Loading...

MITS ग्वालियर में उपद्रव मचा रहे छात्रों को पुलिस ने दौड़ा-दौड़ाकर पीटा | GWALIOR NEWS

ग्वालियर। माधव इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नाेलॉजी एंड साइंस ग्वालियर (MITS GWALIOR) में बुधवार दोपहर हॉस्टलर और डे-स्कॉलर छात्रों के बीच जमकर उपद्रव (Violence between Hostlr and day-scholars, students) हुआ। माैके पर पहुंची पुलिस ने हालात काबू में करने के लिए छात्रों को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा। क्लास से छात्रों को निकाला और कैंपस खाली करवाया। लगभग दो घंटे हंगामा चलता रहा। गोले का मंदिर थाने की पुलिस ने 4 छात्रों के खिलाफ मारपीट का मामला दर्ज किया है। वहीं प्रॉक्टोरियल बोर्ड और अनुशासन समिति की बैठक के बाद 11 छात्रों को सस्पेंड कर दिया गया है।    
 

MITS के छात्रों ने मचाया हंगामा, मारपीट की, केम्पस में तोड़फोड़ की,  

विवाद की वजह छात्राओं से छेड़छाड़ को बताया जा रहा है, हालांकि अभिभावकों के सामने छात्राएं इस बात से मुकर गईं। संस्थान में दोपहर 1 बजे बीई द्वितीय वर्ष के डे-स्कॉलर छात्र अंकित लोहिया व निकुंज कुछ अन्य छात्रों के साथ कैंपस से बाहर जा रहे थे, इसी दौरान हॉस्टल के सौरभ पटेल, मानव पाठक, संकल्प कन्नौजिया, मोहित भूरिया तथा इनके साथियाें ने इऩ लाेगाें काे घेरकर मारपीट शुरू कर दी। इस दौरान दो छात्राओं के साथ भी मारपीट की गई। मारपीट के बाद हॉस्टल के छात्र यहां से भाग निकले।

आशीष लालवानी ने छात्रों को बंधक बनाया, 11 छात्र सस्पेंड

मारपीट के खिलाफ डे-स्कॉलर छात्रों ने प्रदर्शन शुरू कर दिया। आधा घंटे बाद भी प्रबंधन ने कार्रवाई शुरू नहीं की तो छात्रों ने कैंपस में गेट के कांच तोड़ डाले। इसके बाद हॉस्टल पहुंच गए। यहां दोनों पक्षों के बीच पथराव हुआ। पथराव के बाद डे-स्कॉलर छात्र लौट आए लेकिन इनके एक साथी बीई द्वितीय वर्ष के छात्र आशीष लालवानी (Ashish lalwani) को हॉस्टल के छात्रों ने बंधक बना लिया और मारपीट की। इसका पता लगते ही डे-स्कॉलर छात्रों ने कैंपस में तोड़फोड़ शुरू कर दी। इस बीच अतिरिक्त पुलिस फोर्स पहुंचा और लाठीचार्ज कर छात्राें पर काबू पाया। फिर बंधक छात्र को मुक्त करवाया।