Loading...    
   


अब जानवरों की हत्या किए बिना मीट निकाला जा रहा है | FOOD INNOVATION

नई दिल्ली। दुनिया भर में ज्यादातर लोग नॉनवेज खाते हैं। ऐसे में हाल ही में सामने आई एक रिपोर्ट के सामने आने से नॉनवेज पसंद करने वाले लोगों को झटका लग सकता है, क्योंकि इस रिपोर्ट में दावा किया गया है कि आने वाले 20 सालों में मतलब 2040 तक में लोगों को जानवरों का मीट मिलना पूरी तरह से तो नहीं, लेकिन 60 परसेंट तक बंद हो सकता है। 2040 तक जानवरों के मीट की जगह पेड़-पौधों से तैयार किया जाने वाला मीट ले सकता है। 

रिपोर्ट के मुताबिक 2040 तक लोगों को 35 प्रतिशत मीट कल्चर्ड और 25 प्रतिशत पेड़-पौधों से तैयार मीट मिलेगा। वहीं आमतौर पर मिलने वाले मीट की अपेक्षा यह बेहद पौष्टिक होगा। जिससे ज्यादा नॉनवेज खाने वालों को होने वाली बीमारियों से भी छुटकारा मिलेगा लेकिन अगर आपको इस बात की चिंता है कि यह खाने में कैसा होगा, तो इस बात की भी चिंता छोड़ दीजिए, क्योंकि पेड़ पौधों से तैयार मीट (मांस) का स्वाद बिल्कुल जानवर के मांस जैसा होगा। यह आप के लिए नुकसान दायक बिल्कुल नहीं होगा।

रिपोर्ट के मुताबिक पेड़-पौधों से तैयार किए जाने वाले इस मीट में वे सभी खूबियां होंगी जो सामान्य तौर पर आम मीट में होती हैं। बता दें कल्चर्ड मीट जानवरों को नुकसान पहुंचाए बिना उनकी कोशिकाओं से तैयार किया जाता है।

दुनिया भर में मांस के लिए बड़े पैमाने पर जानवरों को पाला जा रहा है, जिसके चलते यह उद्योग का रूप ले चुका है, लेकिन वैज्ञानिक अध्ययन में इस बात की भी तस्दीक करते रहे हैं कि मांस उद्योग का हमारे पर्यावरण पर नुकसानदायक असर पड़ता है और इससे कार्बन उत्सर्जन में भी बढ़ोतरी होती है।


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here