Loading...

GWALIOR NEWS: बेटी के सामने मां की निर्मम हत्या, हैंडपंप के हत्थे से फोड़ा सिर

ग्वालियर। घर में पड़ोसी युवक के आने जाने को लेकर शुरू हुए विवाद में भतीजे ने चाची की हैंडपंप के हत्थे से सिर फोड़कर हत्या कर दी। शुक्रवार-शनिवार की रात 2 बजे हमलावर भतीजा, जेठ-जेठानी घर में दाखिल हुए। खतरे को महसूस कर महिला बाहर की तरफ भागी। पर दरवाजे पर नाली में पैर पड़ते ही वह फिसलकर गिर पड़ी। इसके बाद आरोपित ने हैंडपंप का हत्था सिर में मार-मारकर महिला की हत्या कर दी। आरोपित दो महीने पहले महिला से छेड़छाड़ भी कर चुका है।     

घटना थाटीपुर स्थित नदीपार टाल के कटयानी गली की है। मृतका की 13 साल की बेटी की आंखों के सामने यह पूरा मंजर हुआ। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची। तत्काल हत्यारोपितों की तलाश शुरू की। सुबह तक तीनों आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया गया है। थाटीपुर थानाक्षेत्र के नदीपार टाल की कटयानी गली निवासी लीला शाक्य (35) के पत्नी केसरिया शाक्य (Leela Shakya wife Kesariya Shakya) ने 3 साल पहले फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। घर में लीला अपनी 13 साल की बेटी पलक के साथ रहती है। जिसे उसने 10 साल पहले गोद लिया था। 

महिला के पति 4 भाई थे उसी मोहल्ले में सभी के मकान हैं। पर कुछ समय से पति के भाई सुनील शाक्य (Sunil Shakya) से उसका विवाद चल रहा था। पास ही रहने वाले रवि वाल्मीकि (Ravi Valmiki) का घर पर आने-जाने को लेकर शुक्रवार सुबह लीला व उसकी जेठानी लीलावती के बीच विवाद हुआ था। इसी का बदला लेने रात 2 बजे जेठ सुनील, जेठानी लीलावती व भतीजा टिल्लन हाथ में हैंडपंप का हत्था लेकर घर में घुस आए। दरवाजे में लात मारकर वह अंदर पहुंचे ही थे कि लीला की नींद टूट गई। इनको देखकर वह बाहर की तरफ भागी, लेकिन दरवाजे पर नाली में कीचड़ पर फिसलकर वह गिर गई। इसके बाद भतीजे टिल्लन ने लोहे के हत्थे से उसके सिर पर एक के बाद एक कई हमले किए। तब तक बार किए जब तक उसकी मौत नहीं हो गई।

हमलावर पूरी योजना से आए थे। 13 साल की पलक मां से दूर दूसरे कमरे में होने से बच गई। जब हत्या आरोपित उसकी मां को मार रहे थे तब वह घर में ही थी। हमलावर उसके पास पहुंचते उससे पहले ही दीवार फांदकर वह दूसरी गली में पहुंची। यहां सरदार जाटव के घर पहुंचकर डायल 100 को कॉल किया। तकनीकी खामी के चलते कॉल नहीं लगा। फिर थाटीपुर थाना पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शव को बरामद किया। सुबह तक सुनील, लीलावती व टिल्लन को गिरफ्तार कर लिया गया।

लीला पर उसके ही भतीजे टिल्लन की बुरी नीयत थी। 3 साल पहले लीला के पति ने फांसी लगा ली थी। टिल्लन ने 26 जुलाई 2019 को घर में घुसकर लाली के साथ गलत काम का प्रयास किया था। छेड़छाड़ की शिकायत लीली ने थाटीपुर थाने में की थी। वह चाहता था कि लीला उसके साथ ही रहने लगे तो उसके हिस्से का मकान भी उनके नाम हो जाएगा।

आरोपितों ने सुनाई कहानी

आरोपितों ने पकड़े जाने के बाद कहानी सुनाई कि पड़ोसी रवि वाल्मीकि का लीला के घर दिन और रात को आना जाना था। जिससे सामाज में उनकी बदनामी हो रही थी। कई बार समझाया था वह मान नहीं रही थी। शुक्रवार सुबह भी रवि के घर से निकलने के बाद उसे समझाने गए थे। जिसके बाद झगड़ा हुआ था। तभी ठान लिया था कि इसे सबक सिखाएंगे।