अमिताभ के पास जया से ज्यादा जेवरात, बच्चन दंपत्ति के विदेशी बैंकों में खाते | BOLLYWOOD NEWS

10 March 2018

मुंबई। यूं तो अमिताभ बच्चन शुद्ध हिंदी बोलते हैं और देशभक्ति व स्वदेशी का समर्थन भी करते हैं परंतु उन्होंने अपना पैसा विदेशी बैंकों में जमा कर रखा है। अमिताभ और जया बच्चन दोनों के खाते विदेशी बैंकों में हैं, जिनमें करोड़ों रुपए जमा हैं। फिल्मों के काम करने के अलावा भी उनके कई इनकम सोर्स हैं। बच्चन दंपत्ति करीब 1000 करोड़ की संपत्ति के मालिक हैं। बच्चन दंपत्ति पर 100 करोड़ का लोन भी हैं। मजेदार बात यह है कि अमिताभ के पास जया बच्चन से ज्यादा जेवरात हैं। जया के पास 26 करोड़ जबकि अमिताभ के पास 36 करोड़ के जेवरात हैं। 

राज्यसभा चुनाव के लिए दाखिल हुए जया बच्चन के शपथ पत्र के मुताबिक, उनके और अमिताभ बच्चन के पास कुल 10.01 अरब से ज्यादा की चल-अचल संपत्ति है। जया के पास 26.10 करोड़ और अमिताभ के पास 36.31 करोड़ के जेवरात हैं। 

इसी तरह जया के पास 67,79,31,546 रुपये की और अमिताभ के पास 4,71,04,35,020 रुपये की चल संपत्ति का जिक्र किया गया है। शपथ पत्र में जया के नाम 1.30 अरब की और अमिताभ के पास 3.32 अरब रुपये की अचल संपत्ति का उल्लेख है। इनमें लखनऊ, बाराबंकी, भोपाल, नोएडा, अहमदाबाद, पुणे, गांधीनगर, जूहू (मुंबई) की जमीनों का जिक्र है। 
दोनों के ऊपर बड़ी देनदारी भी है जहां जया के ऊपर 87,34,62,085 रुपये की और अमिताभ के ऊपर 18,28,20,951 रु. क्रेडिट है। यानी कि दंपती पर कुल 100 करोड़ से भी ज्यादा का कर्ज है।

19 बैंकों में हैं बच्चन दंपती से खाते

अमिताभ बच्चन और उनकी पत्नी जया बच्चन के लंदन, फ्रांस, दुबई और पेरिस सहित देश-विदेश के 19 बैंकों में अकाउंट हैं। इनमें चार बैंक खाते जया बच्चन के हैं, जिनमें 6.84 करोड़ रुपये जमा हैं। जया का केवल एक खाता देश से बाहर एचएसबीसी बैंक दुबई में है, जहां सबसे ज्यादा 6.59 करोड़ रुपये जमा हैं। 
बिग बी के 15 बैंक खातों में 47.47 करोड़ रुपये से अधिक की एफडी और पैसा है। अमिताभ का पैसा और एफडी मुंबई और दिल्ली के बैंकोंं के अलावा बैंक ऑफ इंडिया की पेरिस शाखा, बैंक ऑफ इंडिया की लंदन शाखा और बीएनपी फ्रांस में है। यह बात खुद जया ने नामांकन पत्र के साथ दाखिल अपने शपथ पत्र में बताई है।

और अधिक समाचारों के लिए अगले पेज पर जाएं, दोस्तों के साथ साझा करने नीचे क्लिक करें

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

mgid

Loading...

Popular News This Week

Revcontent

Popular Posts