Bhopal City Information के सदस्यों ने पेड़ों को रक्षा सूत्र बांधकर संघर्ष की शपथ उठाई

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के सबसे बड़े फेसबुक ग्रुप "Bhopal City Information" के सदस्यों ने आज मंत्रियों के लग्जरी बंगलो के लिए 29000 पेड़ काटे जाने के फैसले का विरोध करते हुए पेड़ों को रक्षा सूत्र बांधे और वृक्षों की रक्षा के लिए संघर्ष की शपथ उठाई। 

पर्यावरणविद् उमाशंकर तिवारी की अपील पर सैकड़ों लोग जमा हो गए

Bhopal City Information फेसबुक ग्रुप के संस्थापक श्री रजनीश खरे के संयोजन में लगभग 500 से अधिक सदस्य नूतन कॉलेज के सामने पहुंचे। ग्रुप के कंट्रीब्यूटर उमाशंकर तिवारी ने इसके लिए अपील की थी। सदस्यों ने वृक्षों को रक्षा सूत्र बांधकर सरकारी कुल्हाड़ी के खिलाफ संघर्ष की शपथ उठाई और जमकर नारेबाजी की। उल्लेखनीय है कि भोपाल का तापमान हर साल बढ़ता जा रहा है। शहर में औद्योगिक प्रदूषण और एयर कंडीशनर की संख्या भी बढ़ती जा रही है। इसके कारण यह निश्चित हो जाता है कि आने वाले सालों में तापमान और ज्यादा बढ़ेगा। सिर्फ पेड़ ही है जो वातावरण को शीतल बना सकते हैं। इंडस्ट्रियल पॉल्यूशन और एयर कंडीशनर से निकलने वाली गर्मी से भोपाल को बचा सकते हैं। 

पेड़ जितना पुराना होता है उतना ही ताकतवर हो जाता है

पर्यावरणविद् उमाशंकर तिवारी क्या कहना है कि यह पेड़ लगभग 70 साल पुराने हैं। पेड़ जितना पुराना होता है उतना ही ताकतवर हो जाता है। पेड़ की हाइट और पत्तों की संख्या के साथ-साथ पेड़ की उम्र बहुत महत्वपूर्ण होती है। इधर मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव की ओर से कहा गया है कि, फिलहाल इस योजना पर कोई काम नहीं शुरू किया गया है। नगरीय प्रशासन मंत्री श्री कैलाश विजयवर्गीय द्वारा कहा गया है कि, पेड़ों को काटा नहीं जाएगा बल्कि उन्हें ट्रांसप्लांट किया जाएगा। हालांकि दुनिया भर में 29000 पेड़ों को ट्रांसप्लांट करने का अब तक कोई रिकॉर्ड नहीं है। 

विनम्र अनुरोध 🙏कृपया हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें। सबसे तेज अपडेट प्राप्त करने के लिए टेलीग्राम चैनल सब्सक्राइब करें एवं हमारे व्हाट्सएप कम्युनिटी ज्वॉइन करें। इन सबकी डायरेक्ट लिंक नीचे स्क्रॉल करने पर मिल जाएंगी। भोपाल के महत्वपूर्ण समाचार पढ़ने के लिए कृपया स्क्रॉल करके सबसे नीचे POPULAR Category में Bhopal पर क्लिक करें।

Tags

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Check Now
Accept !