Loading...

AMAZON मैसेजिंग असिस्टेंट अब हिंदी में, हर सवाल का जवाब देगा

बेंगलुरू। अमेज़न इंडिया ने आज अपने ग्राहकों के लिए ऑटोमेटेड मैसेजिंग असिस्टेंट हिंदी शुरू करने की घोषणा की। हिंदी में स्वचालित रूप से चलनेवाले ऑटोमेटेड असिस्टेंट के लॉन्च के साथ, हिंदी को पसंद करने वाले लाखों ग्राहक अब अपने सवालों का समाधान, बिना किसी एसोसिएट से जुड़े भी, अपनी पसंद की भाषा में पा सकते हैं।

ऑटोमेटेड असिस्टेंट एक चैट बॉट है जो अमेज़ॅन की ग्राहक सेवा से जुड़े आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस प्लेटफॉर्म से संचालित है, जो मशीन लर्निंग, और नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग क्षमताओं का अधिकतम लाभ देता है, और जो ग्राहकों के लिए सहज और मैत्रीपूर्ण बातचीत का अनुभव प्राप्तव करना सक्षम बनाता है। बातचीत मैसेजिंग विंडो में ही होती है, जहां ग्राहक स्वाभाविक रूप से बातचीत कर सकते हैं जैसे कि वे एक मानव के साथ बातचीत कर रहे हों, और जब भी आवश्यक हो, बॉट उसी विंडो में  बिना किसी बाधा के मानव सहायक में बदल जाता है।

इस लॉन्च के साथ, अमेज़ॅन इंडिया का लक्ष्य भाषाई अवरोध को तोड़ना और ग्राहकों को समस्या -मुक्त सपोर्ट सर्विस प्रदान करना है। कंपनी अब देश में लाखों हिंदी भाषी ग्राहकों को सक्षम कर रही है जो अपनी पसंद की भाषा में अमेज़ॅन के स्वचालित मैसेजिंग असिस्टें ट के साथ बातचीत करना पसंद करते हैं। हिंदी में ऑटोमेटेड असिस्टेंट के लॉन्च के साथ, अमेज़न भारतीय ग्राहकों के ग्राहक सेवा अनुभव को बढ़ाने की दिशा में अगला कदम उठा रहा है।

अमेज़न इंडिया के अक्षय प्रभु, निदेशक, ग्राहक सेवा बताते हैं कि “जब ग्राहक ऑटोमेटेड असिस्टेंट के साथ काम करते हैं, यह पहले सबसे अधिक उन संभावित मुद्दों का पूर्वानुमान प्रस्तुत करता है, जिसके लिए वे हमसे संपर्क करने की कोशिश कर रहे हैं। इसके बाद ग्राहक अपने मुद्दे से संबंधित प्रश्न पूछ सकते हैं और तेजी से समाधान प्राप्त कर सकते हैं। हिंदी में ऑटोमेटेड असिस्टेंट पेश करके, हम भारतीय ग्राहकों के लिए अपने पोस्ट-ऑर्डर अनुभव को स्थानीय बनाने की दिशा में बड़ा कदम उठा रहे हैं। हिंदी में नया चैट असिस्टेंट अमेज़ॅन के साथ खोज और खरीदारी करने के लिए अगले 100 मिलियन भारतीयों की सेवा करने की हमारी प्रतिबद्धता को जाहिर करता है। हम मैसेजिंग असिस्टेंट को संपर्क चैनल के रूप में विकसित करने पर भी विचार कर रहे हैं, ताकि कस्टमर सर्विस एसोसिएट के शामिल होने से पहले ही समस्याेओं को तेजी से हल कर सकें।”