Loading...

SHAHDOL से सरेराह छात्रा का अपहरण, JABALPUR में गैंगरेप

शहडोल। जयसिंह नगर थाना क्षेत्र में चार युवकों ने एक युवती का सरेआम बीच रास्ते से अपहरण कर लिया। छात्रा को फिल्मी स्टाइल में कार के अंदर खींचा गया, मुंह पर कपड़ा बांधकर उसे जबलपुर ले गए। छात्रा ने बताया कि जबलपुर में एक छात्र के किराए के कमरे में उसे बंधक बनाकर रखा गया और उसके साथ सामूहिक बलात्कार किया। वारदात के बाद अपहरणकर्ता उसे वापस आधे रास्ते छोड़कर भी गए।

मुंह में कपड़ा बांधकर ले गए जबलपुर 

पुलिस को प्राप्त हुई शिकायत के अनुसार बुधवार की सुबह जैसे ही छात्रा पढ़ने के लिए अपने गांव से बाहर निकली आरोपित पहले से ही सुनियोजित तरीके से सूने जगह पर घात जमाए बैठे थे। चारो आरोपित सड़क पर ही कार खड़ी करके युवती के आने के इंतजार में थे। जैसे ही युवती के कार के नजदीक आई आरोपितों ने छात्रा को पकड़कर कार के अंदर खींच लिया और मुंह में कपड़ा बांध दिया। इसके बाद उसे बलपूर्वक जबलपुर ले जाया गया।

शिवम गुप्ता की कमरे में बंधक बनाकर गैंग रेप किया

पुलिस ने बताया कि चार आरोपितों में से एक आरोपित शिवम गुप्ता जबलपुर में ही किराए का कमरा लेकर पढ़ाई करता है। वह भी युवती का अपहरण करवाने जबलपुर के अपने दो दोस्तों के साथ घटना स्थल आया हुआ था। इनमें से मुख्य आरोपित बलराम मिश्रा के साथ मिलकर सभी ने युवती को जबलपुर के उस घर में रखा जहां एक आरोपित रहकर पढ़ाई करता है। चारो आरोपितों ने रात तक युवती को उसी कमरे में रखा। 

पुलिस में सिर्फ गुमशुदगी दर्ज की

सूचना मिलने के बाद जैसे ही परिजन जयसिंहनगर पुलिस के पास पहुंचे और उक्त मैसेज दिखाया तो जयसिंहनगर पुलिस ने गुमशुदगी का मामला तो दर्ज कर लिया, लेकिन उक्त मैसेज को लेकर कोई कार्रवाई नहीं की। परिजनों को यह कहकर लौटा दिया गया कि रात में सायबर सेल बंद हो गया है जिस कारण अगले दिन सुबह 10 बजे के बाद ही इस मामले को देखा जाएगा। परेशान परिजन इसके बाद लापता छात्रा को तलाशने ब्यौहारी क्षेत्र में चले गए।

छात्रा ने अज्ञात नंबर से भाई को फोन किया

जबलपुर में दुष्कर्म की घटना को अंजाम देने के बाद आरोपितों ने खुद अपनी कार से उसे आधे रास्ते तक छुड़वाया। इस बीच आरोपितों ने पीड़ित छात्रा का मोबाइल बंद करवा दिया था। उसने किसी अज्ञात नंबर से अपने छोटे भाई को गुरुवार की तड़के फोन किया कि भाई जल्दी आ जाओ और मुझे टेटका मोड़ के पास से ले जाओ। बहन का फोन आते ही भाई ने परिजन को बताया और पुलिस को लेकर जबतक ये लोग टेटका मोड़ पहुंचते उसके पहले आरोपित छात्रा को छोड़ भाग चुके थे।

बलराम मिश्रा को छोड़ने आ रहा था लेकिन उमरिया में उतर गया

बताया गया कि छात्रा को छोड़ने जबलपुर से मुख्य आरोपित बलराम मिश्रा खुद आ रहा था, लेकिन वह खुद उमरिया में उतर गया। इसके बाद ड्राइवर के साथ छात्रा को आगे भेज दिया गया। जानकारी के मुताबिक पुलिस ने घटना में उपयोग की गई कार को मसीरा के पास से जब्त कर लिया है, लेकिन पुलिस ने इस बात को एक सिरे से नकार दिया है। पुलिस का कहना है कि इस प्रकार की ऐसी कोई कार जब्त नहीं की गई है। वाहन और आरोपी की तलाश की जा रही है।