Loading...    
   


दहेज एक्ट में फंसे SI की LOVE SOTRY सामने आई, SAGAR में कन्या पक्ष के खिलाफ FIR

भोपाल। CRETA CAR ना मिलने के कारण बारात नहीं ले जाने वाले DATIA में पोस्टेड एसआई भास्कर शर्मा (SUB INSPECTOR BHASKAR SHARMA (MORENA)) मामले में धारा 420 भी जोड़ दी गई थी। बावजूद इसके विवेचना अधिकारी ने सब इंस्पेक्टर भास्कर शर्मा को गिरफ्तार नहीं किया तो एसपी ने विवेचना अधिकारी को ही सस्पेंड कर दिया। इधर सागर में एक महिला आरक्षक ने लड़की के पिता एवं भाईयों के खिलाफ छेड़छाड़ का मामला दर्ज कराया है। महिला आरक्षक ने एफआईआर में यह भी दर्ज कराया है कि उसका और उसके एसआई भास्कर शर्मा का अफेयर चल रहा है। 

सागर जिले के सिविल लाइन थाने में लिखाई एफआईआर में सब इंस्पेक्टर की महिला आरक्षक प्रेमिका ने कहा है कि भास्कर शर्मा से मेरा अफेयर चल रहा है लेकिन जब मुझे पता चला कि इसकी शादी पक्की हो गई है तो मैंने कन्या के पिता रामनिवास तिवारी को फोन करके बता दिया था कि हम दोनों एक-दूसरे से प्रेम करते हैं और जल्द ही शादी करने वाले हैं। मैंने अपनी व भास्कर की कुछ फोटो भी इन्हें भेजकर इस बात का प्रमाण दिया था कि हम दोनों एक-दूसरे को चाहते हैं। 

कॉल कर बुलाया, एकांत में ले जाकर की छेड़छाड़ 

सब इंस्पेक्टर की प्रेमिका ने एफआईआर में उल्लेख किया है कि 7 जून 2019 को कन्या पक्ष की ओर से रामनिवास तिवारी अपने दोनों बेटों के साथ सागर आया। उसने मेरे मोबाइल पर कॉल कर मुझे विश्वविद्यालय हनुमान मंदिर के पीछे स्थित टावर के पास बुलाया और एकांत में ले जाकर मेरे साथ छेड़छाड़ कर दी। साथ ही आरोपियों ने जान से मारने की धमकी भी दी। इतना ही नहीं 3 जुलाई को कन्या पक्ष के लोगों के खिलाफ छेड़छाड़ की एफआईआर दर्ज कराने वाली सब इंस्पेक्टर भास्कर शर्मा की प्रेमिका 2 दिन पहले दोबारा सिविल लाइन थाने पहुंच गई। उसने पुलिस को बताया कि मेरे साथ सिर्फ छेड़छाड़ नहीं की बल्कि मेरे कपड़े भी फाड़े गए। 

सब इंस्पेक्टर पर धारा 420 बढ़ाई, गिरफ्तारी नहीं करने पर विवेचक सस्पेंड : 

इधर मुरैना शहर के स्टेशन रोड थाने में धारा 498-ए दहेज एक्ट में नामजद हुए सब इंस्पेक्टर भास्कर शर्मा के खिलाफ पुलिस ने एफआईआर में धारा 420 भी बढ़ा दी थी। चूंकि धारा 420 में सीधी गिरफ्तारी का प्रावधान है। बावजूद इसके केस की विवेचना कर रहे सब इंस्पेक्टर गंभीर सिंह द्वारा आरोपी सब इंस्पेक्टर को गिरफ्तार न कर मामले में ढील बरती गई। इसे घोर लापरवाही मानते हुए एसपी डॉ. असित यादव ने विवेचक सब इंस्पेक्टर गंभीर सिंह को सस्पेंड कर लाइन में भेज दिया है। 


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here