Loading...

शुक्र का वृश्चिक में प्रवेश: पढ़िए आपकी राशि कितनी प्रभावित होगी | SHUKRA VRISHCHIK RASHIFAL

सौर मंडल का सबसे खूबसूरत और मनुष्यों के दाम्पत्य जीवन में आनंद का कारक शुक्र ग्रह दीपावली के दूसरे दिन यानी 28 अक्टूबर 2019 को राशि परिवर्तन करने जा रहे हैं। अब वो 21 नवम्बर तक वृश्चिक राशि में स्थित रहेंगे। आइए जानते हैं शुक्र के इस राशि परिवर्तन से सभी 12 राशियां किस तरह से प्रभावित होंगी एवं शुक्र के शुभ परिणाम प्राप्त करने के लिए क्या उपाय करें।

मेष राशि से अष्टम भाव में शुक्र का गोचर चेहरे से संबंधित कुछ परेशानियां तथा स्वास्थ्य में कुछ गड़बड़ी कर सकता है। एक दुर्गा सप्तशती की पुस्तक किसी दुर्गा मंदिर में दान करें और गाय को हरा चारा खिलाएं।

वृष राशि से सप्तम भाव में शुक्र का गोचर व्यापारिक समस्याओं का निदान करेगा तथा रुका हुआ धन अवश्य दिलाएगा। मिश्री और सौंफ का दान देवी लक्ष्मी के मंदिर में करें और सुबह शाम गणेश वंदना अवश्य करें।

मिथुन राशि से छठे भाव में शुक्र का गोचर त्वचा से संबंधित परेशानियां करेगा और भाई बहनों के संबंध में खटास आ सकती है। 11 हरी दूर्वा की पत्तियों को कच्चे दूध का छोटा दें और एक कलावे से बांधे दो मोदक के साथ यह दूर्वा भगवान गणपति को अर्पण करें।

कर्क राशि से पंचम भाव में शुक्र का गोचर प्रेम संबंधों में खटास लाएगा और पेट संबंधित बीमारियां बढ़ा सकता है। छोटी कन्याओं को लेखन सामग्री का दान करें और पीपल के पेड़ के नीचे देसी घी का दीया जलाएं।

सिंह राशि से चतुर्थ भाव में शुक्र का गोचर रुका हुआ धन दिलाने के साथ-साथ नौकरी की समस्याओं को खत्म करेगा। दो बूंदी के लड्डू दो लौंग के साथ भगवान गणपति अर्पण करें तथा छोटी कन्याओं को लाल वस्त्र उपहार में दें।

कन्या राशि से तीसरे भाव में शुक्र का गोचर छोटे भाई बहनों से वाद-विवाद करा सकता है  तथा गले से संबंधित परेशानियां देगा। सुबह के समय गणेश स्तोत्र का पाठ करें तथा दुर्गा मंदिर में पांच लाल गुलाब के फूल अर्पण करें और खीर का भोग लगाएं।

तुला राशि से दूसरे भाव में शुक्र का गोचर धन की समस्याओं को खत्म करने के साथ-साथ आंख में कुछ समस्या कर सकता है। जरूरतमंद किन्नरों को दवा वस्त्र भोजन का दान करें और घर की उत्तर दिशा में भगवान गणेश की फोटो लगाएं।

वृश्चिक राशि में शुक्र का गोचर रुका हुआ धन दिलाने के साथ-साथ मानसिक समस्याएं बढ़ा सकता है। ॐ एकदंतायै नमः मंत्र का 108 बार जाप करें तथा अपने सोने वाले कमरे में गंगा जल का छिड़काव करें।

धनु राशि से बाहरवें घर में शुक्र का गोचर अकारण खर्च बढ़ाने के साथ-साथ मेहनत बहुत ज्यादा कराएगा। अपनी बड़ी बहन को कुछ वस्त्र उपहार में दें तथा विष्णु मंदिर में एक पीली चमकीली ध्वजा लगाएं।

मकर राशि से ग्यारहवें घर में शुक्र का गोचर नौकरी की समस्याओं को खत्म करने के साथ-साथ  व्यापार में खूब फायदा देगा। हरी तुलसी के पत्तों की माला भगवान विष्णु को पहनाए तथा हरे वस्त्र का दान करें।

कुंभ राशि से दशम भाव में शुक्र का गोचर नौकरी या व्यापार के स्थान की समस्याओं को कम करेगा तथा रुके हुए कार्यों को पूरा करेगा। पीले चंदन में गुलाब का इत्र मिलाएं और भगवान गणपति को लगाएं और भगवान गणपति को पांच मोदक अर्पण करें।

मीन राशि से नवम भाव में शुक्र का गोचर भाग्य में वृद्धि के साथ साथ व्यापार में फंसा हुआ धन दिला सकता है। अपनी बहन बिटिया बुआ का सम्मान करें और घर की उत्तर दिशा में जल भरकर रखें तथा विष्णु मंदिर में दर्शन करें।