मप्र चुनाव: टॉप ब्रेकिंग न्यूज | MP ELECTION: TOP BREAKING NEWS

23 October 2018

भोपाल। मध्यप्रदेश के महत्वपूर्ण चुनाव समाचार आपको दिनभर यहां मिलते रहेंगे। कृपया इस पेज को बुकमार्क कर लें। हम दिनभर यहीं पर चुनाव समाचार अपडेट करते रहेंगे। कृपया अपने क्षेत्र के प्रमुख समाचार editorbhopalsamachar@gmail.com पर भेजें। चुनाव संबंधी सभी समाचार, चर्चाएं, विश्लेषण एवं कयास पढ़ने के लिए कृपया यहां क्लिक करें

अब तक नहीं हो पाया सपाक्स पार्टी का रजिस्ट्रेशन

भोपाल। निर्वाचन आयोग से अभी तक सपाक्स पार्टी का रजिस्ट्रेशन नहीं हुआ है। उनके आवेदन पर स्टेटस आ रहा रजिस्ट्रेशन पेंडिंग। अगर नामांकन प्रक्रिया से पहले नहीं हुआ पंजीकरण तो निर्दलीय माने जाएंगे सपाक्स के उम्मीदवार। सपाक्स का कहना है हमने सभी दस्तावेज़ जमा करा दिए हैं 28 अक्टूबर को हो सकता नोटिफिकेशन।

शिवराज सिंह पर धर्म की राजनीति करने का आरोप, शिकायत

भोपाल। कांग्रेस ने चुनाव आयोग से मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान द्वारा धार्मिक आयोजन का दुरूपयोग चुनाव प्रचार के लिये करने के कारण उन पर आचार संहिता के उल्लंघन का प्रकरण दर्ज करने की मांग की है। कांग्रेस प्रवक्ता और चुनाव कार्य के प्रभारी ने चुनाव आयोग को की गयी शिकायत में लिखा है कि मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान द्वारा विगत 22 अक्टूबर को साधु-संतों का एक बड़ा समागम आयोजित कराया गया। सम्मेलन में उन्होंने स्वयं भाग लेकर विधानसभा चुनाव में चौथी बार विजय प्राप्त करने के लिये धर्म का दुरूपयोग किया है। आचार संहिता में स्पष्ट उल्लेख है कि किसी प्रत्याशी द्वारा वोट लेने के लिये धर्म की दुहाई नहीं दी जाना चाहिये। धार्मिक आयोजनों अथवा धार्मिक स्थानों का उपयोग चुनाव प्रचार के मंच के रूप में नहीं किया जाना चाहिये। मुख्यमंत्री ने साधु-संतों का सम्मेलन आयोजित कर चुनाव प्रचार का काम किया है जो आचार संहिता का स्पष्ट उल्लंघन है। अतः उनके विरूद्व आचार संहिता के उल्लंघन की कार्यवाही की जाये।

झाबुआ से 50 हजार मतदाताओं का पलायन

झाबुआ। 7,46,894 मतदाताओं में से 50 हजार मतदाताओं ने रोज़गार की तलाश में जिले से किया पलायन,जिला प्रशासन के जनपदवार किये गए सर्वे में खुलासा,जिला प्रशासन ने 11 दलों को जिले से सटे गुजरात और राजस्थान भेजा,ग्रामीणों को वोट के लिये प्रेरित कर 28 नवंबर को मतदान के लिये झाबुआ बुला सके।

एमपी के भाजपा नेताओं को हमसे सीखना चाहिए: यूपी के मीडिया प्रभारी ने कहा

भोपाल। एक चैनल को दिए गए इंटरव्यू मैं उत्तर प्रदेश के मीडिया प्रभारी आलोक अवस्थी ने साफ-साफ कहा कि मध्य प्रदेश के मीडिया प्रभारी और प्रवक्ताओं को उत्तर प्रदेश के मीडिया प्रभारी और प्रवक्ताओं से बहुत कुछ सीखने की जरूरत है। यह कह कर उन्होंने मध्य प्रदेश भाजपा के मीडिया विभाग की पोल खोलते हुए साफ-साफ असफल सिद्ध कर दिया। मध्य प्रदेश भाजपा के इतिहास में पहली बार विधानसभा चुनाव मैं किसी अन्य प्रदेश और केंद्रीय नेतृत्व द्वारा प्रदेश के प्रत्येक संभाग पर कमान संभाली जा रही है साथ ही साथ पहली बार भाजपा के प्रदेश कार्यालय से मीडिया किसी होटल में स्थानांतरित हो रहा है।

जनता ने गधे जैसे नेताओं को चुनकर विधानसभा भेजा: हार्दिक पटेल

जबलपुर। मध्य प्रदेश के सियासी रण में भाजपा के मुश्किल बढ़ाने गुजरात के युवा नेता हार्दिक पटेल सक्रीय हो गए हैं उन्होने मध्यप्रदेश के नेताओं और विधायक को गधा तक कह दिया। हर्दिक पटेल ने कहा कि हमारी जनता ने गधे जैसे नेताओं को चुनकर विधानसभा भेजा है और यही वजह है कि हम भी आज गधे जैसे बनकर घूम रहे है।

खुशियां फिर आने वाली है: सिंधिया

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ट्वीटर पर किसानों को लेकर सरकार को घेरा है और लिखा है कि हमारे अन्नदाता पर जुल्म और अत्याचार की सारी हदें पार कर इस सरकार ने हज़ारों किसान भाइयों को आत्महत्या करने को मजबूर किया। इन चुनावों में हमारे अन्नदाता अपने ऊपर हुए हर एक जुल्म और ज्यादती का हिसाब कर इस सरकार की बिदाई तय करेंगे। सिंधिया ने फोटो शेयर करते हुए लिखा है ''बहुत लूटा जनता को, किसानों पर खूब किया अत्याचार, मध्यप्रदेशवासियों की यही पुकार, अब बनाएंगें कांग्रेस सरकार...खुशियां फिर आने वाली है, भाजपा मध्यप्रदेश से जाने वाली है''।

मप्र में मायावती की 12 जनसभाएं

विधानसभा चुनावों के लिए BSP ने कसी कमर। मध्यप्रदेश में मायावती 12 जनसभाएं करेंगी, छत्तीसगढ़ में मायावती की 6 रैलियां प्रस्तावित।

कम्प्यूटर बाबा का संत समाज में कोई बड़ा कद नहीं: स्वामी परमानंद

हिंदू आचार्य महासभा के अध्यक्ष स्वामी परमानंद गिरि ने कम्प्यूटर बाबा पर हमला बोलते हुए कहा कि वे व्यक्तिगत हित साधने वाले हैं, उनका संत समाज में कोई बड़ा कद नहीं है। संतो का सरकार को पूरा आशीर्वाद है। इस मौके पर मुख्यमंत्री शिवराज ने कहा कि मैं सबसे बड़ा संत साधक हूं, मुझे साधु-संतों का आशीर्वाद मिल गया है। प्रदेश में चौथी बार भाजपा की सरकार जरूर बनेगी। सोमवार को हिंदी भवन में राजाभोज एकल अभियान समिति ने इस संत सभा का आयोजन किया था।

बीजेपी-कांग्रेस के अलावा बीएसपी में भी दावेदारों की जंग

मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव 2018 काफी रोचक मोड़ पर आ गया है। टिकटों के लिए इस बार सिर्फ बीजेपी या कांग्रेस में ही नहीं, बीएसपी में भी मारामारी कम नहीं है। कांग्रेस के साथ गठबंधन से इंकार करने के बाद बीएसपी ने 20 सीटों पर प्रत्याशियों के नाम का एलान भी बीजेपी और कांग्रेस से पहले कर दिया लेकिन बाकी बची 208 सीटों पर अब कई दावेदार सामने आ रहे हैं। बीएसपी का कहना है किसी भी प्रत्याशी को उसकी राजनैतिक पृष्ठभूमि, जाति, धर्म, व्यवसाय और ज़मीनी पकड़ को ध्यान में रखकर ही टिकट दिया जाएगा। प्रदेश प्रभारी रामअचल राजभर खुद दावेदारों से वन टू वन बात कर रहे हैं। बता दें कि बीएसपी यहां कर्नाटक प्रसंग से प्रेरित होकर चुनाव मैदान में है। उसे पता है कि यदि गठबंधन की सरकार बनी तो उसकी सारी शर्तें पूरी हो जाएंगी और संभव है सीएम की कुर्सी भी मप्र के इतिहास में पहली बार किसी तीसरी पार्टी को मिले। 
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Popular News This Week