Loading...

नर पिशाच: जलती चिताओं से मांस निकाल कर खा जाता था तांत्रिक, अब तक 136

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद से रोंगटे खड़े कर देने वाली खबर आ रही है। तांत्रिक जो श्मशान घाट में ही रहता था, जलती चिताओं से मांस निकाल कर खा जाया करता था। ऐसा अपनी तंत्र साधना को पूरा करने के लिए करता था। बीते रोज एक चिता के भाई ने उसकी और उसके साथी की हत्या कर दी। हत्या के बाद खुलासा हुआ कि तांत्रिक श्मशान घाट में क्या करता था।

दिवाली की रात बाबा और उसके चेले के कत्ल के बाद से ही श्मशान घाट पर शवों के साथ छेड़छाड़ की बातें सामने आ रहीं थीं, लेकिन शवों से मांस खाने का खुलासा बुधवार को तब हुआ, जब पुलिस ने हत्यारोपी और उसके साथी को गिरफ्तार कर लिया। हत्यारोपी ने बताया कि कुछ दिन पहले बाबा ने चिता से उसकी बहन का अधजला शव निकालकर उसका मांस खाया था। इसीलिए उसने बाबा और उसके चेले का कत्ल कर दिया। 

इतना ही नहीं, बाबा द्वारा शव से मांस निकालकर खाने की बात फैलते ही थाने पर पहुंचे 26 दूसरे लोगों ने भी दावा किया कि बाबा ने उनके परिजनों के शवों से भी मांस खाया। यह सुनकर पुलिस के पैरों तले जमीन खिसक गई। पुलिस ने जब इसकी जांच की तो  पता चला कि बाबा शवों को पूरी तरह से जलने से पहले ही चिता बुझा देता था और उनका मांस निकाल लेता था। डबल मर्डर का खुलासा करते हुए एसपी देहात उदयशंकर सिंह ने बताया कि ठाकुरद्वारा के कौशल्या नगर निवासी अंकुश यादव की बहन अंशु की 12 अगस्त को मौत हो गई थी। 

श्मशान घाट पर उसका अंतिम संस्कार किया गया था। विधि-विधान होने के बाद सभी लोग चले गए। शाम को पिता वीरेंद्र चिता देखने श्मशान घाट पहुंचे तो चिता पर अधजला शव पड़ा था और शरीर के कुछ हिस्सों का मांस गायब था। वीरेंद्र ने मोबाइल से इसकी  फोटो खींची और घर आकर अंकुश को दिखाई। इस पर जब अंकुश ने श्मशान पर रहने वाले बाबा राजेंद्र गिरी से पूछताछ की तो उसने नशे में मान लिया कि उसने ही तंत्र विद्या के लिए उसकी बहन के शव से मांस खाया है। इसके बाद से ही अंकुश बाबा के खून का प्यासा हो गया था।

बाबा और उसके चेले का सिर कुचलकर हत्या की
एसपी देहात ने बताया कि दिवाली वाली रात अंकुश ने दोस्त बंटी के साथ शराब पी। इसके बाद श्मशान में जाकर बाबा और उसके चेले नीतेश की की सिर कुचलकर हत्या कर दी। एसपी ने बताया कि पूछताछ में पता चला है कि बाबा अपने साथ नशा करने वालों से भी अक्सर अपनी तंत्र शक्ति के लिए चिता से मांस निकालकर खाने की बातें बताता था। उधर, मांस खाने के कारण बाबा की हत्या होने और हत्यारों के पकड़े जाने की जानकारी होने पर बुधवार को बारी-बारी 26 लोग थाने पहुंचे और अपनों के शव से मांस खाने का आरोप बाबा पर लगाया। एसपी देहात उदय शंकर सिंह के निर्देश पर जांच कराई गई तो साल भर के भीतर 136 शवों का मांस बाबा द्वारा खाए जाने का चौंकाने वाला खुलासा हुआ।