Advertisement

मम्मी के MOBILE में पोर्न वीडियो देखकर रेप किया, क्राइम शो देखकर लाश ठिकाने लगाई | NATIONAL NEWS



मुंबई। कुछ पेरेंट्स सतर्क रहते हुए बच्चों को स्मार्टफोन तो नहीं दिलाते परंतु अपना मोबाइल फोन यूज करने या गेम (MOBILE GAME) खेलने के लिए दे देते हैं। वो नजर नहीं रख पाते कि बच्चे उनके मोबाइल में गेम ही खेल रहे हैं कुछ और...। मात्र 15 साल का लड़का मोबाइल पर अचानक आए पोर्न पॉपअप के कारण एक शातिर अपराधी बन गया। उसका सारा ब्रिलियंट माइंड क्राइम करने और पुलिस को मिसगाइड करने की साजिश रचने में लग गया। 

पुलिस ने बताया कि दो दिन सफेद पुल के नाले में एक ट्रॉली बैग के अंदर दस साल के बच्चे की लाश मिली थी। पुलिस ने घटना की जांच के बाद एक पंद्रह वर्षीय लड़के और उसके दोस्त को गिरफ्तार किया है। दोनों ने पुलिस को बताया कि उन्होंने लाश भरकर यह ट्रॉली बैग साकीनाका के नाले में फेंका था। 

मम्मी-पापा के मोबाइल पर गेम के बहाने देखता था पॉर्न 
पुलिस पूछताछ में नाबालिग ने बताया कि वह अपने मम्मी-पापा का मोबाइल लेकर गेम खेलता था। एक दिन गेम खेलने के दौरान एक पॉप-अप आया। गलती से वह क्लिक हो गया तो उसमें पॉर्न विडियो चलने लगे। उसने यह वीडियो देखा तो उसने इंट्रस्ट आने लगा। वह फिर रोज मोबाइल गेम के बहाने पॉर्न विडियो देखने लगा। उसे वीडियो देखने के बाद सेक्स करने की इच्छा हुई। 

पॉर्न देखकर किया सेक्स, डरकर दबाया गला 
पुलिस ने बताया कि दस साल का बच्चा और आरोपी पहले एक ही इलाके में रहते थे। गुरुवार शाम साढ़े पांच बजे बच्चा ट्यूशन से घर लौट रहा था। आरोपी उसके पास गया और अपने साथ घर ले आया। यहां उसने मोबाइल पर पॉर्न देखा और यौन उत्पीड़न की कोशिश की। बच्चे ने इसका विरोध किया तो वह डर गया और उसने गला दबाकर उसे मार दिया। 

दोस्त को फोन करके बुलाया 
हत्या के बाद उसने उसकी शर्ट निकाली और उसके स्कूल बैग में रख दी। उसके बाद अपने घर के ट्रॉली बैग में लाश रखी और फिर अपने एक दोस्त को फोन करके बुलाया। वह बच्चे का स्कूल बैग लेकर पास के सार्वजनिक शौचालय पहुंचा और वहां उसे फेंक दिया। 

ट्रॉली बैग और स्कूल बैग अलग-अलग लोकेशन पर फेंका 
स्कूल बैग फेंकने के बाद वह वापस घर आया और अपने दोस्त के साथ उसकी स्कूटर पर ट्रॉली बैग लेकर 90 फीट रोड के पास नाले के किनारे पहुंचा। यहां उसने ट्रॉली बैग नाले में फेंक दिया। पुलिस ने जो सीसीटीवी फुटेज देखे तो उसमें साफ दिखा कि दोनों नाबालिग स्कूटर पर ट्रॉली बैग लेकर जा रहे हैं। 

पुलिस से बचने के लिए क्राइम शो देखकर बनाया प्लान 
आरोपियों ने अपना शातिर दिमाग चलाते हुए इस घटना को किडनैपिंग के बाद हत्या का मामला दिखाने के लिए एक प्लान बनाया। उन्होंने एक तीसरे लड़के को अपने प्लान में शामिल किया और उससे बच्चे के घर पर फोन करवाया। लड़के ने फोन करके पांच लाख रुपये की फिरौती मांगी। आरोपियों ने फोन करने वाले लड़के से कहा कि एक फोन करने के बदले उसे 20,000 रुपये मिलेंगे। इस फोन कॉल के बाद उन्होंने अपना सिम कार्ड तोड़कर फेंक दिया। आरोपियों ने बताया कि हत्या के बाद लाश ठिकाने लगाने और बचने का पूरा प्लान उन्होंने क्राइम शो देखकर बनाया।