कॉलेज का चेयरमैन और HOD मेरी मौत का जिम्मेदार: डॉ. स्मृति का सुसाइड नोट

14 June 2018

इंदौर। इंडेक्स मेडिकल कॉलेज की छात्रा डॉ. स्मृति लहरपुरे द्वारा आत्महत्या करने के पहले लिखा गया चार पेज का सुसाइड नोट बुधवार को सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। इसमें उसने कॉलेज के चेयरमैन और एचओडी को अपनी मौत का जिम्मेदार बताया है। कॉलेज प्रबंधन द्वारा लगातार फीस बढ़ाकर जमा करने का दबाव बनाया जा रहा था। प्रेमी से भी रिश्ते को लेकर कुछ महीनों से अनबन चल रही थी। उसने शादी के लिए मना कर दिया था। पुलिस ने बुधवार को पांच छात्रों और दो प्रोफेसरों के बयान लिए।

खुड़ैल पुलिस के मुताबिक रविवार रात कॉलेज के हॉस्टल में डॉ. स्मृति (28) पिता किशोर लहरपुरे निवासी अरेरा कॉलोनी (भोपाल) का शव मिला था। उसने एनेस्थीसिया के इंजेक्शन का ओवर डोज लेकर खुदकुशी कर ली थी। सोमवार को एफएसएल की टीम ने छात्रा और उसके साथी डॉ. प्रखर गुप्ता के कमरे की जांच को तो आठ पेज का सुसाइड नोट मिला था।

डॉ. पिंकी सैनी (मृतक की दोस्त) ने बताया कि स्मृति ने चार पेज का सुसाइड नोट लिखकर अपने भाई को मेल किया था। चार पेज के सुसाइड नोट में उसने कॉलेज के चेयरमैन सुरेश भदौरिया और एचओडी डॉ. केके खान को मौत का जिम्मेदार बताया। उसने लिखा काउंसलिंग के दौरान फीस 8.55 लाख और हॉस्टल फीस 2 लाख बताई गई थी। ज्वॉइनिंग के दौरान 2 लाख कॉशन मनी के नाम जबरन जमा कराए। फिर सेशन के बीच में फीस बढ़ाकर 9.90 लाख कर दी गई। 1.35 लाख डिफ्रेंस अमांउट जमा करने के लिए सभी छात्रों को प्रताड़ित किया जाने लगा।

फर्जी दस्तावेज से लिया MCI का रजिस्ट्रेशन

सुसाइड नोट के मुताबिक डॉ. स्मृति ने वर्ष 2016 में कॉलेज में एडमिशन लिया था। वर्ष 2107 में प्रबंधन दोबारा छात्रों पर 9.90 लाख रुपए फीस जमा करने का दबाव बना रहा था। स्मृति ने इनकार कर दिया। इस वजह से एचओडी खान ने उसे ओटी और डिपार्टमेंट से बाहर कर दिया था। प्रबंधन छात्रों को एक बार स्टायपंड देता था। कुछ दिन पहले थर्ड ईयर की फीस जमा करने के लिए प्रबंधन दबाव बना रहा था। प्रबंधन से जुड़े अमोलकर ने चेयरमैन का नाम लेकर फीस जमा करने के लिए कहा था। एचओडी छुट्टी लेने पर साढ़े चार से छह हजार फाइन वसूलती थी। कॉलेज ने एमसीआई का रजिस्ट्रेशन भी फर्जी दस्तावेज से लिया है।

यह लिखा सुसाइड नोट में

चार पेज का नोट लिखने की शुरुआत उसने मां और दोनों भाई से माफी मांगकर की है। नोट में लिखा है यह लेटर उसने पूरे होश में लिखा है। उसने कभी ड्रग्स और शराब का सेवन नहीं किया। परिवार के सदस्यों को अपना सपोर्ट सिस्टम बताया। उसके भाई और मां ने उसका हर निर्णय में साथ दिया है। आखिरी पैरा में स्मृति ने लिखा है प्रेशर, प्रताड़ना और फीस लूट की वजह से वह परेशान हो गई है। इसके कारण उसने यह कदम उठाया है। चेयरमैन को ज्यादा से ज्यादा सजा मिले, यह उसकी आखिरी तमन्नाा है। माता-पिता को पूरी फीस वापस की जाए। कॉलेज के छात्र एक साथ मिलकर इस धोखेबाज कॉलेज को बंद कराएं।

INDEX MEDICAL COLLEGE शुरू से विवादों में रहा 

कॉलेज शुरू से विवादों में रहा है। कभी एडमिशन प्रक्रिया तो कभी फीस को लेकर। स्मृति सहित दो छात्र कॉलेज की प्रताड़ना से परेशान होकर खुदकुशी कर चुके हैं। छात्र और मैनेजमेंट के बीच का विवाद अकसर सामने आता रहता है।

चेयरमैन का लेना-देना नहीं
पुलिस ने बुधवार को कॉलेज से छात्रा का रिकॉर्ड जब्त किया है। चार पेज का सुसाइड नोट नहीं देखा है। एक सुसाइड नोट पुलिस के पास है। मामले में चेयरमैन का कोई लेना-देना नहीं है।
आर.सी. यादव प्रबंधक इडेक्स कॉलेज
देश और मध्यप्रदेश की बड़ी खबरें MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Popular News This Week

 
-->