Loading...

AMIT SHAH ने कैलाश विजयवर्गीय को दीं थीं 66 सीटें, 38 पर भाजपा हार गई | MP NEWS

इंदौर। साल 2013 के विधानसभा चुनाव में 165 सीट जीतने वाली भाजपा इस बाद 109 सीटों पर सिमटकर रह गई। भाजपा को सबसे अधिक नुकसान 66 सीटों वाले मालवा-निमाड़ क्षेत्र में हुआ है। 2013 में यहां से 56 सीट जीतने वाली भाजपा इस बार इस क्षेत्र से मात्र 28 सीट ही जीत सकी है।

भाजपा नेताओं के अनुसार पार्टी ने इस चुनाव में मालवा-निमाड़ की जिम्मेदारी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय को सौंपी थी लेकिन वे अपने पुत्र आकाश को चुनाव जीताने में इतने व्यस्त हो गए कि मालवा-निमाड़ की अन्य सीटों पर ध्यान ही नहीं दे सके। इंदौर संभाग की 37 सीटों में से भी भाजपा मात्र 10 सीट ही जीत सकी है। सूत्रों का कहना है कि कई ऐसी सीट भाजपा हारी है जहां थोड़ा मैनेजमेंट कर दिया जाता तो पार्टी वहां से जीत सकती थी।

विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा ने राष्ट्रीय और प्रदेश स्तर पर विचार विमर्श कर नेताओं को क्षेत्रवार जिम्मेदारी सौंपी थी। विजयवर्गीय को इंदौर संभाग के साथ ही मालवा-निमाड़ की सीटों पर चुनाव में उभरने वाले अंतर्कलह को समाप्त कर सबकों काम पर लगाना था, लेकिन वे इस काम पर अधिक ध्यान नहीं दे सके। इसका कारण पार्टी कुछ नेता विजयवर्गीय के पुत्र मोह को बता रहे है।

कैलाश ने पहले तो इंदौर-2 से आकाश के टिकट के लिए जोर लगाया। जब बात नहीं बनी तो इंदौर-3 से भाजपा विधायक उषा ठाकुर को महू भेज दिया गया और इंदौर-3 से आकाश को टिकट मिल गया। इंदौर-3 से कांग्रेस के अश्विन जोशी मैदान में थे और आकाश की जीत आसान नहीं लग रही थी। चूंकि यहां से जीतना विजयवर्गीय की प्रतिष्ठा का प्रश्न बन गया था अत: कैलाश का पूरा ध्यान इंदौर-3 पर ही रहा। इसके चलते वह मालवा-निमाड़ की अन्य सीटों पर अधिक ध्यान नहीं दे सके।

INDORE संभाग की 37 में से मात्र 10


इंदौर संभाग की 37 सीटों में से भाजपा मात्र 10 पर ही पार्टी के उम्मीदवार जीत दर्ज करा सके। इंदौर जिले में इंदौर-2 से रमेश मेंदोला, इंदौर-3 से आकाश विजयवर्गीय, इंदौर-4 से मालिनी गौड, इंदौर-5 से महेन्द्र हार्डिया और महू से उषा ठाकुर जीती। वहीं धार से नीना वर्मा, झाबुआ से जीएस डामोर, खंडवा से देवेन्द्र वर्मा, हरसूद से विजय शाह और पंधाना से राम डागोरे ने जीत दर्ज की है। साल 2013 के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने इंदौर संभाग में 28 सीट जीती थी, इस बार भाजपा को यहां 18 सीटों का नुकसान हुआ है।