मध्यप्रदेश: अजब कांग्रेस के गजब पैमाने और फैसले | EDITORIAL by Rakesh Dubey

04 September 2018

मध्यप्रदेश में विधान सभा चुनाव में टिकट लेना है और कांग्रेस का टिकट लेना है तो बड़ी मुश्किल है। कांग्रेस से टिकट प्राप्ति के लिए आपका फेसबुक पर 15 हजार लाइक्स के साथ होना  जरूरी है। इससे कम में काम नहीं चलेगा। इसके अलावा ऐसे कई और मापदंड कांग्रेस ने बनाये हैं। निर्णय भी अजीबोगरीब हो रहे हैं, निर्णय लेते समय प्रदेश के पदाधिकारी यह भी ध्यान रखने की जरूरत नहीं समझ रहे हैं कि कांग्रेस की अन्य राज्यों में नीति क्या हैं ? अभी तो कांग्रेस का एक मात्र लक्ष्य कैसे भी प्रदेश की 230 सीटों के लिए उम्मीदवार जुटाना है वैसे अभी तक उसके सारे गुटों में एक राय नहीं है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ द्वारा दिग्विजय शासन काल और दिए गये कुछ बयानों से अन्य गुट अपने को असहज महसूस कर रहे हैं।

गंज बासौदा में एक सभा में कमलनाथ का हर पंचायत में गौ शाला बनाने का वक्तव्य उसके नेताओं को रास नहीं आया। प्रदेश कांग्रेस के एक पूर्व महासचिव ने निजी बातचीत में कहा कमलना  शायद इसके बाद अब हायकमान से पूछ कर बोलेंगे। दिल्ली में उनके हर पंचायत में गौ शाला खोलने वाले बयान की अच्छी प्रतिक्रिया नहीं हुई है। यद्दपि कोई अधिकारिक बयान जारी नहीं हुआ, लेकिन कांग्रेस केरल में गौ वंश की सरे आम हत्या करने वाले अपने कार्यकर्ताओं के साथ खड़ी है। इस प्रकरण में मुकदमा झेल रहे कांग्रेस कार्यकर्ताओं को दिल्ली से विधिक मदद और केरल कांग्रेस द्वारा वित्तीय मदद देने के भी समाचार हैं। यह एक संवेदनशील मुद्दा है कांग्रेस या अन्य किसी भी दल को ऐसे मुद्दों से बचना चाहिए जिसकी दल के भीतर और बाहर अच्छी प्रतिक्रिया न हो।

कांग्रेस ने वैसे अपनी चुनावी रणनीति भाजपा से आगे रखने का फैसला किया है। इस माह के अंतिम सप्ताह ने पूर्व कांग्रेस लगातार पांच चार और तीन बार हारने वाली सीटों पर प्रत्याशी की घोषणा करने वाली है, लेकिन प्रदेश कांग्रेस कमेटी सिर्फ नामों की सिफारिश करेगी। अंतिम फैसला दिल्ली के दरबार में होगा। ऐसी सीटों की संख्या 105 है। मध्यप्रदेश विधानसभा में कुल 230 सीट हैं। इन 105 सीटो के साथ अन्य सीटों पर टिकट के लिए जो फार्मूला कांग्रेस ने सार्वजनिक किया है वो भी कम आसान नहीं है।

कांग्रेस ने टिकट चाहने वालों के लिए पूर्व मंत्री चन्द्र प्रभाष शेखर के हस्ताक्षर से जारी एक पत्र में कहा है कि प्रत्येक दावेदार का फेसबुक पेज और ट्विटर पेज होना अनिवार्य है उसे व्हाट्स एप  पर भी सक्रिय होना अनिवार्य है। इसके आगे की शर्तों पर तो अभी प्रदेश कांग्रेस के कई पदाधिकारी अनुपयुक्त है जैसे फेसबुक पर 15 हजार लाइक्स, ट्विटर पर 5 हजार फालोवर और  बूथ के सभी लोगों का व्हाट्स एप ग्रुप। इस टेढ़ी खीर के बाद कांग्रेस कार्यकर्ता आईटी विशेषज्ञों के पास दौड़ रहे है और वो सब होना शुरू हो गया है जिसे फर्जीवाडा कहते हैं।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी प्रदेश का दौरा करने वाले हैं। उसके पहले ऐसे कई फैसले और होंगे, पर किसी को इस बात की फुर्सत नहीं है कांग्रेस की राष्ट्रीय नीति किस विषय पर क्या हैं? समझें, ऐसे में चुनाव आ जायेंगे और नतीजे ?
देश और मध्यप्रदेश की बड़ी खबरें MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com
श्री राकेश दुबे वरिष्ठ पत्रकार एवं स्तंभकार हैं।
संपर्क  9425022703        
rakeshdubeyrsa@gmail.com
पूर्व में प्रकाशित लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए
आप हमें ट्विटर और फ़ेसबुक पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और अधिक समाचारों के लिए अगले पेज पर जाएं, दोस्तों के साथ साझा करने नीचे क्लिक करें

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Popular News This Week