Loading...

व्यापम घोटाले से जुड़े एक और MBBS छात्र की संदिग्ध मौत

इंदौर। महात्मा गांधी मेडिकल कॉलेज से MBBS कर रहे छात्र भूरेलाल वास्केल निवासी खरगोन की संदिग्ध मौत हो गई। भूरे लाल का शव एक स्कूल के पास मिला। व्यापम घोटाले के व्हिसिल ब्लोअर आशीष चतुर्वेदी का दावा है कि भूरेलाल व्यापम घोटाले से संबंधित था। बता दें कि व्यापम घोटाले से जुड़े हुए लगभग एक 100 लोगों की मौत हो चुकी है। सभी मौतों में पुलिस ने उन्हें या तो हादसा माना या बीमारी के कारण।

भूरेलाल वास्केल महात्मा गांधी मेडिकल कॉलेज का छात्र था

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि आजाद नगर क्षेत्र के एक स्कूल के पास भूरेलाल वास्केल (34) का शव मिला। वह शासकीय महात्मा गांधी स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय में एमबीबीएस पाठ्यक्रम का छात्र था। उन्होंने बताया कि वास्केल मूलत: खरगोन जिले के एक गांव का रहने वाला था। वह इंदौर के अजय बाग इलाके में किराये के मकान में रहकर मेडिकल कॉलेज में पढ़ाई कर रहा था।

भूरेलाल वास्केल की मौत हार्ट अटैक के कारण हुई: पुलिस का दावा

अधिकारियों ने बताया कि वास्केल के शव का शासकीय महाराजा यशवंतराव चिकित्सालय में पोस्टमॉर्टम किया गया। पोस्टमॉर्टम की विडियोग्राफी भी कराई गई। मेडिकल छात्र की हत्या के संदेह को पुलिस खारिज कर रही है। मामले की जांच से जुड़े सहायक उप निरीक्षक (एएसआई) विक्रम सिंह ने कहा, 'पोस्टमॉर्टम की शुरूआती रिपोर्ट के मुताबिक वास्केल ने दिल के दौरे से दम तोड़ा।'

भूरेलाल वास्केल व्यापम घोटाले संबंधित था: आशीष चतुर्वेदी

इस बीच, व्यापमं घोटाले के व्हिसल ब्लोअरों में शुमार आशीष चतुर्वेदी ने अपनी एक फेसबुक पोस्ट में दावा किया कि वास्केल इस घोटाले से जुड़ा था। हालांकि, पुलिस ने फिलहाल इस दावे की तसदीक नहीं की है। जांचकर्ता एएसआई ने कहा, 'मुझे अभी इस बात की कोई जानकारी नहीं है कि वास्केल व्यापमं घोटाले से जुड़ा था या नहीं।' पुलिस के एक अन्य अधिकारी ने भी व्यापमं घोटाले से वास्केल के कथित जुड़ाव की जानकारी से इंकार किया। मामले की विस्तृत जांच जारी है। 

व्यापम घोटाले में हत्या के लिए खास किस्म के जहर का उपयोग किया जाता है 

दिल्ली की एक पत्रकार की संदिग्ध मौत के बाद यह कहा गया था कि व्यापम घोटाला मूलतः मेडिकल कॉलेजों में एडमिशन से जुड़ा हुआ है। इस तरह दवा माफिया से भी कनेक्टेड है। इस घोटाले में लोगों को मारने के लिए एक विशेष प्रकार की जहर का उपयोग किया जाता है। यह जहर बहुत थोड़ी मात्रा में किसी भी व्यक्ति के शरीर में इंजेक्ट किया जाता है। उसके थोड़ी देर बाद व्यक्ति की मौत हो जाती है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत का कारण हार्ट अटैक या ऐसी कोई दूसरी बीमारी आती है। बता दें कि इस तरह के जहर से हत्याओं की और भी कई वारदातें सामने आ चुकी है जो व्यापम घोटाले से जुड़ी हुई नहीं थी।