ASHWINI SHARMA: आयकर कार्रवाई जारी, कई फ्लैट और लग्जरी गाड़ियां, दुबई तक प्रॉपर्टी | BHOPAL NEWS

Advertisement

ASHWINI SHARMA: आयकर कार्रवाई जारी, कई फ्लैट और लग्जरी गाड़ियां, दुबई तक प्रॉपर्टी | BHOPAL NEWS

भोपाल। प्लेटिनम प्लाजा में रहने वाले अश्विनी शर्मा को ज्यादातर लोग नहीं जानते परंतु यह भोपाल का नया करोड़पति है। सबकी नजर अश्विनी शर्मा की तरफ तब पड़ी जब आयकर विभाग की कार्रवाई के बीच अचानक भोपाल पुलिस पहुंची और पूरे प्लेटिनम प्लाजा को घेर लिया। एसपी से अंदर घुसने की कोशिश की। आय के साधन तो पता नहीं चल पाए परंतु भोपाल और भारत के कई शहरों के अलावा दुबई तक अश्विनी शर्मा की प्रॉपर्टी होने की खबर आ रही है। अश्विनी शर्मा को लक्झरी कारों का शौक है। वो विंटेज कार कलेक्शन भी करता है। उसकी पार्किंग से 3 विंटेज कार मिलीं हैं। 

प्लेटिनम प्लाजा में फ्लैट नहीं पूरे 2 फ्लोर खरीद रखे हैं

बताया जा रहा है कि अश्विनी शर्मा को सीएम कमलनाथ के पूर्व ओरएसडी प्रवीण कक्केड़ ने स्थापित किया है। प्लेटिनम प्लाजा के चौथे और छठे फ्लोर पर शर्मा और उनके परिजन रहते हैं। पूरे प्लाजा में शर्मा की लग्जरी गाड़ियां चर्चा का केंद्र रहती हैं। उनके पास दो लैंड रोवर, तीन मर्सिडीज और तीन विंटेज कार का कलेक्शन है। शर्मा ने अपने विंग में चौथे और छठे फ्लोर के सारे फ्लैट या तो खुद खरीद रखे हैं या फिर वहां उनके परिजन रहते हैं। शेष बिल्डिंग में रहने वाले उस फ्लोर पर यदाकदा ही जाते हैं। शर्मा खुद लोगों से ज्यादा मेल-मिलाप पसंद नहीं करते। 

काम धंधा क्या करते हैं किसी को पता नहीं

उनके परिवार में एक दो साल का बेटा है। वह जब नीचे घूमने और खेलने आता है तो उसके साथ भी एक बॉडीगार्ड होता था। शर्मा के कामकाज के बारे में लोगों को कम ही जानकारी है। प्लाजा के कमर्शियल विंग के भी छठे फ्लोर में ही उनका ऑफिस है। बताया जा रहा है कि प्रतीक जोशी उनके ही परिवार का सहयोगी है, जिसके पास से 9 करोड़ रुपए का कैश मिला है। 

आयकर विभाग का सीक्रेट मिशन था 'ऑपरेशन कक्कड़'

कमलनाथ के ओएसडी प्रवीण कक्कड़ के यहां आयकर टीम रात 2 बजे ही पहुंच गई। कक्कड़ परिजनों के साथ बाहर थे। घर में नौकर थे। टीम को देखकर नौकर ने चाबी गुम होने का बहाना बनाया। उसने कहा कि साहब के आने के बाद ही घर का दरवाजा खुलेगा। अंतत: में नौकर को शासकीय कार्य में बाधा पहुंचाने के आरोप में जेल भिजवा देने की धमकी दी गई। इसके बाद ही उसने चाबी दी। आईटी का ऑपरेशन कक्कड़ बेहद सीक्रेट मिशन था। विभाग को अंदेशा था कि स्थानीय लोगों से सहयोग लेने से जानकारी लीक हो सकती है। इसलिए सीआरपीएफ की टीम दो दिन पहले दिल्ली से रवाना हुई। डिप्टी कमांडेंट महेंद्र सिंह वर्मा की अगुवाई में पूरी रात के सफर के बाद यह टीम शनिवार को दिन के 11 बजे नीमच पहुंची। वर्मा ने बताया कि टीम में महिला सुरक्षाकर्मियों को लेना था। 

अश्विनी शर्मा ने आधा घंटे बाद दरवाजा खोला

अश्विनी शर्मा के घर पर आयकर विभाग की टीम रात्रि 2.30 पर पहुंची। टीम के दरवाजा खटखटाने पर उनके परिजनों ने दरवाजा खोला। लेकिन सशस्त्र बल और आयकर की टीम को देखते ही दोबारा दरवाजा बंद कर लिया। टीम के लोग बारबार उनसे दरवाजा खोलने को कहते रहे। पर दरवाजा नहीं खुला। लंबी मशक्कत के बाद रात 3 बजे दरवाजा खुला। आशंका जताई जा रही है कि इस दौरान घर के लोगों ने कैश और दस्तावेज ठिकाने लगाने की कोशिश की।