Loading...

पति जिंदा रहे इसलिए लड़की ने तलाक की अर्जी लगा दी | MP NEWS

भोपाल। फैमिली कोर्ट में एक ऐसा मामला पहुंचा जिसमें युवती ने पति से लड़ाई-झगड़े के लिए नहीं, बल्कि पति की जान बचाने के लिए तलाक के लिए अर्जी दी। मामले की जब काउंसलिंग की गई तो युवती ने बताया कि वह अपने पति से तलाक लेना नहीं चाहती है। उसने लव मैरिज की है उसके परिजन पति को मार डालेंगे, इसलिए उसने पति की जान बचाने के लिए तलाक ले रही है। सच्चाई जानने के बाद कोर्ट ने तलाक की अर्जी को खारिज कर दिया। काेर्ट ने पुलिस को बुलाकर पति-पत्नी को उनके घर करोंद भेजा। वहीं पुलिस को दोनों को सुरक्षा देने का आदेश दिए।

फैमिली कोर्ट में एक युवती ने तलाक के लिए अर्जी लगाई थी। इस मामले में जज ने काउंसलिंग कराने के लिए इस प्रकरण को काउंसलर सरिता राजानी के पास भेजा। काउंसलिंग के लिए पति-पत्नी को बुलाया, तो लड़की के परिजन विरोध करने लगे। उनका कहना था कि दोनों की अलग-अलग काउंसलिंग की जाए। लड़की-लड़के के साथ बैठकर कोई बातचीत नहीं करेगी। वहीं लड़के के परिजन भी विरोध करने लगे। यहां तक कि दोनों के परिजनों काउंसलिंग रूम में हाथापाई होने लगी। मामले की गंभीर को देखते हुए काउंसलर ने जज को पूरी स्थिति से अवगत कराया। जज ने तुरंत पुलिस भेजी। इसके बाद पुलिस के साए में दोनों की काउंसलिंग हुई।

कोर्ट ने पुलिस बुलाकर भेजा पति के साथ
काउंसलर की रिपोर्ट के बाद मामले में सुनवाई करते हुए जज भावना साधो ने युवती से पूरी जानकारी ली। उसने पति के साथ जाने की बात कही। इसके बाद उन्होंने पुलिस के साथ पति-पत्नी को साथ घर भेजने के आदेश दिए। साथ ही युवती और युवक के परिजनों को दोनों की जीवन में हस्तक्षेप न करने की चेतावनी दी। पुलिस को पति-पत्नी को सुरक्षा प्रदान करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि समय-समय पर इसका फॉलोअप लिया जाएगा।

अकेले होते ही युवती बोली-परिजनों को शादी स्वीकार नहीं
काउंसलर राजानी ने बताया कि परिजनों के हटते ही युवती ने बताया कि उसने अंतरजातीय विवाह किया है। वह ठाकुर है। उसके परिजन को यह शादी स्वीकार नहीं है। उनका कहना है कि लड़का नीची जात का है। युवती ने काउंसलर बताया कि परिजनों ने शादी के बाद पति के साथ नहीं रहने दिया। उसे बंधक बनाकर रखा। पति के साथ मारपीट की। उनका कहना है कि पति को तलाक नहीं दिया, तो उसे मार डालेंगे। उसने पति की जान बचाने के लिए तलाक के लिए आवेदन दिया है।

पुलिस के साथ युवती को भेज दिया पति के घर
अंतरजातीय विवाह के मामले में युवती ने अपने परिजनों के कहने पर तलाक का प्रकरण लगाया था। युवती पति के साथ रहना चाहती थी। तो पुलिस के साथ युवती को पति के घर भेज दिया। इस मामले में फाॅलोअप लिया जा रहा है।
भावना साधो, जज, फैमिली कोर्ट