Loading...

खाद-बीज का पैमेंट करने आया डबरा का व्यापारी लापता, अपहरण की आशंका | GWALIOR NEWS

ग्वालियर। डबरा से पैमेंट करने आया एक व्यापारी लापता हो गया। व्यापारी पैमेंट करने के लिए करीब चार लाख रुपए लेकर आया था। घटना पड़ाव थाना क्षेत्र के रेलवे स्टेशन की है। व्यापारी के लापता होने का पता चलते ही परिजनों ने उनकी तलाश की लेकिन उनका कहीं भी पता नहीं चला। रुपयों सहित व्यापारी के लापता होने का पता चलते ही पुलिस व्यापारी की तलाश में जुट गई है।

डबरा जवाहरगंज निवासी बलवंत रावत पुत्र रंजोर रावत (Balwant Rawat's son Ranjore Rawat) पेशे से व्यापारी है और उनकी डबरा में खाद-बीज की शॉप है। वे बारादरी स्थित भवानी ट्रेडर्स का पैमेंट करने के लिए चार लाख रुपए लेकर निकले थे। ट्रेन से स्टेशन पहुंचे और ऑटो में सवार होकर बारादारी के लिए निकले, इसके बाद वे ना तो पैमेंट करने के लिए पहुंचे और ना ही वापस अपने घर पहुंचे। दोपहर तक जब वे फर्म पर नहीं पहुंचे तो फर्म संचालक ने उनके छोटे भाई से बातचीत कर उनके बारे में पूछा तो उसने बताया कि वे घर पर भी नहीं आए हंै। व्यापारी के लापता होने का पता चलते ही वे ग्वालियर आए और उनकी तलाश में जुट गए। जब उनका कहीं भी पता नहीं चला तो पीडि़त परिजन थाने पहुंचे और मामले की शिकायत की। पुलिस ने उनकी शिकायत पर गुमशुदगी दर्ज कर व्यापारी की तलाश शुरू कर दी है।

रुपए सहित व्यापारी के गायब होने के बाद परिजनों ने अपहरण की आशंका व्यक्त की है। लापता व्यापारी के छोटे भाई विश्वनाथ ने बताया कि भाई बलवंत करीब चार लाख रुपये लेकर निकले थे और स्टेशन पहुंचे और उसके बाद उनका पता नहीं है। उनका मोबाइल भी बंद आ रहा है और रात भर वे शहर में उनकी तलाश के साथ ही सीसीटीवी कैमरों में उनकी फुटेज तलाशते रहे, लेकिन उनका पता नहीं चला है।

भवानी ट्रैडर्स के संचालक अंकित कुमार ने बताया कि सुबह करीब 10.46 बजे उनकी व्यापारी से बात हुई थी। उन्होंने बताया कि वह रेलवे स्टेशन पहुंच गया है और ऑटो में सवार होकर बारादरी पहुंच रहा है। व्यापारी द्वारा कार्यालय ना देखा होने के कारण अंकित ने उन्हें बारादरी चौराहे पर मिलने को कहा। इसके बाद वह इंतजार करते रहे, लेकिन वे नहीं पहुंचे तो करीब दस मिनट बाद उन्होंने कॉल किया, लेकिन उनका नंबर स्विच ऑफ आ रहा था।

व्यापारी के लापता होने के बाद से उनका परिवार चिंतित है और रात भर परिजनों के साथ ही अन्य मिलने वाले और रिश्तेदार शहर की सडक़ों पर उनकी तलाश में लगे रहे। शहर के सभी अस्पताल तथा अन्य संभावित स्थानों पर उनकी तलाश में लगे रहे।