Loading...

JABALPUR POLICE: ट्रैफिक रूल एक्टिवा ने तोड़ा था, कार मालिक को चालान थमा दिया

खंडवा। कार चलाते समय भी आपको हेलमेट पहनना होगा। यह हम नहीं कह रहे यह जबलपुर ट्रैफिक पुलिस द्वारा इंटेलीजेंट ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम के जरिए कार को बिना हेलमेट पहने चलाने पर बनाया गया चालान कह रहा है। जबलपुर पुलिस ने खंडवा के टपालचाल के युवक को 250 रुपए का चालान भेजा है। युवक पर आरोप है कि उसने बिना हेलमेट वाहन चलाया है। चालान पर दिया गया नंबर युवक की कार का है।

पुलिस का इंटेलीजेंट ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम ठीक तरीके से काम नहीं कर रहा है। इस सिस्टम के तहत जबलपुर पुलिस ने खंडवा के टपालचाल में रहने वाले मनोज साबले के घर पोस्ट से 250 रुपए का चालान भेज दिया। टपालचाल निवासी मनोज साबले को कुछ दिन पहले पोस्ट से एक चालान मिला है। चालान देखकर मनोज साबले के होश उड़ गए। इंटेलीजेंट ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम जबलपुर की ट्रैफिक पुलिस ने उसे यह चालान भेजा है। इसमें यह कहा गया है कि उनके द्वारा जबलपुर में 8 जून 2019 को ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन किया गया है। 

इस चालान में लिखा गया है कि एमपी 20 सीए 2838 द्वारा अब्दुल हमीद चौक जबलपुर पर 5.58 मिनट 47 सेकंड पर वह बिना हेलमेट लगाए हुए एक्टिवा चलाते हुए निकला है। इसलिए उसे चालान की राशि 250 रुपए अदा करनी होगी। वह यह चालान कियोस्क के माध्यम से यानी ऑनलाइन भी भर सकते हैं। चालान के साथ गाड़ी का फोटो भी दिया गया है। यह फोटो एक्टिवा का है जबकि चालान में लिखा गया वाहन का नंबर कार का है। यह कार मनोज पिता अरुण साबले के नाम पर है। 

मनोज साबले ने बताया कि चालान में दिया गया नंबर एमपी 20-सीए -2838 उसकी टाटा सफारी कार का है। वहीं चालान में दी गई फोटो एक्टिवा की है। चालान में लिखा हुआ है कि हेलमेट नहीं पहनने पर 250 रुपए का चालान बनाया गया है। यह अजीब ही है कि कार भी क्या हेलमेट पहनकर चालानी होगी। वैसे वह उस दिन जबलपुर गया ही नहीं और उसकी कार भी खंडवा में ही थी। ऐसे में पुलिस के इस चालान की वजह से वह बेवजह परेशान हो रहा है।

दरअसल, यह इंटेलीजेंट ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम की गलती है। क्योंकि जिस एक्टिवा का चालान बनाया गया है, उसका नंबर एमपी 20-एसए-2838 है और उसकी कार का नंबर एमपी 20-सीए -2838 है। संभवतः सीरियल नंबर के बीच में दिए गए अंग्रेजी के शब्दों को पढ़ने में सिस्टम ने गलती कर दी। चालान को लेकर उसने स्थानीय ट्रैफिक थाने में संपर्क कि या है। उसने पुलिसकर्मियों को चालान से अवगत कराया है। उसकी समस्या का अभी तक कोई हल नहीं निकल पाया। मनोज चालान को लेकर असमंजस की स्थिति में है।