Loading...

ई-टेंडर घोटाला: व्हिसल ब्लोअर IAS को जबरन छुट्टी पर भेजा

भोपाल। करीब 3 लाख करोड़ के ई-टेंडर घोटाले में खबर आ रही है कि भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज बुलंद करने वाले सीएम शिवराज सिंह के निर्देश पर घोटाले का खुलासा करने वाले व्हिसल ब्लोअर एवं पीएचई के प्रमुख सचिव प्रमोद अग्रवाल आईएएस को जबरन छुट्टी पर भेज दिया गया है। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने आरोप लगाया है कि सरकार मामले की लीपापोती कर रही है। यह मध्यप्रदेश का अब तक का सबसे बड़ा घोटाला है। सीएम शिवराज सिंह का इस संदर्भ में कोई बयान नहीं आया है। मजेदार बात तो यह है कि ई-टेंडर का सिस्टम घोटालों से बचने के लिए ही बनाया था। 

ई-टेंडर घोटाला से कांग्रेसी भी लाभान्वित हुए हैं

बता दें कि मप्र के बड़े घोटालो में शुमार ई-टेंडर घोटाला मामले में श्री अग्रवाल ने मैप-आइटी के डायरेक्टर मनीष रस्तोगी को पत्र लिखकर मामले की तकनीकी जांच करने को कहा है। सूत्रों का कहना है कि इसमें सीएम शिवराज सिंह के नजदीकी कहे जाने वाले 05 आईएएस अफसर शामिल हैं। अब सरकार इस मामले को दबाने में पूरी ताकत से जुट गई है। कांग्रेस में कमलनाथ के अलावा किसी दिग्गज का बयान सामने नहीं आया है। शायद इस ई-टेंडर घोटाला कुछ कांग्रेसी नेता भी लाभान्वित हुए हैं। 

सीबीआई जांच हो, दोषी सामने आये: कमलनाथ

कमलनाथ ने बताया नल-जल समूह योजना के तहत गाँवों में पानी पहुँचाने के लिये बनी परियोजना के लिये, ई-प्रोक्योंरमेंट पोर्टल में टेम्परिंग कर लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी के 1000 करोड़ के ई-टेंडर में रेट बदलने का मामला बेहद गंभीर है। इसकी सीबीआई से जाँच होना चाहिये क्योंकि इनमे से दो टेंडर उन पेयजल परियोजनाओं के है, जिनका शिलान्यास देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी इसी माह करने वाले हैं। नाथ ने कहा कि भ्रष्टाचार मुक्त व्यवस्था के लिये ई- टेंडर की व्यवस्था लागू की गयी थी, लेकिन इसमें सामने आयी गड़बड़ी से यह पूरी व्यवस्था व इसमें अभी तक शामिल लाखों करोड़ों के सभी ई-टेंडर संदेह के घेरे में है, इन सभी की विस्तृत ढंग से जाँच हो , इसके दोषी सामने लाये जाये।

प्रदेश का सबसे बड़ा घोटाला

मोदी जी द्वारा उद्घाटन की जाने करोड़ों की परियोजनाओ के ई-टेंडर में टेम्परिंग का मामला सामने आने के बाद, शिवराज सरकार लीपापोती में लगी। गड़बड़ी पर पर्दा डालने के लिये व दोषियों का बचाने का खेल शुरू। गड़बड़ी उजागर करने वाले अधिकारी को भेजा अवकाश पर। प्रदेश का अब तक ता सबसे बड़ा घोटाला। 
जैसा कि कमलनाथ ने ट्वीटर पर लिखा
देश और मध्यप्रदेश की बड़ी खबरें MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com