Loading...

GWALIOR NEWS : बिना सांसद ROB पुल का शुभारंभ, पूरे समय तनाव बना रहा

ग्वालियर। ग्वालियर में मानसिंह प्रतिमा के पास बने रेलवे ओव्हर ब्रिज के श्रेय लेने को लेकर आज भाजपा एवं कांग्रेस के बीच आज संघर्ष की स्थिति बन गई। वहीं भारी पुलिस बल के रहते दोनों दलों के कार्यकर्ता संघर्ष से बचे और जिला प्रशासन ने भाजपा कार्यकर्ताओं को कार्यक्रम का फीता कटने के बाद कार्यक्रम समाप्त करने की घोषणा कर दी वहीं बाद में तीन मंत्रियों और विधायक ने बिना सांसद के कार्यक्रम को पूरा किया।

शिलान्यास नरेंद्र सिंह तोमर ने किया था

ग्वालियर में 49 करोड की लागत से बने आरओबी पुल का श्रेय लेने के लिये भाजपा और कांग्रेस में होड लगी रही। आरओबी का शिलान्यास पिछली केन्द्र और राज्य में भाजपा सरकार के समय केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने किया था। उसके बाद राज्य में कांग्रेस की सरकार बन गई और कांग्रेस के सिंधिया भक्त मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, श्रीमती इमरती देवी और लाखन सिंह पुल को सिंधिया की उपलब्धि बताने के लिए प्रयासरत थे। इसी बीच मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने सिंधिया के ग्वालियर प्रवास के दौरान पुल का शुभारंभ कराने का फैसला कर लिया वहीं जिला प्रशासन पर भी दबाव देकर पुल के शुभारंभ का अंतिम निर्णय कर लिया।

सिंधिया और तोमर समर्थक आमने सामने

भाजपा की जिला कार्यकारिणी ने इसका पुरजोर विरोध किया, साथ ही कार्यक्रम के दौरान कडा विरोध करने की घोषणा कर दी, और राज्य सरकार द्वारा दबाब डालकर कार्यक्रम को निरस्त करा दिया। इस कार्यक्रम के निरस्त होने के बाद 28 जुलाई को फिर मंत्रियों द्वारा शुभारंभ का निर्णय लिया गया। वहीं पुल का एक हिस्सा पहले ही शुरू हो गया था। दूसरा हिस्सा आज शुरू हुआ लेकिन उसके श्रेय लेने के लिए आज भाजपा और कांग्रेस कार्यकर्ताओं में झडप होते हुए बची। दोनों के बीच नारेबाजी हुई इसमें भाजपाई जहां सिंधिया को श्रेय देने का और भाजपा का काम नाम कांग्रेस सिंधिया का विरोध करते नारे लगा रहे थे और नरेन्द्र सिंह तोमर जिंदाबाद के नारे लगा रहे थे, वहीं कांग्रेस कार्यकर्ता सिंधिया को पूरा श्रेय दे रहे थे। 

सांसद को कार्यक्रम में जाने ही नहीं दिया गया

इस कार्यक्रम को देखते हुए पुलिस का भी इंतजाम किया गया था। वहीं कार्यक्रम की एक पटिटका का शुभारंभ के बाद जिला कलेक्टर ने सांसद से कह दिया कि कार्यक्रम समाप्त हो गया और जिला प्रशासन ने सांसद को वहां नहीं जाने दिया, लेकिन उसकी कुछ दूरी पर बनाए गये मंच पर मंत्री द्वय ने कांग्रेस की और सिंधिया की तारीफ करते हुए कार्यक्रम को संपन्न कराया।

उधर हिन्दू महासभा ने भी कल नारियल फोडकर पैदल पुल से गुजरते हुए शुभारंभ कर दिया था। इसमें हिन्दू महासभा के डॉ. जयवीर भारद्वाज, हरीदास अग्रवाल और पार्षद बाबूलाल चौरसिया नेतृत्व कर रहे थे। उधर आज हिन्दू महासभा की युवा विंग ने एक ज्ञापन आज पुल शुभारंभ के मौके पर पुल का नाम महाराजा मानसिंह के नाम पर रखने की मांग की जिस पर सांसद ने उसे नगर निगम से स्वीकृत कराये जाने का आश्वासन दिया।