जनता से 2500 करोड़ जुटाने प्रीपेड कार्ड ला रहे हैं रामदेव पतंजलि | BUSINESS NEWS

18 January 2018

मीडिया रिपोर्टस बताती हैं कि बाबा रामदेव और बालकृष्ण को अपनी कंपनियों के विस्तार के लिए 10 हजार करोड़ रुपए की जरूरत है और अब कोई सोर्स शेष नहीं रह गया है। विदेशी निवेश (FDI) एक रास्ता है परंतु यह रामदेव के स्वदेशी पर सवाल उठाता है। बालकृष्ण विदेशी निवेशकों को हिस्सेदारी देने के लिए तैयार नहीं हैं। फिर भी 3000 करोड़ का इंतजाम हो गया है। अब बची रकम जुटाने के लिए BABA RAMDEV एक PREPAID CARD लेकर आ रहे हैं। इसके जरिए ना केवल बिक्री बढ़ा ली जाएगी बल्कि एक बड़ी पूंजी बिना ब्याज के कंपनी के पास आ जाएगी। इसे स्वदेशी समृद्धि कार्ड (SWADESHI SAMRIDHI CARD) नाम दिया है। 26 जनवरी को लॉन्च किया जाएगा।  

इस योजना के तहत सदस्य बनने वाले ग्राहकों को एक 'DEBIT CARD' दिया जाएगा। इसके जरिए PATANJALI STORE, HOSPITAL और AROGYA CENTER में भुगतान (PAYMENT) कर सकते हैं। इसके लिए प्रत्येक पंजीकृत केंद्रों में पीओएस मशीन की व्यवस्था की जाएगी। कार्ड पर तिरंगे के साथ योगगुरु बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण की तस्वीर भी होगी।

पतंजलि की ओर से कहा गया है कि स्वदेशी समृद्धि कार्ड से उत्पादों की खरीद पर 5 से 10 फीसदी तक विशेष छूट (CASH BACK) दिया जाएगा। यह कार्ड बनवाने के लिए आपको 150 रुपये देने होंगे। इसके अलावा वार्षिक रख-रखाव और नवीनीकरण शुल्क के रूप में 20 रुपये देने होंगे।

कार्ड को पहली बार न्यूनतम 1000 रुपये से TOP-UP करना होगा और इसमें MINIMUM BALANCE 500 रुपये होनी चाहिए। 4000 रुपये तक टॉप-अप पर सदस्यों को 5 फीसदी स्वदेशी निष्ठा राशि दी जाएगी। 4000 से 5000 तक के टॉप-अप पर 6 फीसदी और इससे अधिक राशि टॉप-अप पर 7 फीसदी स्वदेशी निष्ठा राशि मिलेगी। यानी यदि आप 1000 रुपये अपने कार्ड पर जमा कराते हैं तो आपको 1050 रुपये का बैलेंस मिलेगा।

इस कार्ड के जरिए एक दिन में 9,999 रुपये की खरीदारी कर सकते हैं। स्वदेशी समृद्धि कार्ड धारकों को स्वदेशी निष्ठा सहयोग योजना के तहत बीमा कवर दिया जाएगा। कार्ड धारक या कार्ड धारक के नोमिनी व्यक्ति की आकस्मिक मृत्यु पर 5 लाख रुपये और स्थायी विकलांगता पर ढाई लाख रुपये का सहयोग पतंजलि की ओर से किया जाएगा। बीमा का लाभ केवल उन्हीं ग्राहकों को मिलेगा जो छह महीने में कम से कम 6 हजार रुपये की खरीदारी इस कार्ड से करेंगे। पतंजलि का लक्ष्य इस योजना के तहत 5 करोड़ लोगों को जोड़ने का है। बाबा रामदेव ने पिछले दिनों कहा कि उनका लक्ष्य अगले 50 सालों में पतंजलि को सबसे बड़ी कंपनी बनाना है।

और अधिक समाचारों के लिए अगले पेज पर जाएं, दोस्तों के साथ साझा करने नीचे क्लिक करें

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Advertisement

Popular News This Week