Advertisement

BHOPAL में हंगामा, मंत्री और महापौर भिड़े | पुलिस, पब्लिक से बोली गोली मार देंगे | MP NEWS



भोपाल। लोकसभा चुनाव 2019 के लिए मतदान की शुरूआत में भोपाल के 2 मतदान केंद्रों पर हंगामा हो गया। एक मतदान केंद्र पर भाजपा नेता व महापौर आलोक शर्मा और कांग्रेस नेता व कमलनाथ सरकार के मंत्री आरिफ अकील के बीच विवाद हुआ तो दूसरे मतदान केंद्र पर पब्लिक ने पुलिस पर गंभीर आरोप लगाए। 

डीआईजी बंगला स्थित मतदान केन्द्र पर हंगामा हो गया। यहां मतदान को लेकर भोपाल महापौर आलोक शर्मा का कमलनाथ सरकार में मंत्री आरिफ अकील के भाई से विवाद हो गया। जानकारी के अनुसर आरिफ नगर बूथ से भाजपा के पोलिंग एजेंट को बाहर निकाल दिया। आमिर अकील पर मारपीट का आरोप लगाया। वहीं ये भी बात सामने आ रही है कि पोलिंग एजेंट को हथियार से मारने की कोशिश के बाद महापौर आलोक शर्मा गौतम नगर थाने पहुंच गए हैं। यहां महापौर आलोक शर्मा ने उत्तर क्षेत्र विधायक आरिफ अकील और उनके भाई पर गुंडागर्दी करने का आरोप लगाया है। इसके अलावा कला निकेतन अलाउद्दीन मतदान केंद्र में भी हंगामे की ख़बर आयी। यहां पुलिस कर्मियों पर आरोप लगा कि उन्होंने लाइन में लगे वोटरों से अभद्र व्यवहार किया। लोगों का आरोप है कि पुलिस वाले ने उन्हें शूट करने की धमकी दी।

वीआईपी पोलिंग बूथ की ईवीएम गड़बड़ हुई

भोपाल के वीआईपी पोलिंग बूथ पर प्रदेश के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी वीएल कांता राव को 10 मिनट तक वोटिंग के लिए इंतजार करना पड़ा। बताया जा रहा है कि पोलिंग एजेंट यहां समय पर नहीं पहुंचे थे इसलिए मतदान शुरू होने में विलंब हुआ। ईवीएम मशीन में आई तकनीकी दिक्कत की वजह से भी मतदान में देरी हुई। लंबी कतार में लगे आईपीएस और आईएएस अफसरों को वोटिंग के लिए इंतजार करना पड़ा।

मॉक पोल के दौरान 100 ईवीएम गड़बड़ निकलीं

वी एल कांताराव ने बताया कि प्रदेश में मॉक पोल के दौरान 100 ईवीएम को बदला गया. उन्होंने बताया कि कहीं-कहीं थोड़ी बहुत शिकवा शिकायतों के बाद प्रदेश की सभी 8 सीटों पर शांतिपूर्ण तरीके से वोटिंग चल रही है। मुरैना के मतदान क्रमांक 84 पर भी ईवीएम में ख़राबी के कारण मतदान शुरू होने में देर हुई। ये आदर्श मतदान केंद्र है। सागर के पुलिस ट्रेनिग कॉलेज के मतदान केंद्र क्रमांक 75 में तकनीकी समस्या के कारण मशीन चालू नहीं हो पायी। शिवपुरी के मतदान केंद 120 पर भी मतदान समय पर शुरू नहीं हो सका। यहां भी लंबी कतार लग चुकी थी।