Loading...

पीएम मोदी ने LOC पर खड़े होकर सेना को संकेत दिया, अगला टारगेट PoK

नई दिल्ली। पीएम नरेंद्र मोदी ने आज दीपावली के अवसर पर स्पष्ट कर दिया है कि उनका अगला टारगेट पाक अधिकृत कश्मीर होगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज जम्मू कश्मीर के राजौरी जिले में नियंत्रण रेखा पर तैनात भारतीय सैनिकों से दीपावली मिलने गए थे। इसी अवसर पर उन्होंने सेना को संकेत दिए उनकी अगली इच्छा क्या है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जम्मू-कश्मीर के राजौरी जिले में लाइन ऑफ कंट्रोल पर तैनात सैनिकों के साथ रविवार को दिवाली मनाई और कहा कि जवानों के पराक्रम के कारण ही उनकी सरकार वे बड़े फैसले कर पाई जो असंभव माने जाते थे। पीएम मोदी ने कहा कि आजादी के बाद पाकिस्तान ने हमसे कश्मीर छीनने की कोशिश की, लेकिन हमारे सैनिकों ने उसके मंसूबों को नाकामयाब कर दिया। प्रधानमंत्री ने साथ ही कहा कि पाकिस्तान ने कश्मीर के एक हिस्से पर अवैध रूप से कब्जा कर रखा है, जिसकी कसक मेरे अंदर है। 

सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत भी थे मौजूद

प्रधानमंत्री नियंत्रण रेखा पर तैनात सैनिकों के साथ बातचीत करने के लिए सीधे सेना ब्रिगडे मुख्यालय पहुंचे। उनके साथ सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत भी थे। प्रधानमंत्री के राजौरी दौरे से कुछ घंटे पहले ही पाकिस्तानी सेना ने जिले की अग्रिम चौकियों को निशाना बनाया। पाकिस्तानी गोलाबारी का भारतीय सेना की ओर से मुंहतोड़ जवाब दिया गया। 

सैन्य जैकेट पहने मोदी ने जवानों को दिवाली की शुभकामनाएं दीं और मिठाइयां बांटीं। अधिकारियों ने बताया कि प्रधानमंत्री करीब दो घंटे तक वहां रहे और नियंत्रण रेखा (एलओसी) की सुरक्षा में लगे जवानों से बातचीत की।

करीब एक हजार जवानों की मौजूदगी में मोदी ने कहा, 'भारतीय रक्षा बलों के पराक्रम के कारण ही यह संभव हो पाया कि केंद्र सरकार को नो निर्णय लिए जो असंभव माने जाते थे।' उनका इशारा सीमा के उस पर की गई सर्जिकल स्ट्राइक, बालाकोट एयर स्ट्राइक और जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के विशेष दर्जे वाले प्रावधान को हटाने से जुड़े फैसले की ओर था।

पीएम मोदी ने कहा कि हर कोई अपने परिवार के साथ दिवाली मनाना चाहता है और इसीलिए वह भी अपने अपने परिवार के यहां पहुंचे हैं और उनका परिवार ये बहादुर जवान हैं। पीएम ने राजौरी में 'हॉल ऑफ फेम' का दौरा किया और उन जवानों एवं नागरिकों को श्रद्धांजलि अर्पित की जिन्होंने राजौरी एवं पुंछ अपने प्राण न्यौछावर किए। प्रधानमंत्री ने 'हॉल ऑफ फेम' को 'पराक्रम भूमि, प्रेरणा भूमि और पावन भूमि' करार दिया। 

बाद में मोदी ने ट्वीट कर कहा, 'भारतीय सेना के वीर जवानों के साथ दिवाली मनाई। इन पराक्रमी जवानों के साथ संवाद करना सदा हर्ष का विषय होता है। गौरतलब है कि मोदी ने 2014 में पहली बार प्रधानमंत्री पद का शपथ लेने के बाद तीसरी बार जम्मू-कश्मीर में तैनात सैनिकों के साथ दिवाली मनाई है। साथ ही अनुच्छेद 370 समाप्त होने के बाद यह कश्मीर में उनकी पहली दिवाली है।