Loading...

पीएम नरेंद्र मोदी का तमिलनाडु में भारी विरोध, सोशल मीडिया पर #GoBackModi ट्रेंड किया

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज केरल और तमिलनाडु के दौरे पर हैं। मगर उनकी यात्रा से पहले ही ट्विटर पर गो बैक मोदी हैशटैग (#GoBackModi) ट्रेंड कर गया। ट्विटर का यह ट्रेंड राज्य का केंद्र सरकार के प्रति गुस्सा दिखाता है। इसी बीच मदुरई में एमडीएमके के मुखिया वाइको के नेतृत्व में एमडीएमके के कार्यकर्ताओं ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के खिलाफ काले झंडे दिखाकर प्रदर्शन किया और उन पर तमिलनाडु के हितों के साथ विश्वासघात करने का आरोप लगाया। 

पीएम मोदी ने गाजा तूफान में मदद नहीं की, 3 लाख लोग बेघर हुए
पार्टी कार्यकर्ताओं ने काले रंग के गुब्बारे छोड़ने के अलावा मोदी विरोधी नारे लगाये और उन पर कावेरी एवं अन्य मुद्दों पर तमिलनाडु के हितों के साथ विश्वासघात करने का आरोप लगाया। राज्य का कथित आरोप है कि सरकार गाजा तूफान से प्रभावित जिलों की सहायता करने में नाकाम रही। इस तूफान के कारण 3 लाख से ज्यादा लोग बेघर हो गए थे और लगभग 11 लाख पेड़ों को तबाह कर दिया था जो एक बड़ी आबादी की आजीविका थे। 

ज्यादातर ट्वीट्स में एक कार्टून का इस्तेमाल किया गया है जिसकी आउटलाइन तमिलनाडु की है और इसमें स्वर्गीय बुद्धिजीवी नेता ईवीआर पेरियर 'गो बैक मोदी' कहते हुए दिखाए दे रहे हैं। वहीं प्रधानमंत्री को भगवा जैकेट पहने हुए दिखाया गया है और वह चॉपर की सीढ़ियों की तरफ भागते हुए दिख रहे हैं। ट्विटर और फेसबुक पर गो बैक मोदी लिखा जा रहा है। 

जवाब में भाजपा ने वेलकम्स मोदी हैशटैग चलाया
हालांकि हजारों अन्य ट्वीट्स में पीएम मोदी का मदुरई में स्वागत किया जा रहा है और शहर में एम्स बनाने के लिए उन्हें धन्यवाद कहा गया है। ट्विटर पर मदुरई थैंक्स मोदी और टीएम वेलकम्स मोदी हैशटैग भी ट्रेंड हो रहे हैं। 

इसलिए नाराज है तमिलनाडु
पीएम मोदी की तूतीकोरिन के स्टरलाइट शूटिंग पर चुप्पी जिसमें 13 स्टरलाइट विरोधियों को पुलिस ने मार दिया था। 
कावेरी जल विवाद पर केंद्र का कर्नाटक की तरफ होना, खासतौर से कावेरी पर बन रही मेकेदाटू जलाशय परियोजना। जिसे लेकर किसानों का दावा है कि इससे उन्हें कावेरी के जल का हिस्सा नहीं मिलेगा। 
मेडिकल में छात्रों के चयन के लिए राज्य के 12वीं नंबर वाले सिस्टम की बजाए नीट लागू करना 

यह दूसरी बार है जब पीएम मोदी को ऑनलाइन लोगों के विरोध का सामना करना पड़ रहा है। इससे पहले पिछले साल अप्रैल में जब पीएम डिफेंस एक्सपो में शामिल होने के लिए चेन्नई पहुंचे थे तब भी गो बैक मोदी ट्विटर पर काफी ट्रेंड हुआ था। उस समय विपक्षी पार्टियों के हजारों प्रदर्शनकारियों ने हवा में काले गुब्बारे उड़ाए थे। जिसके बाद पीएम को प्रदर्शनकारियों से बचने के लिए आईआईटी मद्रास के कार्यक्रम में शिरकत करने के लिए चॉपर का इस्तेमाल करना पड़ा था।