मप्र के 19 जिलों में बाढ़ की चेतावनी | MP WEATHER REPORT and FORECAST

भोपाल। मध्य प्रदेश में इन दिनों लगातार बारिश चल रही है। पिछले चौबीस घंटों में गरोठ (मंदसौर) में 200 मिमीमीटर, शुजालपुर में 190 मिमी, शाजापुर में 177 मिमी, आष्टा में 175 मिमी, अठनेर (बैतूल) 136 मिमी, होशंगाबाद में 106 मिमी एवं मंदसौर में 90 मिमी वर्षा हुई है। छिंदवाड़ा में एक निर्माणाधीन डेल की पाल टूटने की खबर है। मौसम विभाग ने अगले 24 घंटों में प्रदेश के अधिकांश जिलों में भारी बारिश की संभावना जताई है। वहीं 19 जिलों में बाढ़ की स्थिति निर्मित हो सकती है या भारी बारिश के कारण जन जीवन प्रभावित होने की संभावना है।

मुक्तिधाम के रास्ते में बाढ़ का पानी


वहीं पंडाना गांव में मुक्तिधाम के पास से बहने वाले नाले में बाढ़ आ जाने के चलते आज सुबह गांव के ही एक व्यक्ति के अंतिम संस्कार के लिए बड़ी मुश्किल से ले जाया गया। ग्रामीणजन अपनी जान जोखिम डालकर अर्थी को लेकर मुक्तिधाम तक पहुंचे।

राजगढ़ के कोटरीकलां में 10 फीट तक पानी


राजगढ़ जिले के कोटरीकलां गांव में बाढ़ जैसे हालात, गांव के बस स्टेंड पर बने सभी स्कूल,गुमठियां पानी में डूबी, मस्जिद के अंदर भी कमर-कमर पानी साथ ही पूरे गांव के निचले घरों में पानी घुसा, अभी भी तेज़ बारिश का दौर जारी। 

शाजापुर के खोकरा कलां में बाढ़


शाजापुर जिले के कालापीपल के खोकरा कलां में तालाब की पार फूटने से पूरे गाँव में बाढ़ की स्थिति निर्मित हो गई। NDRF एवं राहत टीमों के रेस्क्यू ऑपरेशन किया। ग्रामीणों का भारी नुक्सान हुआ है।

सीहोर में कुलांस नदी उफान पर: 

राजधानी भोपाल में भी पिछले चौबीस घंटों के दौरान 120़ 9 मिमी पानी बरसा है। सीहोर जिले में कुलांस नदी में उफान आ गया। इस नदी का पानी भोपाल के बडे तालाब में आता है। नदी के आए उफान से कुछ गांवों में भी पानी घुसा है। होशंगाबाद में भी अच्छी बारिश हो रही है और नर्मदा का जल स्तर बढ़ रहा है। नगर में आज भी सुबह से सावन की हल्की झड़ी लगी हुई है और सड़कों पर पानी बह रहा है।

गरोठ में 200 मिली मीटर बारिश: 

इस दौरान मंदसौर में 90 मिमी तथा जिले के गरोठ क्षेत्र में 200 मिलीमीटर पानी बरसा है। सिवना नदी का जल स्तर बढ़ने से कालाभाटा बांध का एक गेट खोल कर पानी छोड़ा जा रहा है। शाजापुर एवं शुजालपुर में भारी बारिश होने से बाढ़ के हालात बन गए तथा वर्षा का पानी कई लोगों के घर में घुस गया। इससे लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा।

इन इलाकों में अगले 2 दिन और बारिश की संभावना

मौसम विभाग के अनुसार, उत्तरी ओडिशा और उससे सटे झारखंड पर निम्न दबाव का क्षेत्र बना हुआ है, जिससे मप्र में अच्छी बारिश हो रही है। वैज्ञानिक एके शुक्ला ने बताया कि मालवा- निमाड़, विंध्य, बुंदेलखंड, ग्वालियर-चंबल, महाकौशल सहित भोपाल संभाग के जिलों में बारिश हुई। मौसम वैज्ञानिक पीके साहा ने बताया कि 31 जुलाई को बंगाल की खाड़ी में एक बार फिर लो प्रेशर एरिया बनने की संभावना है। ऐसा होने पर मध्यप्रदेश के ज्यादातर शहरों में फिर दो-तीन दिन पानी बरसने की संभावना है।

यहां अच्छी बारिश की संभावना: 

मौसम विभाग ने भोपाल, रायसेन, राजगढ़, विदिशा, सीहोर, दतिया, गुना, ग्वालियर, शिवपुरी, अशोकनगर, श्योपुरकलां, भिंड, मुरैना, उज्जैन, नीमच, रतलाम, शाजापुर, देवास, मंदसौर, आगर, इंदौर, धार, खंडवा, खरगौन, अलीराजपुर, झाबुआ, बड़वानी, बुरहानपुर, होशंगाबाद, बैतूल, हरदा, उमरिया, शहडोल, छिंदवाड़ा, जबलपुर, मंडला, बालाघाट, नगसिंहपुर, सिवनी, कटनी, रीवा, सतना, अनूपपुर, डिंडोरी पन्ना, सागर टीकमगढ़, दमोह, छतरपुर, सीधी, सिंगरौली में गरज चमक के साथ बारिश होने की संभावना जताई है।

यहां भारी बारिश से बाढ़ या जनजीवन अस्त व्यस्त होने की चेतावनी

मौसम विभाग ने अगले 24 घंटों में कटनी, मंडला, जबलपुर, अनूपपुर, सागर, दमोह, छिंदवाड़ा, बालाघाट, सिवनी, होशंगाबाद, बैतूल, हरदा, गुना, शाजापुर, रायसेन, सीहोर, राजगढ़, अलीराजपुर, अशोकनगर में भारी बारिश की संभावना जताई है। 

जीआरपी थाने में भरा पानी: 

ब्यावरा में  बारिश से शहर की निचली बस्तियों में जलभराव की स्थिति बन गई। वहीं क्षेत्र के बरखेड़ा गांव में सरकारी स्कूल बिल्डिंग के ऊपर पेड़ उखड़कर गिर गया जिससे शौचालय क्षतिग्रस्त हो गया। क्षेत्र के नदी, नालों में इस सीजन में पहली बार उफान की स्थिति बनी। अस्पताल रोड पर तहसील कार्यालय के सामने स्थित कन्या छात्रावास के गेट पर भी कम से कम 4 से 5 फीट तक गहराई में बारिश का पानी जमा हो गया। इससे रास्ता बंद हो गया। जीआरपी थाने में पानी भर गया। इससे थाने का पूरा रिकॉर्ड भींग गया।

खातौली पुल पर 8 फीट पानी:

 श्योपुर में बारिश का दौर जिले में तीन दिन से लगातार जारी है। कराहल में सबसे अधिक 107 मिमी बारिश हुई। वहीं लगातार बारिश से बड़ौदा कस्बा टापू जैसा बन गया। शुक्रवार शाम से बंद हुआ श्योपुर-कोटा मार्ग शनिवार को भी बंद रहा। इसका कारण पार्वती नदी के खातौली पुल पर दूसरे दिन भी आठ फीट तक पानी चलना है। ऐसे में हाईवे पर वाहनों की कतार लग गई है।

ट्रैक से बही गिटि्टयां: 

सबलगढ़ तक चली ग्वालियर-श्योपुर ट्रेन: सरारी और जमूदा नदियों में आए उफान से शुक्रवार को ही नैरोगेज ट्रेनों का आवागमन बंद हो गया था। शनिवार को नदियों में आए उफान से रेल ट्रैक के आसपास बिछीं गिट्टियां तक बह गई, जिससे ट्रैक पूरी तरह से खराब हो गया है। ऐसे में शनिवार को श्योपुर से ग्वालियर ट्रेन को चलाया ही नहीं गया, जबकि ग्वालियर से श्योपुर आने वाली ट्रेन को सबलगढ़ से लौटा दिया गया।

आवदा डैम हुआ फुल, ओवरफ्लो की स्थिति: 

9 हजार हेक्टेयर रकबे को सिंचित करने वाला आवदा डैम भी भर गया, 42.6 फीट क्षमता का डैम अब ओवरफ्लो होने की स्थिति में चल रहा है। अगर बारिश और हुई तो डैम ओवरफ्लो होकर बहने लगेगा।

बड़ौदा कस्बे में टापू जैसे हालात, गांवों में भरा पानी : 

भारी बारिश से बड़ौदा कस्बा टापू जैसा हो गया। कई गांवों में भी पानी भर गया है। श्योपुर ब्लॉक के सोंईकलां के पास चिमलका गांव में भी बारिश का पानी जमा हो गया। यहां के ग्रामीणों ने शनिवार को पानी निकालने के लिए कलेक्टर को आवेदन सौंपा। कलेक्टर बसंत कुर्रे ने मौके पर राजस्व अमला भेजकर जल निकासी करने के निर्देश दिए हैं। इसी तरह से पहेला, तलावदा, नारायणपुरा सहित अन्य गांव भी जलमग्न हो गए।

कोटा बैराज से चंबल नदी में छोड़ा 18 हजार क्यूसेक पानी, बढ़ेगा जलस्तर : 

भारी बारिश के बीच में गांधीसागर बांध से भी लगातार कोटा बैराज के लिए पानी छोड़ा जा रहा है। नतीजा कोटा बैराज से चंबल नदी में भी लगातार पानी छोड़ा जा रहा है। जहां शनिवार को कोटा बैराज डैम से चंबल नदी में 18 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा गया, जिसे बाद में 2.5 हजार पर डाउन करते हुए बंद कर दिया गया है। चंबल नदी में पानी छोड़े जाने के बाद सांड और रुंडी गांवों में अलर्ट जारी कर दिया गया है।

सीहोर में झमाझम बारिश: 

जिले में कल शाम से जारी झमाझम बारिश आज सुबह तक जारी रही, इसी दौरान कुछ इलाकों की निचली बस्तियों में भी पानी भर जाने की सूचना है। वर्षा का यह क्रम जिले भर में जारी है। सबसे ज्यादा वर्षा जिले के नसरुल्लागंज में हुई, जहां दो सौ मिलीमीटर से अधिक वर्षा रिकार्ड की गयी। इसके चलते यहां की कुछ निचली बस्तियों में पानी भर गया है, वहीं नदी नाले भी बह चले हैं। इसके अलावा जिले के इच्छावर और आष्टा में भी अच्छी वर्षा हुई है।

कहां-कितनी बारिश : 

शाजापुर 177.0, भोपाल 120.0, होशंगाबाद 106.2, बैतूल 61.6, पचमढ़ी 44.0, रायसेन 43.0, खंडवा21.0, धार 8.4, दतिया 14.4, जबलपुर 0.4, ग्वालियर 1.4, सतना 2.4, रीवा 2.2, गुना 9.0 उज्जैन 28.6स रतलाम 11.6, सागर 2.2, टीकमगढ़ 28.0, नौगांव 20.8, इंदौर 10.4, नरसिंहपुर 3.0 सिवनी 11.8, उमरिया 0.3, मंडला 14.0, खरगौन 25.2 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई।