MPPSC: राज्य सेवा परीक्षा में 15 से ज्यादा प्रश्न गलत, क्या मजाक है | MP NEWS

22 February 2018

भोपाल। राज्य के प्रशासनिक सेवाओं के चयन की सबसे बड़ी संस्था मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग द्वारा 18 फरवरी को राज्य सेवा परीक्षा चयन प्रारंभिक परीक्षा संपादित की गई थी। एक तो परीक्षा के प्रश्न पत्र का स्तर काफी कठिन और आंकड़ों से भरा था और आयोग के द्वारा आंसर की जारी की गई है। परीक्षा संपन्न होने के चार दिवस पश्चात भी विशेषज्ञों द्वारा बनाई गई उत्तर कुंजी में काफी गलतियां पाई गई हैं जिससे छात्र उग्र हो उठे हैं। उम्मीदवारों का कहना है कि यदि विशेषज्ञों के पास इतनी भी जानकारी नहीं है तो उन्हे आंसर की बनाने के लिए नियुक्त ही क्यों किया गया। उनकी नियुक्तियां ही गलत हैं, उनका सेवा शुल्क जब्त करके जुर्माना लगाया जाना चाहिए। उन्हे ब्लैकलिस्टेड कर दिया जाना चाहिए। 

हम 1500 रुपए क्यों दें, हमें तो इनाम मिलना चाहिए
उम्मीदवारों ने सीएम शिवराज सिंह चौहान को ईमेल किए गए गए आपत्ति पत्रों की प्रतिलिपि भोपालसमाचार.कॉम को भेजी हैं। प्राप्त हुईं आपत्तियों में  उम्मीदवारों का कहना है कि मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग द्वारा जारी उत्तर कुंजी के उत्तरों के संशोधन हेतु 100 रुपए की राशि निर्धारित की गई है। 15 प्रश्नों को चुनौती देने के लिए 1500 रुपए जमा करने होंगे और पोर्टल शुल्क अलग से। सवाल यह है कि आयोग के विशेषज्ञों ने मूर्खतापूर्ण आंसरशीट बनाई गई, उम्मीदवार गलतियां निकालकर दे रहे हैं। उन्हे तो इसके लिए इनाम मिलना चाहिए। विशेषज्ञों पर जुर्माना लगाना चाहिए। उम्मीदवार 1500 रुपए क्यों दें, नियम ही गलत है। इस नियम को चुनौती दी जानी चाहिए। 

ऐसे प्रश्न जिनका स्तर एकदम सामान्य है उनका भी आयोग विशेषज्ञ ने उत्तर एकदम गलत दिया है ऐसे कुछ प्रश्न है: 
चरण पादुका हत्याकांड कहां हुआ है उत्तर दिया गया है झाबुआ 
भारत छोड़ो का नारा किसने दिया है उत्तर दिया गया है पंडित जवाहरलाल नेहरू
प्लांड इकोनॉमी फॉर इंडिया पुस्तक का लेखक कौन है उत्तर दिया गया है जे डी बिरला
ईस्ट इंडिया कंपनी की प्रारंभिक दौर में वेस्टर्न प्रसिडेंसी कहां थी उत्तर दिया गया है मुंबई
shung वंश के पूर्वज मूलतः किस स्थान से आए थे उत्तर दिया गया है प्रयाग 
स्वतंत्र भारत में पहली बार संसदीय सचिव का पद किस वर्ष  बनाया गया उत्तर दिया गया है 1951

निम्न में से कौन सा गलत है
राज्यसभा में सीटों का आवंटन उड़ीसा में दिया गया है 10
आयोग ने वायरस की परिभाषा ही परिवर्तित करती है आयोग के अनुसार जब किसी वेबसाइट के ग्राहक नकली नेटवर्क यातायात के बाढ़ के कारण इसे एक्सेस करने में असमर्थ होते हैं तो इसे वायरस कहा जाता है. 
मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव 2013 में कितनी महिलाएं निर्वाचित हुई हैं आयोग ने उत्तर दिया है 25
कालिका पुराण किस धर्म से संबंधित है उत्तर दिया गया है वैष्णव

यह तो रही सामान्य प्रश्नों की बात जिसे कंपटीशन की तैयारी शुरू करने वाला एक सामान्य सा परीक्षार्थी भी समझता है लेकिन यह कहां तक तर्कसंगत है कि राज्य प्रशासनिक सेवाओं के चयन की सबसे बड़ी संस्था जो डिप्टी कलेक्टर DSP जैसे पदों का चयन करती है और जिसके टीम के अनुभवी सदस्य एक पेपर को सेट करने के लिए लाखों रुपए लेते हैं। उनके द्वारा इस प्रकार का पेपर एवं उत्तर कुंजी दी जाती है।

या तो तत्काल संशोधन करें या उग्र विरोध के लिए तैयार रहें
छात्रों की मांग है कि किसी अनुभवी व्यक्ति से 2 दिनों के अंदर संशोधित उत्तर कुंजी जारी करके उत्तर कुंजी में संशोधन हेतु अभ्यावेदन मांगे जाएं। आयोग का गैर जिम्मेदाराना पूर्ण रवैया तैयारी करने वाले परीक्षार्थियों को हतोत्साहित करने वाला है। छात्रों का कहना है कि अगर इस संदर्भ में आयोग द्वारा कोई निर्णय नहीं लिया जाता है तो आयोग कार्यालय के सामने प्रदर्शन एवं धरना दिया जाएगा। छात्रों का आरोप है कि यह केवल आयोग द्वारा पैसे की कमाई करने के लिए किया गया है और यह राज्य में बेरोजगारों की खस्ता हालत पर मजाक बनाया जा रहा है।
राज्य सेवा परीक्षा के 10 से अधिक उम्मीदवारों द्वारा भेजे गए ईमेल पर आधारित। 

और अधिक समाचारों के लिए अगले पेज पर जाएं, दोस्तों के साथ साझा करने नीचे क्लिक करें

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

mgid

Loading...

Popular News This Week

Revcontent

Popular Posts