Advertisement

SIDHI: पुलिस से शिकायत करने गए आदिवासी का शव फांसी पर झूलता मिला | MP NEWS



उपेन्द्र मिश्रा/सेमरिया/सीधी। पुलिस चौकी बम्हनी इलाके में सीधी सेमरिया (Sidhi Semaria) मार्ग स्थित कुबरी गजाज नदी (Kubari Gajaj River) के पास एक आदिवासी युवक (Tribal youth) अमीरे प्रजापत (Amire Prajapat)का फांसी पर लटका हुआ शव मिला है। चौंकाने वाली बात यह है कि पेड़ की ऊंचाई मात्र 5 फीट है और शव के पैर जमीन पर मुड़े हुए थे। पत्नी ने बताया कि वो सेमरिया पुलिस चौकी में खाद्यान्न की शिकायत करने गए थे। पुलिस ने पति को रोककर पत्नी को भगा दिया था। 

मृतक के पत्नी का माने तो सोमवार के दिन लगभग 4 बजे खाद्यान्न न मिलने की शिकायत को लेकर पुलिस चौकी सेमरिया पति पत्नी पहुंचे हुए थे जहां सेमरिया (Semaria) पुलिस द्वारा पत्नी को घर जाने को बोल दिए और पति को बैठाए रहे और शाम 10:30 बजे के आसपास पत्नी खाना लेकर सेमरिया चौकी आई तो सेमरिया पुलिस द्वारा बताया गया है कि हम उसे छोड़ दिए हैं और वह चला गया। पत्नी रात भर इधर-उधर तलाशती रही लेकिन कहीं पता पति का नहीं लगा आज सुबह मंगलवार के दिन 7:बजे के आसपास गजाज़ नदी में फांसी के फंदे पर लटकाने की खबर मिली। मृतक के पत्नी का सीधा सीधा आरोप है कि पुलिस चौकी सेमरिया द्वारा मारपीट की गई और जब मौत हो गई तो उसे पेड़ पर लटका दिया गया है। 

3 घंटे लगातार किया चक्काजाम

इस घटना को लेकर परिजन एवं ग्रामीणों ने चक्का जाम 9 बजे से कर दिए जहां 12 बजे तक मार्ग अवरुद्ध रहा। इस घटना की जानकारी होते ही सेमरिया, बम्हनी , चुरहट,  रामपुर नैकिन, एवं सीधी एडिशनल एसपी सूर्यकांत शर्मा सहित पुलिस हालात को काबू करने के लिए मौजूद रहे, इस घटना में एसडीएम, तहसीलदार FLC के साथ मौके पर पहुंचे। प्रशासनिक अधिकारियों ने लाख समझा किए लेकिन ग्रामीणों ने चक्का जाम ना खोलने की जिद पर अड़े रहे और कलेक्टर एसपी घटनास्थल पर आए और सेमरिया पुलिस के सभी स्टाफ को लाइन अटैच करने की मांग पर अड़े रहे। 

मात्र 5 फीट का है पेड़

तब जाकर 12 बजे प्रशासन पुलिस द्वारा सभी को हटाते हुए चक्का जाम हटाए और ग्रामीणों को खदेड़ा तब जाकर रास्ता खुला, हैरान करने वाली बात यह भी है कि जिस पेड़ पर अमीरे प्रजापत (Ameer Prajapa) लटक रहे थे वह पेड़ लगभग 5 फीट के आसपास था जहां अमीरे प्रजापत का पैर पूरी तरह से जमीन में छुआ हुआ था। इससे यह संदेह के दायरे में आता है कि अगर पैर जमीन में छुआ हुआ है तो फांसी कैसे लग सकती है यह तो जांच का विषय है।

इनका कहना है
चुरहट क्षेत्र के विधायक सरतेदु तिवारी (MLA Sartheedu Tewari) का कहना है एडिशनल एसपी सूर्यकांत शर्मा द्वारा हमें आश्वासन दिए हैं कि पूरी निष्पक्ष जांच होगी और दोषी पर कार्यवाही होगी। श्री तिवारी का कहना है कि यह घटना बहुत ही दुखद दायिनी है और इस घटना की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए। निष्पक्ष जांच एवं दोषी के खिलाफ 302 एसटीएससी का मामला दर्ज हो। रात में जो स्टॉफ पुलिसकर्मी थे उन्हें लाइन हाजिर किया जाए। अगर निष्पक्ष जांच नहीं हुआ तो बड़े आंदोलन की भी चेतावनी दी है।

इनका कहना है
भाजपा के जिला अध्यक्ष डॉ राजेश मिश्रा का कहना है कि मृतक की पत्नी का सीधा सीधा आरोप है कि सेमरिया चौकी में पति को 11:बजे रात तक रखे रहे इसके बाद उसको छोड़े दिए फिर फिर आज सुबह 7 बजे संदेह की स्थिति में फांसी के फंदे में लटकता मिला। अमीरे प्रजापत को देख कर ऐसा लगता है कि हत्या नहीं आत्महत्या है इसकी निष्पक्ष जांच होनी चाहिए और रात में जो सेमरिया पुलिस स्टाफ में थे उन्हें लाइन हाजिर करना उचित होगा दोष सिद्ध होने पर हत्या का मामला दर्ज होना चाहिए।