालों की जद में

ज्योतिरादित्य सिंधिया की इस बैठक के बाद भाजपा ने तीखा सवाल किया है। भारतीय जनता पार्टी ने पूछा है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया ना तो मंत्री हैं और ना ही सांसद, वर्तमान में वह किसी भी पद पर नहीं है फिर उन्होंने किस हैसियत से कलेक्टर कार्यालय में जिला प्रशासन की बैठक को संबोधित किया। सोशल मीडिया पर इस बैठक को लेकर बवाल मच गया है। लोग सवाल कर रहे हैं कि कलेक्टर ने क्यों इस बैठक को आयोजित किया। क्या कलेक्टर ने इस बैठक को आयोजित करने से पहले मुख्य सचिव से अनुमति ले ली थी। बता दें कि हाल ही में रीवा कलेक्टर ने इसी तरह की एक बैठक आयोजित करने से इंकार कर दिया था। भाजपा का कहना है कि इस मामले में राज्यपाल से शिकायत करेगी।