Loading...

मध्यप्रदेश में मिनिस्टर इन वेटिंग रघुराज कंसाना के यहां CBI का छापा | MP NEWS

भोपाल। मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार में दिव्या सिंह कोटे से मिनिस्टर इन वेटिंग और विधायक रघुराज कंसाना के यहां सीबीआई की छापामार कार्यवाही हुई है। सीबीआई ने कंसाना के घर और वेयरहाउस पर कार्रवाई की। समाचार लिखे जाने तक मुरैना जिले के आधा दर्जन से अधिक ठिकानों पर सीबीआई की कार्रवाई जारी थी।

पूरे मुरैना में सनसनी 

दिग्विजय सिंह के नजदीकी होने के कारण विधायक रघुराज कंसाना का मुरैना जिले में अच्छा खासा दबदबा माना जाता है। मंगलवार सुबह 8:00 बजे जैसे ही सीबीआई की कार्रवाई शुरू हुई पूरे मुरैना में यह खबर आग की तरह फैल गई। लोग जानना चाहते हैं कि कंसाना पर क्या आरोप है और सीबीआई क्या कार्रवाई करने वाली है। सीबीआई ने मुरैना के अलावा अंबाह और पोरसा में भी वेयरहाउस पर दस्तावेजों की जांच पड़ताल की। फिलहाल शांति वेयरहाउस मुरैना, देवीराम वेयरहाउस अम्बाह, श्रीराम वेयर हाउस मुरैना के नाम सामने आए हैं। हालांकि अभी और वेयर हाउस के नाम सामने आना हैं।

सीबीआई ने 14 राज्य में छापामारी की

आपको बता दें कि देश के 14 राज्यों में मंगलवार को छापेमार कार्रवाई शुरू की है। ये कार्रवाई 7000 करोड़ रुपए के बैंक फ्रॉड के मामले में देश के 14 राज्यों के 169 ठिकानों में की जा रही है। प्रदेश के 14 स्थानों में सीबीआई की छापेमारी जारी है। हालांकि अभी तक ये खुलासा नहीं हो पाया है कि किन 14 राज्यों में सीबीआई की छापेमारी जारी है। सीबीआई की इस छापेमार कार्रवाई से प्रदेश में हडक़ंप की स्थिति बनी हुई है।

रघुराज कंसाना के खिलाफ मामला दर्ज है!

सूत्रों का कहना है कि इस मामले में सीबीआई के पास करीब 35 से ज्यादा मामले दर्ज हैं। इनमें एक नाम हो रघुराज कंसाना भी है। सूत्रों का कहना है कि सीबीआई द्वारा दर्ज की गई ज्यादातर एफआईआर में वैसे डिफॉल्टर्स हैं जिन्होंने बैंक अधिकारियों के साथ मिलकर अपनी फर्मों के नाम पर लोन लिया था और इसे वापस नहीं किया गया। इस दौरान फ्रॉड केस से जुड़े सबूतों की तलाश की जा रही है। सीबीआई ने 7 हजार करोड़ के बैंक फ्रॉड केस में 35 मुकदमे दर्ज किए हैं। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार अधिकारी ने इस मामले में शामिल बैंकों या आरोपियों के नाम का खुलासा नहीं कर रहे हैं। बताया जा रहा है कि यह पहली बार नहीं है जब केंद्रीय जांच एजेंसी ने इतने बड़े पैमाने पर तलाशी अभियान चलाया है। इससे पहले भी सीबीआई छापेमार कार्रवाई को अंजाम दे चुकी है।