Loading...

PCC में दिग्गजों के प्रवक्ता, कांग्रेस लापता | MP NEWS

भोपाल। मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी की लिस्ट में कुल 34 प्रवक्ता दर्ज हैं परंतु इनमें से एक भी कांग्रेस के लिए काम करता नजर नहीं आ रहा। कुछ तो सक्रिय ही नहीं हैं और जो सक्रिय हैं वो अपने अपने नेता के लिए काम कर रहे हैं। वो दिग्विजय कांग्रेस, सिंधिया कांग्रेस और कमलनाथ कांग्रेस के प्रवक्ता हैं। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का प्रवक्ता पीसीसी के किसी कक्ष में नहीं मिलता। प्रवक्ताओं की जिम्मेदारी होती है कि वो विरोधी दल पर हमला करें परंतु पीसीसी में प्रवक्ता आपस में ही उलझते रहते हैं। 

कांग्रेस ने मीडिया विभाग में 34 प्रदेश प्रवक्ता और 26 पेनलिस्टों की नियुक्ति की है। इनमें से कुछ प्रदेश प्रवक्ताओं की नियुक्ति बाद में हुई, जिनमें अवनीश बुंदेला, जितेंद्र मिश्र, संतोष गौतम, धर्मेंद्र बाजपेयी शामिल हैं। बाजपेयी को छोड़कर अन्य तीनों की नियुक्ति गुपचुप ढंग से की गई। अधिकांश प्रवक्ताओं ने तो आज तक कोई बयान जारी नहीं किया है।

ये हैं कमलनाथ, सिंधिया और दिग्विजय सिंह के प्रवक्ता

सैयद जाफर पीसीसी अध्यक्ष कमलनाथ के संबंध में जानकारियां देते हैं तो सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के बारे में सूचनाएं पंकज चतुर्वेदी देते हैं। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह की सूचनाएं योगेंद्र सिंह परिहार तो पूर्व पीसीसी अध्यक्ष अरुण यादव से संबंधित सूचनाएं दुर्गेश शर्मा देते रहे हैं। मीडिया विभाग की अध्यक्ष शोभा ओझा को पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेश पचौरी के खेमे का माना जाता है। वो कभी कभी कांग्रेस का काम करती भी नजर आतीं हैं। नरेंद्र सलूजा पीसीसी अध्यक्ष कमलनाथ के मीडिया समन्वयक हैं तो उनकी हर गतिविधि की जानकारी वे भेजते हैं। शेष कांग्रेस से उन्हे कोई वास्ता नहीं। 

आपस में ही उलझते रहते हैं प्रवक्ता

करीब तीन महीने पहले सबसे पहला विवाद सामने आया था, जिसमें दुर्गेश शर्मा और स्वदेश शर्मा के बीच कहासुनी हुई थी। दुर्गेश और शाहवर आलम का भी इसी दौरान विवाद हुआ था। मीडिया विभाग की अध्यक्ष शोभा ओझा की संगीता शर्मा के साथ पीसीसी के गेट पर ही इसी तरह की बातचीत हुई। ताजा विवाद दुर्गेश शर्मा और जेपी धनोपिया के बीच एक मामले को लेकर हुआ। शनिवार को दोनों के बीच ओझा के कक्ष में कहासुनी हुई। सूत्रों के मुताबिक जब धनोपिया संतुष्ट नहीं हुए तो उन्होंने कमलनाथ से शिकायत की। रविवार को संगठन प्रभारी उपाध्यक्ष चंद्रप्रभाष शेखर ने दोनों को चेतावनी दी।
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com