Loading...

पति पढ़ाई (UPSC) करता रहता है, नाराज पत्नी ने तलाक मांग लिया | BHOPAL NEWS

LIFE LESSONS भी बड़े अजीब होते हैं। दुनिया का हर पिता, हर पत्नी और हर परिवार यह चाहता है कि उनका अपना एक दिन सबसे बड़ा अफसर बने। यदि कोई UPSC की तैयारी करता है तो पूरा परिवार उसके सपोर्ट में आ जाता है परंतु भोपाल में एक विवाहित महिला ने अपने पति से तलाक मांग लिया क्योंकि पति UPSC की पढ़ाई में इतना डूबा रहता था कि उसके श्रंगार की तरफ ध्यान ही नहीं देता था। 

तलाक के लिए आवेदन लगाने वाली विवाहित महिला का कहना है कि उसका पति यूपीएससी (UPSC) की तैयारी कर रहा है और इसिलए वह दिनभर कमरे में बंद रहकर पढ़ता (Study) रहता है। पत्नी का कहना है कि वो चाहे कितना भी सज संवर ले, पर उसका पति आकर्षित ही नहीं होता। 

बताया गया है कि महिला भोपाल के कटारा हिल्स (Katara Hills) इलाके में रहती है, उसने जिला विधिक सेवा प्राधिकरण (District Legal Services Authority) में काउंसिलिंग (Counseling) के दौरान ये बातें बताई हैं। पत्नी ने कहा कि वह मुंबई (Mumbai) की रहने वाली है। इस कारण भोपाल में उसका कोई भी रिश्तेदार नहीं है, इसलिए उसका यहां मन नहीं लगता है। पत्नी ने बताया कि वो ससुराल (in-Laws house) में दो महीने रहने के बाद मायके (Maternal home) चली गई थी, लेकिन पति ने एक बार भी उसे फोन नहीं किया। 

पत्नी ने बताया कि दो साल की शादी में पति उसे कहीं घुमाने नहीं ले गया। ऐसे में अब उसे अपनी पति के साथ नहीं रहना है। मामले में पत्नी ने फैमिली कोर्ट (Family Court) में तलाक की अर्जी दी है। काउंसलर (Counselor) का मानना है कि दोनों पक्षों की काउंसिलिंग की जा रही है, ताकि उनके रिश्ते को बचाया जा सके।

यूपीएससी प्रीलिम्स निकाल चुका है, पूरा फोकस मैन पर है

काउंसिलिंग के दौरान पति ने कहा कि उसका मुख्य लक्ष्य आईएएस अधिकारी बनना है। उसने पीएचडी (Phd) की है और कोचिंग चलाता है। साथ ही यूपीएससी की तैयारी भी कर रहा है। पति का कहना है कि वो दो बार यूपीएससी प्रीलिम्स एग्जाम (UPSC Civil Services Prelims) निकाल चुका है, लेकिन मुख्य परीक्षा से दोनों बार बाहर हो गया। उसका कहना है कि जब तक वह लक्ष्य पूरा नहीं कर लेता, तब तक वो उसे अपनी पत्नी का दर्जा नहीं देगा। पति ने कहा कि वह शादी नहीं करना चाहता था, लेकिन माता-पिता का इकलौता बेटा होने के कारण उस पर बार-बार शादी का दबाव बनाया जा रहा था।