संविदा कर्मचारी महाकुंभ: मंत्री बंगले से ही नहीं निकले, अल्टीमेटम दिया | EMPLOYEE NEWS

Advertisement

संविदा कर्मचारी महाकुंभ: मंत्री बंगले से ही नहीं निकले, अल्टीमेटम दिया | EMPLOYEE NEWS


भोपाल। राजधानी भोपाल में आज संविदा कर्मचारियों ने जंगी प्रदर्शन किया. प्रदेश भर से सैकड़ों संविदा कर्मचारी प्रदर्शन में शामिल होने यहां पहुंचे थे. कर्मचारी अपने को नियमित करने और नौकरी से निकाले गए साथियों की बहाली की मांग कर रहे हैं. स्वास्थ्य विभाग के संविदा कर्मचारियों ने 25 फरवरी तक का अल्टीमेटम दिया है.

प्रदेशभर के संविदा कर्मचारियों का सुबह से भोपाल पहुंचना शुरू हो गया था. ये लोग नयी सरकार के सामने अपनी पुरानी मांग रखने आए थे. संविदा कर्मचारी शिवराज सरकार के समय से रेग्युलर नौकरी की मांग कर रहे हैं. साथ ही उन कर्मचारियों को नौकरी में बहाली के लिए कह रहे हैं जिनकी सेवा ख़त्म हो चुकी है.

सरकार बदलने के बाद संविदा कर्मचारी फिर नयी उम्मीद से यहां पहुंचे हैं कि शायद उनकी किस्मत भी बदल जाए. कर्मचारी शाहजहांनी पार्क में जमा हुए. इस प्रदर्शन को प्रदेश के 34 संविदा संगठनों ने समर्थन दिया. सभी के सदस्य प्रदर्शन में शामिल होने पहुंचे.

संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों ने 25 फरवरी तक का अल्टीमेटम सरकार को दिया है. इनकी शिकायत है कि विभाग के मंत्री कर्मचारियों से मिल नहीं रहे. स्वास्थ्य संविदा कर्मचारी, नियमितिकरण और 90 प्रतिशत वेतनमान की मांग पर अड़े हैं.

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन / National Health Mission ( NHM ) के तहत काम कर रहे संविदा कर्मचारी स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट के बंगले पहुंचे थे, लेकिन मंत्री बंगले के बाहर ही नहीं आए. कर्मचारियों ने चेतावनी दी कि अगर 25 फरवरी तक मांगें पूरी नहीं की गई तो वो दोबारा आंदोलन शुरू कर देंगे. नयी सरकार को लोकसभा चुनाव में पुरानी सरकार जैसा सबक सिखाएंगे.