Loading...

लोकसभा चुनाव 2019: दिग्विजय सिंह की भोपालवासियों से अपील व घोषणा | BHOPAL LOKSABHA CHUNAV

प्रिय भोपाल वासियों, भोपाल को मैं और आप एक ऐसी जगह के रूप में जानते हैं, जिसे अगर भारत का हृदय कहा जाए,तो गलत नहीं होगा। यहां हर जाति, संप्रदाय, धर्म, और भाषा के लोग एक दूसरे को आदर व भाईचारे के साथ रहते हैं। भोपाल के लिए मध्य प्रदेश का मुख्यमंत्री रहते हुए मैंने एक ‘‘क्लीन भोपाल-ग्रीन भोपाल’’ अर्थात हरा-भरा भोपाल एवं साफ-सुथरा भोपाल की अवधारणा को सार्थक करने का प्रयास किया था।

अफसोस की बात है कि जिस भोपाल को कांग्रेस की पूर्ववर्ती सभी सरकारों ने जहां विकास से पोषित किया, वहीं भाजपा के पिछले 15 साल के शासन काल में जो अवहेलना भोपाल ने झेली एवं पिछले 30 साल से भोपाल के सांसदों द्वारा भोपाल के लिए कोई विशेष काम नहीं किया गया।उसकी वजह से भोपाल आज विकास, रोजगार एवं अर्थव्यवस्था के मामले में पिछड़ गया है। वहीं बैंगलोर, पूना, विकास और रोजगार में भोपाल से कहीं आगे निकल गये।

भोपाल का आखरी मास्टर प्लान 1995 में मेरे मुख्यमंत्री रहते दिया गया था, उस भोपाल को भाजपा के लोगों ने राजधानी के रूप में उपयोग तो बहुत किया परंतु समय के साथ उसके विकास पर ध्यान नहीं दिया।इस वजह से खुला खुला भोपाल कांक्रीट जंगल बन गया। भोपाल का कोई ब्लूप्रिंट भी वह लोग नहीं रख पाए, यही कारण है कि नोएडा जैसे इलाके आज भोपाल से कहीं आगे पहुंच गए हैं।

आप यदि मुझे भोपाल के सांसद के तौर पर चुनते हैं तो मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि भोपाल में रहने वाले सभी वर्गों से किए गए वादे पूरे करूंगा। युवाओं के लिए भोपाल में पढ़ने के बाद यहीं रहकर रोजगार के अवसर पैदा हो इसलिए यहां मेरे द्वारा भविष्य में एक सांसद के तौर पर आईटी पार्क एवं लाॅजिस्टिक हब एवं अन्य कई संस्थान लाने का मैं वचन देता हूं। महिलाओं एवं बच्चियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के साथ-साथ उनके परिवहन के लिए अलग से प्रावधान किए जाएंगे ऐसा वादा मैंने आपसे किया है, इसे भी पूरा किया जाएगा।

भोपाल के ग्रामीण इलाकों में फूड पार्क एवं फूड प्रोसेसिंग हब इस बात को सुनिश्चित करेंगे कि किसानों को फसल बेचने के लिए जहां दूर ना जाना पड़े वहीं फसल के उचित दाम भी उन्हें प्राप्त हो सके। साथ ही ग्रामीण इलाकों के युवाओं को वहां रोजगार भी उपलब्ध हो। ठभ्म्स् सहित अन्य नौरत्न कंपनियों को मोदी सरकार ने गर्त में पहुंचा दिया।मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि ठभ्म्स् कारखाने का गौरव वापस दिलाऊंगा।

इससे पूर्व भी हमारी सरकार ने मेरे मुख्यमंत्री रहते हुए मेरे प्रयासों से भोपाल को नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, टीटी नगर स्टेडियम, विभिन्न समाजों की धर्मशालाएं एवं सामुदायिक भवनों के लिए जमीन, धार्मिक स्थलों के लिए जमीन एवं ऐसे कई संस्थान,मेरे प्रयासों से मिले हैं। मैं कर्मचारी भाईयों के लिए आवास सुविधा सहित उनकी मांगों को पूरा कराने का प्रयास करूंगा।

प्रिय भोपालवासियों, भाजपा के पास आपके विकास आधारित समाज जैसे कालाधन, महंगाई, रोजगार, गरीबी इत्यादि इन सवालों का कोई जवाब नहीं है। इसी कारण भाजपा से उन्होंने ऐसा उम्मीदवार दिया है जिस पर ना केवल कई गंभीर आरोप हैं बल्कि उनके बयान भी केवल नफरत से भरे रहते हैं।

साथियों भोपाल अपनी गंगा जमुनी तहजीब के लिए जाना जाता है। उसका सांप्रदायिक सद्भाव कायम रहे इसके लिए मैं हमेशा आप लोगों के साथ खड़ा रहूंगा। भाजपा की उम्मीदवार जो यह नहीं जानती कि भोपाल उत्तर से भाजपा उम्मीदवार कौन था, और जो अपने भोपाल विजन डाक्यूमेंट में पहली ही लाइन झूठी लिखती हैं। कि ‘‘भोपाल स्वच्छता सर्वेक्षण में दूसरे नंबर पर है।’’ जिन्हें भोपाल के बारे में यह नहीं मालूम कि भोपाल स्वच्छता सर्वेक्षण में दूसरे से फिसल कर 19 वें नंबर पर आ गया है तथा जिन्हें केवल नफरत भरे बयान देने की आदत है ऐसा उम्मीदवार भोपाल का विकास कैसे करेगा। ऐसे उम्मीदवार के सामने बेहतर विकल्प कौन है, आप बेहतर समझते हैं।

साथियों भोपाल में अपार संभावनाएं हैं। भोपाल तालाब, बोट क्लब व व्हीआईपी रोड, भोजवैट लैंड परियोजना मेरे शासनकाल में प्रारंभ हुई। भोपाल हेरिटेज टूरिज्म हब के रूप में विकसित हो सकता है वहीं स्पोर्ट्स हब, एजुकेशन हब, आर्थिक हब के साथ-साथ रोजगार हब के रूप में भी विकसित करने का मैं वचन देता हूं।

आइए हम सब मिलकर नये भोपाल की परिकल्पना करें,भोपाली सांस्कृतिक विरासत को सहेजते हुए,हम 21वीं सदी का स्मार्ट भोपाल बना सकें। मोदी सरकार ने स्मार्ट सिटी की जगह स्मार्ट मोहल्ला बनाया और हरा भरा टीटी नगर का विनाश कर दिया। भोपाल में विभिन्न वर्गों के लोगों का एक दूसरे के प्रति आदर हमेशा बना रहे एवं आप लोगों की सुख सुविधा आधारित योजनाओं के लिए आपके सांसद के तौर पर 24 घंटे मैं आपके लिए उपलब्ध रहूं। भोपाल के विकास के लिए आप निर्णय लेकर मुझे चुनें। ऐसी अपील मैं आपसे करता हूं। 
आपके सुख दुख में साथी।
आपका
(दिग्विजय सिंह)