Loading...

मिलेनियर और एम्स कॉलेज के खिलाफ सड़कों पर उतरे स्टूडेंट्स

भोपाल। राजधानी में दो कॉलेजों के विद्यार्थी मंगलवार को सड़क पर उतर आए। मनमाने ढंग से फीस वसूले जाने से नाराज मिलेनियम कॉलेज के विद्यार्थियों ने कॉलेज में जमकर हंगामा किया, तोड़फोड़ और पथराव किया। पथराव में कॉलेज संचालक घायल हो गए।
पुलिस और छात्रों के बीच भी झूमा-झटकी की नौबत आ गई। नाराज छात्रों को खदेड़ने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। इधर एम्स के छात्र भी मंगलवार को कॉलेज प्रबंधन के खिलाफ सड़क पर उतर आए। सोमवार को कॉलेज कैंपस में प्रदर्शन करने के बाद मंगलवार को शहर के चौराहों पर नुक्कड़ नाटक की प्रस्तुति देकर अपने गुस्से का इजहार किया। एम्स के स्टूडेंट्स ने इस दौरान अपनी मांगों के समर्थन में हस्ताक्षर अभियान चलाया।

मिलेनियम कॉलेज में तोड़फोड़, हंगामा

रातीबड़ स्थित मिलेनियम कॉलेज के छात्रों ने मंगलवार को सड़कों पर बवाल कर दिया। सैंकड़ों की संख्या छात्रों ने परिसर में तोड़फोड़ कर दी , छात्रों ने कॉलेज प्रबंधन पर मनमानी का आरोप लगाया है। उन्होंने कॉलेज के परिसर में बनें दो बैंक एटीएम को फोड़ दिया। साथ ही कॉलेज की बिल्डिंग के कांचों का निशाना बनाया। पुलिस ने जब छात्रों को रोका, तो वे पुलिस से भिड़ गए। ऐसे में छात्रों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने लाठी चार्ज किया। इस दौरान

कॉलेज के डायरेक्टर घायल हो गए। रातीबढ़ स्थित मिलेनियम कॉलेज की मनमाने ढंग से फीस बढ़ोतरी सहित दर्जनभर अव्यवस्थाओं के साथ छात्रों का विरोध मंगलवार को सड़कों पर आ गया। छात्रों ने भदभदा पर चक्काजाम कर दिया। पुलिस ने छात्रों बमुश्किल सझाइश देकर जाम खुलवाया तो छात्र कॉलेज पहुंच गए।

संचालक घायल

नाराज छात्रों ने इस दौरान पथराव कर दिया, जिससे कॉलेज के डायरेक्टर एनकेएस यादव को चेहरे पर चोट लगी। इसके पथराव के बाद पुलिस उनको बचाकर कॉलेज के अंदर ले गई। इस पथराव कॉलेज प्रबंधन के दो वाहन भी क्षतिग्रस्त हो गए।

पुलिस का लाठीचार्ज

इंजीनियरिंग कॉलेज के मुख्य द्वार पर प्रदर्शन करते समय कुछ छात्रों ने फिर पथराव शुरू किया, तो इस पर पुलिस ने छात्रों को खदेड़ने के लिए जमकर लाठीचार्ज किया। इसके बाद पुलिस ने कुछ छात्रों को पकड़ भी गया है।

पुलिस ने भांपा गुस्सा

कॉलेज प्रबंधन के खिलाफ छात्रों के गुस्से को पुलिस ने भदभदा पुल के प्रदर्शन के दौरान ही भांप लिया था। इसको लेकर पुलिस ने दो संभागों के सीएसपी एमपीनगर अरविंद खरे , टीटीनगर सीएसपी आरडी भारद्वाज और चूनाभट्टी टीआई जितेंद्र पाठक, कमलानगर टीआई मनीषराज भदौरिया , टीटीनगर टीआई राजकुमार सराफ , रातीबड़ टीआई अभय नेता के अलावा थानों से अतिरिक्त पुलिस बल बुलवा लिया था।

मांग पत्र सौंपा

पुलिस ने छात्रों की मांगों के संबंध में कलेक्टर को मौखिक रूप से बता दिया था। इसके बाद हुजूर एसडीएम रातीबड़ में ही दौरे पर ही थे, उनको मौके पर भेजा गया। जहां आक्रोशित छात्रों ने अपनी मांगों को दस बिंदुओं में तहसीलदार आकाश श्रीवास्तव को सौंपा। छात्रों ने आवेदन में गंभीर आरोप लगाए हैं।

छात्रों पर बलवा दर्ज

मिलेनियम कॉलेज के इंजीनिरिंग छात्रों पर सुशील निगम मुख्य कॉलेज अधिकारी की शिकायत पर पुलिस ने डेढ़ सौ छात्रों के खिलाफ बलवे की धाराओं में अपराधिक प्रकरण दर्ज कर लिया, इनमें तीन छात्रों की पहचान उजागर हुई है, इनमें रमाकांत, धनंजय और ओमदुबे बताए गए है।

छात्रों ने कॉलेज परिसर में किया पथराव

मिलेनियम कॉलेज की मनमानी छात्रों के गुस्से में साफ नजर आ रही थी। छात्रों ने कॉलेज के परिसर में स्थित यूनियन बैंक और पीएनबी के बैंक एटीम को बुरी तरह से तोड़ दिया, इसके बाद गुस्साए छात्र कॉलेज की बिल्डिंग पर पथराव करने लगे, जहां कॉलेज की बिल्डिंग के कांच बुरी तरह टूट गए। प्रबंधन ने इसकी सूचना तत्काल पुलिस को दी ।

पुलिस से भिड़े छात्र ,जमकर हुआ पथराव

मिलेनियम कॉलेज में गुस्साए छात्रों को रोकने के लिए रातीबड़ पुलिस पहुंची, जहां पुलिस को देखकर छात्र और अधिक उत्तेजित हो गए , छात्रों ने पुलिस को देखकर उन पर भी पथराव कर दिया, साथ इस पथराव में पुलिस की गाड़ियां के कांच बुरी तरह से टूट गए। इस पथराव में चुनिंदा पुलिस कर्मियों को भी चोटें आई हैं।

एम्स के छात्रों का नुक्कड़ नाटक

सोमवार को एम्स कैंपस में भवन के सामने प्रदर्शन करने से पुलिस द्वारा हटाए गए एम्स के विद्यार्थी मंगलवार को सड़कों पर उतर आए। उन्होंने चौराहों पर नुक्कड़ नाटक कर अव्यवस्थाओं व असुविधाओं के बारे में आम जन को सूचित कर हस्ताक्षर अभियान भी चलाया। मौके पर ही विद्यार्थियों ने अपील के पर्चे बांटने के साथ राहगीरों से आवेदन पर भी हस्ताक्षर लिए। एम्स प्रबंधन के रवैए से निराश एम्स के एमबीबीएस (प्रथम व द्वितीय वर्ष ) और नर्सिंग के छात्र-छात्राएं सुबह से ही नारे लिखी तख़्तियां लटकाए शहर के चौराहों पर पहुंच गए। छात्रों का एक गुट जहां आमजन को रोक कर अपनी वर्तमान स्थिति से अवगत करा हस्ताक्षर करवा रहे थे, तो वहीं दूसरी ओर एक गुट नुक्कड़ से अपनी व्यथा व्यक्त कर रहा था। बोर्ड आॅफिस चौराहे पर एप्रिन पहने साथियों के साथ काले कपडेÞ पहने थाली पीटते नुक्कड़ नाटक करते छात्रों को राहगीरों ने रुककर सुना और हस्ताक्षर किए। माजरा समझने के लिए अपनी कार रोककर उतरे बिजनेसमेन नरेंद्र कुमार सिंघल ने बताया कि,‘यह वाकई गलत है कि छात्रों को सड़क पर उतरना पड़ा, जिन्हें मरीजों को देखना है यदि वे अपने हक की लड़ाई लड़ते रहेंगे तो पढ़ेंगे कब? मेरा मानना है कि सभी को इनका साथ देना चाहिए।’ चौराहे से गुजर रहे कोचिंग संचालक विनय वाजपेयी ने बताया कि ‘बच्चे इन संस्थानों में प्रवेश के लिए दिन-रात एक कर देते है। प्रवेश के बाद उच्च गुणवत्ता शिक्षा इनका पहला अधिकार है। यदि एम्स ने इनके लिए तैयारी पूरी नहीं की थी तो पाठ्यक्रम शुरु नहीं होने थे।’ छात्रों ने बताया कि बुधवार को हड़ताल पर गए छात्र बोर्ड आॅफिस चौराहे से मेजर नानके पेट्रोल पंप तक जुलूस निकालेंगे। इसके लिए उन्होंने प्रशासन से अनुमति भी ले ली है।

इन स्थानों पर किए प्रदर्शन

छात्रों ने दो पालियों में प्रमुख रुप से भोपाल के छह स्थानों पर विरोध प्रदर्शन किया। एम्स की अव्यवस्थाओं को उन्होंने बोर्ड आफिस चौराहा, हबीबगंज नाका, थर्ड स्टॉप, बड़ा तालाब, मिनाल रेसीडेंसी के पास और पिपलानी में हस्ताक्षर अभियान और नुक्कड़ नाटक किया।