Yalko Group की संपत्ति नीलाम कर निवेशकों का पैसा लौटाया जाएगा | BUSINESS NEWS

28 August 2018

राजनांदगांव। यालको ग्रुप की संपत्ति नीलाम की जाएगी। इसके लिए कार्रवाई शुरू कर दी गई है। राजनांदगांव कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी और सक्षम प्राधिकारी भीम सिंह की ओर से YALSCO REAL ESTATE & AGRO FARMING LIMITED रिद्धि-सिद्धि कालोनी द्वारा निक्षेपकों के हितों के विपरीत कार्य करने तथा निक्षेपकों की निक्षेप की गई राशि समय पर वापस न करने के कारण यह कदम उठाया है। 

बताया गया कि तहसील डोंगरगांव, छुरिया, मोहला, डोंगरगढ़ एवं राजनांदगांव के विभिन्न ग्रामों में कुल रकबा 292.36 एकड़ धारित भूमि को कुर्की की गई है। सिंह ने संबंधित अनुविभागीय दंडाधिकारियों को अनुभाग के अंतर्गत आने वाले कुर्क संपत्तियों के विक्रय/नीलामी का दायित्व दिया है। आपको जानकर हैरानी होगी कि, अब तक जिन कंपनियों के खिलाफ मामले दर्ज हैं। उसमें क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसाइटी ज्यादा है। जिन्होंने नियमों को दरकिनार कर रुपए का लेन-देन शुरू किया। ऐसा इसलिए करते हैं क्योंकि, सोसाइटी नोर्मस में उल्लेख है कि, चिटफंड कंपनी ऑपरेट नहीं कर सकते हैं। 

228 लोगों ने फोरम में लगाया था वाद 
- चिटफंड कंपनी यालको ग्रुप के खिलाफ जिला उपभोक्ता फोरम दुर्ग-भिलाई के 228 लोग गए थे। यालको रियल स्टेट एंड एग्रो फार्मिंग लिमिटेड सुपेला व यालको सेविंग एंड क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसाइटी नामक संस्था ने करीब 228 लोगों से करीब 3.4 करोड़ रुपए वसूले और फर्म को वर्ष 2015 में बंद कर दिया। मामले को लेकर पीड़ित पक्ष फोरम पहुंचा। अक्टूबर 2017 में इसे लेकर फोरम में आवेदन किया गया। जहां विचारण के बाद छह महीने पहले ही इस पर आदेश जारी किया। उन्होंने 228 मामलों में 3.4 करोड़ रुपए की राशि मय ब्याज आदेश दिनांक से मय ब्याज पक्षकारों को देने का आदेश किया है। मामले में दोनों फर्मों के संचालक प्रेम लाल देवांगन व ममता किरण देवांगन पहले से जेल में बंद है। 

Directors of YALSCO REAL ESTATE & AGRO FARMING LIMITED
PREMLAL DEWANGAN
MAMTA KIRAN DEWANGAN
NISHA DEWANGAN
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Popular News This Week