CM माणिक सरकार ने सरकारी आवास त्यागा, 1 कमरे में पत्नि के साथ रहेंगे | NATIONAL NEWS

08 March 2018

नई दिल्ली। देश भर में पूर्व मुख्यमंत्री और मंत्री सरकारी आवासों पर वर्षों से कब्जा जमाए बैठे हैं। हालात यह है कि मामला सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच गया है परंतु त्रिपुरा के निवर्तमान मुख्यमंत्री माणिक सरकार ने नई सरकार के शपथ ग्रहण से पहले ही सरकारी आवास खाली कर दिया। खास बात यह है कि उनके पास अपना एक कमरे का घर तक नहीं है। पार्टी ने अपने गेस्ट हाउस का एक कमरा उन्हे रहने के लिए दिया है जिसमें वो अपनी पत्नि के साथ रहेंगे। याद दिला दें कि माणिक सरकार वही व्यक्ति हैं जो 25 साल तक त्रिपुरा के मुख्यमंत्री रहे। इस दौरान उनका वेतन मात्र ही इतना हो जाता है कि वो अपने लिए आलीशान कोठी बना सकते थे परंतु उन्होंने अपना सारा वेतन पार्टीफंड में दान किया। 

सीपीएम की राज्य इकाई के सचिव बिजन धर ने बताया कि माणिक सरकार अब मार्क्स ऐंगल्स सरणी स्थित अपने आधिकारिक आवास को खाली कर रहे हैं। यह उनके नए आवास से करीब 500 मीटर की दूरी पर स्थित है। सरकार अब पार्टी कार्यालय के गेस्ट हाउस के एक कमरे में अपनी पत्नी पांचाली भट्टाचार्य के साथ रहेंगे।

सीपीएम कार्यालय के सचिव हरिपद दास ने कहा कि माणिक सरकार वही सब खाएंगे जो पार्टी कार्यालय की रसोई में बनाया जाएगा। दास ने कहा, ‘उन्होंने किताबें, कपड़े और कुछ सीडी पार्टी कार्यालय में भिजवा दिए हैं। अगर नई सरकार उन्हें सरकारी आवास आवंटित करती है तो वह उसमें जा सकते हैं।

माणिक सरकार की पत्नी ने एजेंसी से कहा कि वह मार्क्सवादी साहित्य और किताबें पार्टी कार्यालय के पुस्तकालय और बीरचंद्र सेंट्रल लाइब्रेरी को दान कर देंगी. दंपति की कोई संतान नहीं है और माना जाता है कि माणिक सरकार ने सीएम रहते कोई संपत्ति अर्जित नहीं की है.

देश के सबसे 'गरीब' मुख्यमंत्री
माणिक सरकार अपनी संपत्ति और सादा जीवन के लिए सुर्खियों में रहते आए हैं. दरअसल वो देश के सबसे गरीब मुख्यमंत्री हैं और उनकी ओर से दिए गए संपत्ति के ब्यौरे के अनुसार उनके पास महज 1520 रुपये नगद है. बता दें कि 20 जनवरी को उनका बैंक बैलेंस 2410.16 रुपये था. 2013 में पिछले विधानसभा चुनाव के दौरान माणिक सरकार ने जो हलफनामा दाखिल किया था, उसमें उन्होंने अपना बैंक बैलेंस 9720.38 रुपये दिखाया था.

ढह गया लेफ्ट का किला
त्रिपुरा में हाल में हुए विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने वाम किला ढहा दिया था. यहां बीते 25 साल से लगातार से सीपीएम की अगुवाई वाले लेफ्ट मोर्चे का शासन था और 20 वर्ष से सरकार की कमान माणिक सरकार के हाथ में थी. चुनाव में 35 सीटों पर बीजेपी ने कब्जा किया, जबकि सीपीएम को 16 सीटों पर ही संतोष करना पड़ा है. त्रिपुरा में बीजेपी और आईपीएफटी गठबंधन को 59 सीटों में से 43 सीटों पर जीत मिली. इस सरकार में बीजेपी के युवा नेता और प्रदेश अध्यक्ष बिप्लब देब को मुख्यमंत्री बनाया जाना है.

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Popular News This Week

 
-->